समाचार प्लस
देश बिहार

नीतीश के पूर्ण शराबबंदी वाले बिहार में एक औऱ जहरीली शराब कांड: बेतिया में अब तक 9 की मौत, दर्जनों की हालत गंभीर

बेतिया के लौरिया में जहरीली शराब पीने से लगभग 9 लोगों की मौत हो गई है, हालांकि प्रशासन इसकी पुष्टि नहीं कर रही है जो एक जांच का विषय है । प्रशासन कुछ भी बोलने से इनकार कर रहा है। नीतीश कुमार के पूर्ण शराबबंदी वाले राज में एक औऱ जहरीली शराब कांड हो गया है. जहरीली शराब पीने से अब तक 8 लोगों की मौत होने की खबर है. जहरीली शराब पीने वाले दर्जनों औऱ लोगों की हालत गंभीर बानी हुई है. सरकार इसकी पुष्टि नहीं कर रही है कि जहरीली शराब से मौत हुई है. लेकिन मृतकों के परिजन बता रहे हैं कि शराब पीने के बाद ही तबीयत बिगड़ी औऱ जान चली गयी. प्रशासन मामले की जांच पड़ताल करने की बात कह रहा है.

लौरिया में कोहराम

मामला बेतिया यानि पश्चिम चंपारण जिले के देवराज पंचायत के देउरवा गांव का है. पिछले दो दिनों में इस गांव के आठ लोगों की मौत हो गयी है. एक दर्जन से ज्यादा लोग गंभीर रूप से बीमार हैं. सरकारी और निजी अस्पतालों में उनका इलाज चल रहा है. कई लोगों की आंखों की रोशनी चली गयी है. मृतकों औऱ बीमार लोगों के परिजन बता रहे हैं कि सब ने शराब पी थी जिसके बाद ये सब हुआ. दो दिनों में आठ लोगों की मौत औऱ कई और की हालत गंभीर होने से गांव में कोहराम मचा हुआ है.

आनन-फानन में हुआ अंतिम संस्कार

जहरीली शऱाब पीने से जिन लोगों की मौत होने की जानकारी सामने आ रही है, उन सबों का आनन फानन में अंतिम संस्कार कर दिया गया. गांव के एक व्यक्ति ने बताया कि स्थानीय चौकीदार के माध्यम से पुलिस मैसेज भिजवा रही थी. उसी मैसेज के आधार पर सबों का आनन फानन में अंतिम संस्कार कर दिया गया. गांव के लोग मृतकों का नाम बता रहे हैं. देउरवा गांव में जहरीली शराब से जिन लोगों की मौत हुई है उनमें बिकाउ मियां, लतीफ साह और रामवृक्ष चौधरी, बलुई गांव के नईम हजाम, सीतापुर गांव के भगवान पांडा, जोगिया गांव के सुरेश साह, बगही गांव के रातुल मियां और गौनही गांव के झुन्ना मियां शामिल हैं. सारे मृतकों के शवों का अंतिम संस्कार कर दिया गया है.

जहरीली शराब का मामला छिपाने की कोशिश

जहरीली शराब पीने के बाद कई लोग गंभीर रूप से बीमार हुए हैं. तेलपुर गांव के इजाहर मियां का इलाज बेतिया मेडिकल कॉलेज अस्पताल में किया जा रहा है. बेतिया, रामनगर समेत आस-पास के निजी क्लिनिकों में भी कई बीमार लोगों का इलाज किया जा रहा है. देउरवा गांव के मुमताज अंसारी का इलाज रामनगर के एक निजी क्लिनिक में किया जा रहा है. ग्रामीणों ने बताया कि अस्पतालों के पुर्जे पर शराब पीने की बात नहीं लिखी गयी है. जबकि बीमार होने वाले सभी लोगों ने जानकारी दी है कि उन्होंने शऱाब पी थी जिसके बाद तबीयत बिगड़ गयी. लोगों ने बताया कि स्थानीय थाना औऱ प्रशासन जहरीली शराब का मामला छिपाने की कोई कोशिश नहीं बाकी रख रहा है.

betia
खुलेआम बिक रही शराब, पीते ही तबीयत बिगड़ी

ग्रामीणों ने बताया कि देउरवा गांव में खुलेआम शराब बिकती है. आस-पास के गांवों के लोग भी देउरवा में शराब पीने आते हैं. मंगलवार की शाम दो दर्जन से ज्यादा लोगों ने शराब के अड्डे पर दारू पी थी. उसके कुछ देर बाद से ही सारे लोगों की तबीयत बिगड़नी शुरू हुई. थोड़ी देर में ही सारे लोगों की तबीयत बेहद खराब हो गयी. कम से कम 8 लोगों की मौत हुई है. कई लोगों की आंखों की रोशनी चली गयी है.

जहरीली शराब पीने से जोगिया गांव के सुरेश साह की मौत हो गयी. सुरेश साह के साला भऱत साह ने बताया कि उनके जीजा ने मंगलवार को देउरवा में शराब पी औऱ उसके बाद मछली बेचने बगही बाजार चले गये थे. वहीं उनकी तबीयत खऱाब हुई तो घर के लोगों को खबर किया. परिजन सुरेश साह को साथ लेकर घऱ चले आये. रात में सुरेश साह की आंखों की रोशनी चली गयी. परिजन रात में ही उन्हें पड़ोस के रामनगर के एक निजी क्लीनिक में ले गये लेकिन डॉक्टरों ने सुरेश साह की हालत देख कर इलाज से इंकार कर दिया. हार कर सुरेश साह को बेतिया ले जाया जाने लगा लेकिन रास्ते में ही उन्होंने दम तोड़ दिया. हालांकि परिजन सुरेश साह की बॉडी को लेकर बेतिया के मेडिकल कॉलेज अस्पताल गये. वहां डॉक्टरों ने मृत घोषित करते हुए उन्हें घर ले जाने को कहा.

प्रशासन बोला-अभी हम जांच ही करा रहे हैं

वाकये के 48 घंटे बाद भी सरकार औऱ प्रशासन कह रही है कि मामले की जांच करायी जा रही है. पश्चिम चंपारण के डीएम कुंदन कुमार ने मीडिया को बताया कि उन्हें घटना के बारे में जानकारी मिली है. गांव में मेडिकल टीम भेजी गयी है, उसकी जांच रिपोर्ट आने के बाद ही मामला स्पष्ट हो पायेगा. उधर चंपारण के डीआईजी ललन मोहन प्रसाद ने कहा कि पुलिस को मामले की खबर मिली है, लेकिन कितनी मौत हुई औऱ कारण क्या है इसकी पुष्टि नहीं हो पायी है. मामले की जांच के बाद ही कोई आधिकारिक जानकारी दी जा सकती है.

ये भी पढ़ें : बिहार शिक्षक नियुक्ति में बड़े पैमाने पर घोटाला, शिक्षा मंत्री की सख्त कार्रवाई, 400 इकाइयों की नियुक्तियां रद्द*

Related posts

निलंबित DSP के घर पर छापा: आय से अधिक संपत्ति के मामले में पटना के फ्लैट और बेतिया के पुश्तैनी घर पर EOW टीम ने दी दबिश

Manoj Singh

Delhi High Court: देश के पहले समलैंगिक जज होंगे सौरभ कृपाल, SC कॉलेजियम ने दी मंजूरी

Manoj Singh

Pune Building Collapsed: पुणे में मॉल का स्लैब गिरा, बिहार के 5 मजदूरों की मौत

Manoj Singh