समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

PM Modi Speech: ‘जय जवान, जय किसान.. अब ‘जय अनुसंधान’…लालकिले से पीएम नरेंद्र मोदी ने दिलाए 5 संकल्प, 25 सालों का लक्ष्य 

image source : social media

PM Modi Speech: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लाल किले की प्राचीर पर 9वीं बार ‘तिरंगा’ फहराया। इसके बाद पीएम मोदी(PM Modi) ने देश को संबोधित करते हुए कहा कि आज का दिन ऐतिहासिक है। पीएम नरेंद्र मोदी ने स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ के ऐतिहासिक मौके पर लाल किले से देश को 5 संकल्प  दिलाए हैं। उन्होंने कहा कि अगले 25 सालों में जब देश अपनी आजादी के 100 साल पूरे करेगा, तब तक हमें इन संकल्पों को पूरा करना है। उन्होंने  कहा, ‘मुझे लगता है कि आने वाले 25 सालों के लिए हमें अपने संकल्पों को 5 आधारों पर केंद्रित करना होगा। हमें उन पंच प्रण को लेकर 2047 में जब आजादी के 100 साल होंगे तो आजादी के दीवानों के सपनों को पूरा करना होगा।’

image source : social media
image source : social media

5 बड़े संकल्प लेकर चलना होगा

पीएम नरेंद्र मोदी ने लाल किले की प्राचीर से कहा कि हमें 5 बड़े संकल्प लेकर चलना होगा। इनमें से एक संकल्प होगा, विकसित भारत।  दूसरा यह कि किसी भी कोने में गुलामी का अंश न रह जाए। अब हमें शत-प्रतिशत उन गुलामी के विचारों से पार पाना है, जिसने हमें जकड़कर रखा है। हमें गुलामी की छोटी से छोटी चीज भी नजर आती है तो हमें उससे मुक्ति पानी ही होगी। उन्होंने कहा कि कब तक दुनिया हमें सर्टिफिकेट देती रहेगी। क्या हम अपने मानक नहीं बनाएंगे। हमें किसी भी हालत में औरों के जैसा दिखने की कोशिश करने की जरूरत नहीं है। हम जैसे भी हैं, वैसे ही सामर्थ्य के साथ खड़े होंगे। यह हमारी मिजाज है।

image source : social media
image source : social media

अपनी विरासत पर गर्व होना चाहिए

उन्होंने कहा कि तीसरी प्रण शक्ति यह है कि हमें अपनी विरासत पर गर्व होना चाहिए। यही विरासत है, जिसने कभी भारत को स्वर्णिम काल दिया था। यही विरासत है, जो काल बाह्य छोड़ती रही है और नूतन को स्वीकारती रही है। पीएम मोदी ने कहा कि हमारी विरासत में ही पर्यावरण जैसी जटिल समस्या का समाधान रहा है। पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि हमारी संस्कृति वह है, जो जीव में शिव देखती है और कंकर में शंकर देखती है। हमारी यह परंपरा ही बताती है कि कैसे पर्यावरण के साथ रहा जा सकता है।

देश में एकता रहे और एकजुटता रहे

उन्होंने कहा कि चौथा प्रण यह है कि देश में एकता रहे और एकजुटता रहे। देश के 130 करोड़ देशवासियों में एकता रहे। यह हमारा चौथा प्रण है। पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि हमें हर किसी का सम्मान करना होगा। श्रम को अच्छे नजरिए से देखना होगा और श्रमिकों का सम्मान करना होगा।

 देश के नागरिकों का कर्तव्य देश को आगे बढ़ाएगा

पीएम ने कहा कि 5वां प्रण है नागरिकों का कर्तव्य। इससे प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री भी बाहर नहीं हैं। पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि यह देश तभी आगे बढ़ सकता है, जब हम अपने कर्तव्यों का पालन करें। प्रधानमंत्री ने कहा कि यदि सरकार का कर्तव्य है कि वह हर समय बिजली की सप्लाई दे तो यह नागरिक का कर्तव्य है कि वह कम से कम यूनिट खर्च करे। यदि सरकार सिंचाई के लिए पानी दे तो नागरिक का कर्तव्य है कि वह पानी की ज्यादा से ज्यादा बचत करे।

महिलाओं का सम्मान हो 

इस दौरान पीएम नरेंद्र मोदी ने नारी का सम्मान करने की भी अपील की। उन्होंने कहा कि हमारी बोलचाल में कुछ विकृति आई है। हम नारी का अपमान करते हैं। क्या हम रोजमर्रा की जिंदगी में नारी को अपमानित करने वाली हर बात से मुक्ति का संकल्प ले सकते हैं? नारी का सम्मान करना देश की प्रगति के लिए बहुत जरूरी है और हमें ऐसे शब्दों का त्याग करना चाहिए, जिससे महिलाओं का अपमान होता हो।

ये भी पढ़ें : बंगाल की खाड़ी में बना लो प्रेशर, झारखंड में अगले दो दिनों तक होगी झमाझम बारिश

 

Related posts

Indian Railway : टिकट बुक करते समय खास कोड का रखना होगा ध्यान, वरना नहीं मिलेगी सीट

Manoj Singh

Twin towers demolition: काउंटडाउन शुरू, बस कुछ ही देर बाद …जमींदोज हो जाएंगे ट्विन टावर

Manoj Singh

Chirudih Case: योगेंद्र साव और पूर्व विधायक निर्मला देवी को 10 साल की सजा

Manoj Singh