समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

PM Modi on NEP:  PM ने कहा-14 इंजीनियरिंग कॉलेज में हो सकेगी भारतीय भाषाओं में पढ़ाई

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राष्ट्रीय शिक्षा नीति (NEP) 2020 की घोषणा के एक वर्ष पूरा होने के अवसर पर आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से देश भर के नीति निर्माताओं और हितधारकों को संबोधित किया. करीब 24 मिनट लंबे उद्बबोधन में प्रधानमंत्री ने बापू राष्ट्रपति महात्मा गांधी के सपनों के भारत से लेकर आधुनिक और आत्मनिर्भर भारत का मंत्र साकार करने की दिशा में राष्ट्रीय शिक्षा नीति को एक महत्वपूर्ण कदम के तौर पर उल्लेखित किया है।

14 इंजीनियरिंग कॉलेज में हो सकेगी भारतीय भाषाओं में पढ़ाई

प्रधानमंत्री ने कहा कि मुझे खुशी है कि आठ राज्यों के 14 इंजीनियरिंग कॉलेज, पांच भारतीय भाषाओं- हिंदी – तमिल, तेलुगू, मराठी और बांग्ला में इंजीनियरिंग की पढ़ाई शुरू करने जा रहे हैं। इंजीनिरिंग के कोर्स का 11 भारतीय भाषाओं में ट्रांसलेशन के लिए एक टूल भी विकसित किया जा चुका है।

देश को हर दिशा में समर्थ और आत्मनिर्भर होना होगा

राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 की पहली वर्षगांठ पर देश को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि हमने-आपने दशकों से ये माहौल देखा है जब समझा जाता था कि अच्छी पढ़ाई करने के लिए विदेश ही जाना होगा। लेकिन अच्छी पढ़ाई के लिए विदेशों से स्टूडेंट्स भारत आएं, बेस्ट इंस्टीट्यूशन भारत आएं, ये अब हम देखने जा रहे हैं।

पीएम मोदी ने कहा कि आज बन रही संभावनाओं को साकार करने के लिए हमारे युवाओं को दुनिया से एक कदम आगे होना पड़ेगा, एक कदम आगे का सोचना होगा। हेल्थ हो, डिफेंस हो, इंफ्रास्ट्रक्चर हो, टेक्नाेलॉजी हो, देश को हर दिशा में समर्थ और आत्मनिर्भर होना होगा।

एआई ड्र्रिवन इकोनॉमी के रास्ते खोलेगा

प्रधानमंत्री ने राष्ट्र को संबोधित करते हुए कहा कि नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति युवाओं को ये विश्वास दिलाती है कि देश अब पूरी तरह से उनके साथ है, उनके हौसलों के साथ है। जिस आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस के प्रोग्राम को अभी लॉन्च किया गया है, वह भी हमारे युवाओं को फ्यूचर ओरिएंटेड बनाएगा, एआई ड्र्रिवन इकोनॉमी के रास्ते खोलेगा।

आज के युवा को एक्सपोजर चाहिए

प्रधानमंत्री ने कहा कि 21वीं सदी का आज का युवा अपनी व्यवस्थाएं, अपनी दुनिया खुद अपने हिसाब से बनाना चाहता है। इसलिए, उसे एक्सपोजर चाहिए, उसे पुराने बंधनों, पिंजरों से मुक्ति चाहिए। मल्टीपल एंट्री और एग्जिट की जो व्यवस्था आज शुरू हुई है, इसने विद्यार्थियों को एक ही क्लास और एक ही कोर्स में जकड़े रहने की मजबूरी से मुक्त कर दिया है।

नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति राष्ट्र निर्माण के महायज्ञ में बड़े फैक्टर्स में से एक

भविष्य में हम कितना आगे जाएंगे, कितनी ऊंचाई प्राप्त करेंगे, ये इस बात पर निर्भर करेगा कि हम अपने युवाओं को वर्तमान में यानी आज कैसी शिक्षा दे रहे है, कैसी दिशा दे रहे हैं। मैं मानता हूं भारत की नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति राष्ट्र निर्माण के महायज्ञ में बड़े फैक्टर्स में से एक है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति को एक साल पूरा होने पर सभी देशवासियों और सभी विद्यार्थियों को बहुत-बहुत शुभकामनाएं। बीते एक वर्ष में देश के आप सभी महानुभावों, शिक्षकों, प्रधानाचार्यों, नीतिकारों ने राष्ट्रीय शिक्षा नीति को धरातल पर उतारने में बहुत मेहनत की है।

यह भी पढ़ें : BJP सांसद को ‘बिहारी गुंडा’ कहने पर बिहार में गरमाई सियासत

Related posts

Petrol-Diesel prices: आज रात से बढ़ सकती है पेट्रोल-डीजल की कीमतें! जानिए लेटेस्ट अपडेट

Manoj Singh

ओम बिड़ला का दावा : 2022 में आजादी के 75 साल पूरा होने का जश्न नये संसद भवन में मनायेंगे

Pramod Kumar

Godda : CM हेमन्त सोरेन मंदिर के प्राण- प्रतिष्ठा कार्यक्रम में शामिल हुए, कहा – मंदिर मस्जिद -गुरुद्वारा -चर्च किसी एक मजहब और तबके का नहीं

Manoj Singh