समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर राँची

PM Cares : कोरोना से अनाथ 86 बच्चों को नहीं मिला मां-पिता का मृत्यु प्रमाण पत्र, कैसे लेंगे लाभ?

PM Cares : कोरोना से अनाथ 86 बच्चों को नहीं मिला मां-पिता का मृत्यु प्रमाण पत्र, कैसे लेंगे लाभ?

न्यूज़ डेस्क/ समाचार प्लस झारखंड – बिहार

पीएम केयर्स (PM Cares) फॉर चिल्ड्रन योजना के तहत उन बच्चों को सहायता राशि देने की बात कही गई है जिन्होंने कोरोना महामारी के कारण अपने माता-पिता या अभिभावक दोनों को को दिया है. इसके साथ ही ऐसे बच्चों को 18 साल की उम्र में मासिक सहायता  राशि और 23 साल की उम्र में पीएम केयर्स से 10 लाख रुपए का फंड भी दी जाने की बात कही गई है. लेकिन झारखंड में कोरोना से अपने माता और पिता दोनों को खो चुके राज्य के 106 अनाथ बच्चों में से 86 बच्चों को  पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रेन का लाभ नहीं मिलेगा। इसका कारण यह है कि इनके पास अपने अभिभावकों की मृत्यु कोविड से होने का सर्टिफिकेट ही नहीं है, जबकि इस योजना का लाभ पाने के लिए यह अनिवार्य शर्त है।

ऑनलाइन आवेदन भरने की अंतिम तिथि 31 दिसंबर

ऑनलाइन आवेदन भरने की अंतिम तिथि 31 दिसंबर है। पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रेन की गाइडलाइन के अनुसार 18 वर्ष से कम वैसे बच्चे, जिन्होंने कोविड के दौरान अपने माता और पिता दोनों, सरवाइविंग पैरेंट्स या गोद लिए हुए अभिभावकों को खोया है, उन्हें 23 वर्ष की उम्र पूरी होने पर 10 लाख रुपए मिलेंगे।

बगैर सर्टिफिकेट के फॉर्म ऑनलाइन अपलोड नहीं हो सकता

18 वर्ष की उम्र तक ऐसे बच्चों की पढ़ाई-लिखाई, भोजन और अन्य सभी आवश्यकता की चीजें मुफ्त दी जाएंगी। समाज कल्याण विभाग को जाे सूचना मिली है, उसके अनुसार माता-पिता दोनों को खोने वाले अनाथ हुए बच्चों में से सिर्फ 20 बच्चों को ही उनके पैरेंट्स के कोविड से मृत्यु होने का सर्टिफिकेट मिला है। बगैर सर्टिफिकेट के पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रेन का फॉर्म ऑनलाइन अपलोड नहीं हो सकता।

 इन बच्चों को मिलेंगे ये लाभ

उम्र 18 वर्ष से कम होनी चाहिए, लाभुक बच्चे को 23 की उम्र में मिलेंगे 10 लाख रु.।

18 वर्ष की उम्र तक ऐसे बच्चों की पढ़ाई-लिखाई, भोजन और अन्य सभी आवश्यकता की चीजें मुफ्त दी जाएंगी।

10 वर्ष तक ये बच्चे बाल केंद्रों में रहेंगे, 11 वें वर्ष में इनका एडमिशन कस्तूरबा गांधी विद्यालय, एकलव्य मॉडल स्कूल, सैनिक स्कूल, नवोदय स्कूल आदि में होगा।

आयुष्मान योजना के अंतर्गत 5 लाख रुपए तक का स्वास्थ्य बीमा कवर भी होगा।

ऐसे सभी बच्चों को 18 वर्ष तक मिलेंगे ये लाभ

10 वर्ष तक ये बच्चे बाल केंद्रों में रहेंगे, जबकि 11 वर्ष के बाद इन बच्चों का एडमिशन कस्तूरबा गांधी विद्यालय, एकलव्य मॉडल स्कूल, सैनिक स्कूल, नवोदय स्कूल या किसी अन्य आवासीय विद्यालय में होगा। आयुष्मान योजना के अंतर्गत 5 लाख रुपए तक का स्वास्थ्य बीमा कवर होगा। इन सभी बच्चों को 18 वर्ष तक ये लाभ मिलेंगे।

मौत का कारण कोविड दर्ज है, पर प्रमाणपत्र नहीं मिला

यह अपने आप में एक विडंबना है कि विभाग की फाइलों में मौत का कारण कोविड को बताया गया है, पर उन्हें सर्टिफिकेट नहीं मिला है। पंचायत के मुखिया, गांवों के वार्ड सदस्य, साहिया, आंगनबाड़ी सेविका और पंचायत सचिवों की अनुशंसा पर यह सूची तैयार हुई है। इन्होंने अपनी अनुशंसा में बताया है कि अस्पतालों में ये सभी कोरोना के कारण भर्ती हुए थे, जहां उनकी मृत्यु हुई।

सर्टिफिकेट बनवाने में सभी डीसी मदद करें : निदेशक

समाज कल्याण निदेशक का इस सम्बन्ध में कहना है कि सभी डीसी को कहा गया है, वे सर्टिफिकेट बनवाने में मदद करें। खुद से इस मामले में पहल करते हुए इसका शीघ्र समाधान करने का निर्देश दिया गया है। उनका कहना है  कि अगर अस्पताल से सर्टिफिकेट मिलने में दिक्कत हो तो पंचायत के मुखिया, पंचायत सेवक या आंगनबाड़ी सेविका के दिए सर्टिफिकेट को मानने का आग्रह किया जाएगा।

ये भी पढ़ें : MS Dhoni का 2022 में भी जलवा दिखना तय, अब माही को रिटेन करने की जिम्मेवारी CSK पर

Related posts

घाटी छोड़ घर भाग रहे प्रवासी मजदूर, कश्मीर से घर जा रहे लोगों ने बयां किया वो दर्दनाक मंजर

Manoj Singh

Jamshedpur: पीएम मोदी ने उत्तराखंड से किया नवनिर्मित पीएसए ऑक्सीजन प्लांट का वर्चुअली उद्घाटन

Pramod Kumar

अमित खरे पीएम मोदी के सलाहकार नियुक्त, एजुकेशन पॉलिसी तैयार करने में रही है अहम भूमिका

Manoj Singh

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.