समाचार प्लस
Breaking अंतरराष्ट्रीय देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

‘विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस’ भारत में, बौखलाहट पाकिस्तान में, फैसले पर जतायी नाराजगी

‘विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस’ भारत में, बौखलाहट पाकिस्तान में

भारत ने हर वर्ष 14 अगस्त को ‘विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस’ के रूप में याद करने का फैसला लिया है। प्रधानमंत्री का यह फैसला पाकिस्तान के दिल पर हथौड़े की तरह लगा है। बता दें, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जश्न-ए-आजादी के एक दिन पहले यानी 14 अगस्त को अपने संबोधन में देश के बंटवारे का जिक्र करते हुए कहा था, ‘वह दर्द सीने को छलनी करता है।’ साथ ही इस दिन को ‘विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस’ के रूप में मनाये जाने का फैसला लिया।

यह बात आतंकिस्तान यानी पाकिस्तान को चुभ गयी है। बात चुभी है तो उसकी प्रतिक्रिया देगा ही। पाकिस्तान ने पीएम मोदी के इस फैसले की आलोचना की है। पाकिस्तान विदेश मंत्रालय की ओर ने पीएम मोदी के इस फैसले को शर्मनाक बताया गया है। 14 अगस्त को अपनी आजादी का दिवस मनाने वाला भारत के इस फैसले पर नाराजगी जता रहा है।

क्या कहा था मोदी ने?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 14 अगस्त को एक ट्वीट में कहा था- “देश के बंटवारे के दर्द को कभी भुलाया नहीं जा सकता। नफरत और हिंसा की वजह से हमारे लाखों बहनों और भाइयों को विस्थापित होना पड़ा और अपनी जान तक गंवानी पड़ी। उन लोगों के संघर्ष और बलिदान की याद में 14 अगस्त को ‘विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस’ के तौर पर मनाने का निर्णय लिया गया है”।

लाल किले के प्राचीर से भी पीएम ने यही बात दोहरायी

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भारत 75वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर भी लाल किले के प्राचीर से यही बात दोहरायी। लाल किले से उन्होंने कहा कि, हम आजादी का जश्न मनाते हैं, लेकिन बंटवारे का दर्द आज भी हिंदुस्तान के सीने को छलनी करता है। यह पिछली शताब्दी की सबसे बड़ी त्रासदी में से एक है। अब से 14 अगस्त को विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस के रूप में याद किया जाएगा।

यह भी पढ़ें: जम्मू-कश्मीर: आतंकी बुरहान वानी के पिता ने फहराया तिरंगा, गाया राष्ट्रगान

Related posts

महिला प्रभारी पर बच्चे के साथ मारपीट का आरोप, बच्चे ने कहा- पुलिस आंटी गंदी है

Sumeet Roy

Hazaribagh में ट्रक की चपेट में आए Tution जा रहे बच्चे, एक की मौत, दो की हालत गंभीर

Manoj Singh

Voting: धीरे-धीरे पुरुषों से आगे निकल गयीं महिलाएं, 1971 के मुकाबले 235% बढ़ीं महिला मतदाता

Pramod Kumar

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.