समाचार प्लस
Breaking अंतरराष्ट्रीय देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

Pandora Papers: अमीरों के गुप्त लेनदेन का खुलासा, सचिन के बाद अनिल अंबानी, जैकी श्रॉफ, नीरा राडिया समेत ये नाम आए सामने

Pandora Papers: सचिन के बाद अनिल अंबानी, जैकी श्रॉफ, नीरा राडिया समेत ये नाम आए सामने

न्यूज़ डेस्क/ समाचार प्लस झारखंड- बिहार
इंटरनेशनल कंसोर्टियम ऑफ इन्वेस्टिगेटिव जर्नलिस्ट (ICIJ) के पेंडोरा पेपर्स (Pandora Papers) के खुलासे ने खलबली मचा रखी है. पेंडोरा पेपर्स लीक में भारतीय क्रिकेट के मास्टर ब्लास्टर कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर  का नाम भी सामने आया है. उनके बाद अब अनिल अंबानी , विनोद अडानी , जैकी श्रॉफ, किरण मजूमदार शॉ, नीरा राडिया और समेत कई भारतीयों के नाम भी सामने आए हैं.

क्‍या है पैंडोरा पेपर्स लीक ?

पैंडोरा पेपर्स (भानुमति से पिटारे से निकले दस्तावेज) असल में 1.2 करोड़ दस्‍तावेजों के लीक का नाम है. इनके जरिए दुनिया के कई रईस और ताकतवर लोगों की छिपी हुई दौलत सामने आई है. कुछ मामलों में मनी लॉन्ड्रिंग की जानकारी भी मिली है. 117 देशों के 600 से ज्‍यादा पत्रकारों ने महीनों तक 14 सोर्सेज से आए दस्‍तावेज खंगाले. यह डेटा वॉशिंगटन डीसी स्थित इंटरनैशनल कंसोर्टियम ऑफ इनवेस्टिगेटिव जर्नलिस्‍ट्स (ICIJ) को मिला था. ICIJ दुनियाभर के 140 से ज्‍यादा मीडिया संस्‍थानों के साथ मिलकर इतनी बड़ी ग्‍लोबल इनवेस्टिगेशन कर रहा है.

1.19 करोड़ से ज्यादा गोपनीय फाइलें हाथ लगीं हैं

इंटरनेशनल कंसोर्टियम ऑफ इन्वेस्टिगेटिव जर्नलिस्ट्स (ICJI) में बीबीसी और द गार्जियन के अलावा भारत के इंडियन एक्सप्रेस समेत दुनियाभर के 150 से ज्याादा मीडिया समूह शामिल हैं. आईसीआईजे ने दावा किया है कि उसके पास 1.19 करोड़ से ज्यागा गोपनीय फाइलें हाथ लगीं हैं, जिसने अमीरों के गुप्त लेनदेन का खुलासा कर दिया है.

दस्‍तावेजों में 300 भारतीयों के नाम हैं

ICIJ की ओर से जारी दस्‍तावेजों में 300 भारतीयों के नाम हैं. इनमें अनिल धीरूभाई अंबानी ग्रुप के अनिल अंबानी, पूर्व क्रिकेटर सचिन तेंडुलकर, बायकॉन की किरन मजूमदार शॉ और भगोड़े कारोबारी नीरव मोदी की बहन शामिल हैं. कई भारतीयों ने 2016 में पनामा पेपर्स लीक के बाद अपनी सपंत्तियों को इधर-उधर किया.

कई नामी हस्तियों से जुड़े खुलासे हुए

पैंडोरा पेपर्स लीक में 64 लाख दस्‍तावेज हैं, करीब 30 लाख तस्‍वीरें हैं, 10 लाख से ज्‍यादा ईमेल्‍स हैं और करीब 5 लाख स्‍प्रेडशीट्स हैं. अभी तक सामने आए तथ्‍यों में कई नामी हस्तियों से जुड़े खुलासे हुए हैं. लीक फाइलों के जरिए 90 देशों के 330 से ज्‍यादा राजनेताओं के सीक्रेट ऑफशोर कंपनियों के जरिए संपत्ति छिपाने की बात सामने आई है. जॉर्डन के सुल्‍तान के अमेरिका और यूके में गुप्‍त रूप रूस प्रॉपर्टीज खरीदने का पता चला है. अजरबैजान में सत्‍ताधारी परिवार ने यूके में 400 मिलियन पौंड से ज्‍यादा की प्रॉपर्टी डील्‍स कर रखी हैं. चेक प्राइम मिनिस्‍टर ने भी ऑफशोर इनवेस्‍टमेंट्स की जानकारी नहीं दी. केन्‍याई राष्‍ट्रपति के परिवार ने भी दशकों तक ऑफशोर कंपनियों का मालिकाना हक अपने पास रखा.

जांच के लिए मल्‍टी-एजेंसी ग्रुप की मदद ली जाएगी

केंद्र सरकार ने कहा है कि वह पैंडोरा पेपर्स के जरिए सामने आए तथ्‍यों की जांच कराएगी. इसके लिए मल्‍टी-एजेंसी ग्रुप की मदद ली जाएगी. मतलब आयकर विभाग, प्रवर्तन निदेशालय, वित्‍तीय खुफिया यूनिटी और रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया मिलकर जांच करेंगे. इस ग्रुप की कमान सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्‍ट टैक्‍सेज के चेयरमैन के पास है. यह लगभग तय है कि सभी नामों की स्‍क्रूटनी जरूर होगी.

ये हो सकती है कार्रवाई 

NRI उसे कहते हैं जो भारत में 182 दिन से कम गुजारता है. ऐसे लोगों को विदेशी संपत्तियों का खुलासा करने की जरूरत नहीं है. मगर एक बार वापस आने या नागरिकता लेने के बाद, उन्‍हें खुलासा करना होगा. इसके लिए टैक्‍स चुकाना और संपत्ति का ब्‍योरा देना होगा, नहीं तो ब्‍लैक मनी एक्‍ट का सामना करना पड़ सकता है. न सिर्फ छिपाई गई रकम का 120% चुकाने को कहा जा सकता है. बल्कि मुकदमा भी चल सकता है.

ये भी पढ़ें : IPL 2021 CSK vs DC: चेन्नई सुपरकिंग्स की जीत के लिए प्रार्थना करती दिखी धोनी की लाडली जिवा, फोटो वायरल

 

Related posts

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने किया वन महोत्सव का शुभारंभ, कहा- विनाश की ओर बढ़ रहे हम

Manoj Singh

Dhanbad: कल से ग्रामीण क्षेत्रों में डोर टू डोर वैक्सीनेशन होगा शुरू, सिविल सर्जन से सुनिये क्या है तैयारी

Pramod Kumar

BSEB Board Exam 2022 Date Sheet: बिहार बोर्ड 10वीं-12वीं परीक्षा के लिए डेटशीट जारी, यहां देखें Details

Sumeet Roy

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.