समाचार प्लस
Breaking अंतरराष्ट्रीय फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

पाकिस्तानी पीएम के उड़े होश! गिलगित-बाल्टिस्तान से उठी आवाज-  हमें भारत में मिलाओ!

Pakistani PM lost his senses! Voice raised from Gilgit-Baltistan - Join us in India!

पीओके में सड़कों पर उतरे प्रदर्शनकारी

न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

एक तो पाकिस्तान को आर्थिक हालात अच्छे नहीं हैं, दूसरी तरफ पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर यानी पीओके और गिलगित-बाल्टिस्तान ने  पाकिस्तान सरकार के खिलाफ बगावत छेड़ दी है। वहां विरोध प्रदर्शन काफी उग्र रूप धारण कर चुका है। वजह गिलगित-बाल्टिस्तान पाकिस्तान में नहीं रहना चाहते। उन्होंने भारत में मिलाने को लेकर बगावत छेड़ दी है। इस उग्र प्रदर्शन से पाकिस्तान की शाहबाज शरीफ सरकार के होश उड़ गए हैं। पूरा पाकिस्तान वैसे तो आर्थिक हालात की मार झेल ही रहा है, गिलगित-बाल्टिस्तान के निवासी पाकिस्तान सरकार की भेदभावपूर्ण नीतियों से काफी नाराज हैं। वैसे भी यहां को लोग कई दशकों से पाकिस्तानी सरकार और सेना के शोषण के शिकार हैं।

लद्दाख में मिलाने की मांग

बाल्टिस्तान के वाशिंदे अब पाकिस्तान के साथ नहीं रहना चाहते। उनकी मांग है कि उनके इलाके को लद्दाख में भारत के साथ फिर से मिला लिया जाये। यहां जो प्रदर्शन चल रहा है उसके वीडियो इन दिनों इंटरनेट पर वायरल हैं, जिनमें  साफ देखा जा सकता है कि हजारों लोग सड़कों पर उतर कर भारत में मिलने की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं। इन वीडियो में गिलगित-बाल्टिस्तान में विशाल रैली भी दिखाई दे रही है। कारगिल सड़क को फिर से खोलने और भारत के केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख के कारगिल जिले में पुनर्मिलन की मांग जाहिर की गई है।

‘आर-पार जोड़ दो, कारगिल को खोल दो।‘

सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो में लोग नारे भी लगा रहे हैं, “आर-पार जोड़ दो, कारगिल को खोल दो।” जानकारी के अनुसार यह प्रदर्शन पिछले 12 दिनों से चल रहा है। स्थानीय लोग गेहूं और अन्य खाद्य पदार्थों पर सब्सिडी की बहाली, लोड-शेडिंग, अवैध भूमि पर कब्जा और क्षेत्र के प्राकृतिक संसाधनों के शोषण जैसे विभिन्न मुद्दों को उठा रहे हैं। पाकिस्तानी सेना गिलगित-बाल्टिस्तान क्षेत्र की भूमि और संसाधनों पर जबरदस्ती का दावा करती रही है। प्रदर्शन कर रहे लोग पाकिस्तान सेना और सरकार का भी विरोध कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें: Jharkhand: विधायक इरफान अंसारी नहीं पहुंचे ईडी कार्यालय, दो सप्ताह का मांगा समय

Related posts

Jharkhand: जिला परिषद अध्यक्षों ने मुख्यमंत्री से की त्रिस्तरीय पंचायती राज व्यवस्था को सुदृढ़ करने की मांग

Pramod Kumar

Single Use Plastic Ban: 1 जुलाई 2022 से केंद्र सरकार ने निर्माण, बिक्री, उपयोग पर लगाया प्रतिबंध

Pramod Kumar

DHANBAD: बीसीसीएल सिजुआ एरिया में मस्जिद का हिस्सा जमीन में धंसा, कोई हताहत नहीं

Pramod Kumar