समाचार प्लस
Breaking अंतरराष्ट्रीय फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

Pakistan इमरान सरकार का काउंटडाउन शुरू, समय से पहले कुर्सी गंवाने वालों की लिस्ट में लिख जायेगा नाम?

Pakistan Imran government's countdown begins, will lose the chair before time?

न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान की कुर्सी खतरे में है! खतरे में है नहीं, बस, अब गयी ही समझें। पाकिस्तान असेम्बली से अविश्वास प्रस्ताव की वोटिंग अब होने ही वाली है, इसके बाद तय हो जायेगा, कि इमरान बचे या नहीं। अगर ऐसा होता है तो ऐसा होना कोई नयी बात नहीं होगी। पाकिस्तान वह देश हो जहां, किसी प्रधानमंत्री ने अपना कार्यकाल पूरा नहीं किया है। ऊपर से, पाकिस्तान में जिस तरह से विपक्ष एकजुट है, खुद इमरान की पार्टी के लोग उनके खिलाफ खड़े हो गये हैं। ऐसे में उनका अपनी कुर्सी बचा पाना मुश्किल है।

जो दिख रहा है, उससे यही अनुमान लगाया जा सकता है कि सरकार अल्पमत में आ चुकी है। अविश्वास प्रस्ताव के एक दिन पहले यानी रविवार को उन्होंने जिस प्रकार, विशाल रैली निकालकर विपक्षी नेताओं पर भड़ास निकाली, उससे यह स्पष्ट हो चुका है कि हार नहीं मानने का दम दिखा रहे इमरान खान मान चुके हैं कि अब उनका खेल खत्म हो चुका है। अविश्वास प्रस्ताव से पहले विपक्षी दलों ने साझा रैली करके अपनी ताकत इमरान सरकार को दिखा दी है। अविश्वास प्रस्ताव में विफल रहने पर  इनरान की कुर्सी गयी तो समय पूर्व कुर्सी गंवाने वाले पाकिस्तान के प्रधानमंत्रियों में उनका भी नाम शुमार हो जाएगा।

किसमें कितना है दम

इमरान खान के पास इस ससमय 155 सदस्यों का समर्थन है। चूंकि जम्हूरी वतन पार्टी के शाहजैन बुगती गठबंधन से अलग हो चुकी है इसलिए विपक्ष के पास पीएमएल – क्यू समेत 163 सदस्यों का समर्थन हो चुका है। शेष गणित यह है कि बलूचिस्तान आवामी पार्टी और मुत्ताहिदा कौमी मूवमेंट पाकिस्तान समेत तीन पार्टियां अब भी किसी फैसले पर नहीं पहुंची हैं। इनकी बातचीत दोनों ही तरफ चल रही है।

पाक नेशनल असेंबली में कुल 342 सदस्य हैं। बहुमत के लिए 172 सदस्य चाहिए। पीटीआई गठबंधन की सरकार 179 सदस्यों के समर्थन से बनी थी। पीटीआई के 155 सदस्य थे। उसके चार प्रमुख सहयोगी मुत्ताहिदा कौमी मूवमेंट-पाकिस्तान (पाकिस्तान) एमक्यूएम-पी), पाकिस्तान मुस्लिम लीग-कायद (पीएमएल-क्यू), बलूचिस्तान अवामी पार्टी (बीएपी) और ग्रैंड डेमोक्रेटिक अलायंस (जीडीए) के क्रमशः सात, पांच, पांच और तीन सदस्य थे।

यह भी पढ़ें: बिहार में हेलीकॉप्टर और ड्रोन की निगरानी से भी नहीं रुक रहा शराब तस्‍करी का खेल, अब अवसाद की गिरफ्त में आ रहे लोग

Related posts

Electricity Crisis: ये जो हल्का-सा अंधेरा है गनीमत जानो, दिन अभी और, अभी और भी काले होंगे!

Pramod Kumar

टाटा मोटर्स कर्मी की बेटी श्रेया चटर्जी को मॉर्गन स्टेनली ने दिया 25.3 लाख का पैकेज

Pramod Kumar

Navratri: सम्पूर्ण जगत की जननी हैं मां कूष्मांडा

Pramod Kumar