समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

Jharkhand में पुरानी पेंशन योजना फिर शुरू होगी और एचईसी को फिर खड़ा करेंगे, सीएम हेमंत ने विधासभा में लिया संकल्प

Jharkhand: CM told coal companies - give our dues, otherwise we will snatch

न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

बजट सत्र के अंतिम दिन झारखंड विधानसभा में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने बड़ा ऐलान करते हुए कहा कि सरकार बहुत जल्द पुरानी पेंशन योजना लागू करेगी। इसके साथ उन्होंने कहा कि झारखंड के पारा शिक्षकों की तरह अन्य अनुबंध कर्मियों की समस्याओं का भी समाधान किया जायेगा। इसी मौके पर सीएम ने विधायक फंड की राशि बढ़ाकर चार करोड़ से पांच करोड़ करने का भी ऐलान किया। सीएम का सबसे बड़ा संकल्प एचईसी को लेकर था। झारखंड ही नहीं पूरे देश की शान रहे एचईसी को फिर से खड़ा करने का मुख्यमंत्री ने विधानसभा में संकल्प किया।

एचईसी को लेकर मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि एचईसी राज्य का एक गौरवशाली प्रतिष्ठान है। देश को खड़ा करने में एचईसी की अहम भूमिका रही है, लेकिन आज इसकी दुर्दशा हो गयी है। एचईसीस को लेकर निराशा व्यक्त करते हुए सीएम ने कहा कि भारत सरकार से उम्मीद कम है, क्योंकि वह अभी रेलवे और हवाई अड्‌डा बेचने में व्यस्त है। वह जब एचईसी को देखते हैं तो उन्हें दुःख होता है। रांची के होटल अशोका को भी बचाने का प्रयास कर रहे हैं। हमने सारे औपचारिकताएं पूरी कर लीं। दरअसल, जमशेदपुर के विधायक सरयू राय ने गैर सरकारी संकल्प प्रस्ताव के तहत एचईसी का मामला को सदन में रखा था, जिस पर सीएम हेमंत ने यह जवाब दिया। सरयू राय ने कहा कि अब यह भारी उद्योग मंत्रालय के हाथ से निकलकर वित्त मंत्रालय के पास चला गया है। जो पैकेज मिला उसे बीमारी से उबारने के लिए दिया गया, मगर यह इलाज नहीं है। इसलिए राज्य सरकार इसके महत्व को देखते हुए केंद्र पर दबाव बनाये।

नये प्रखंड, नये अनुमंडल बनेंगे : मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने विधानसभा में यह भी कहा कि झारखंड में प्रखंड और अनुमंडल बनाने के लिए जनसंख्या और वहां की भौगोलिक स्थितियों का आकलन किया जा रहा है। जल्द ही सरकार इस पर फैसला करेगी। विधानसभा में गैर सरकारी संकल्प के जरिए कई विधायकों ने अपने-अपने विधानसभा क्षेत्र में प्रखंड और अनुमंडल बनाने की मांग को उठाया था। इस पर जवाब देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि जिला, प्रखंड, पंचायत के सृजन के कई मापदंड होते हैं। भौगोलिक स्थिति, जनसंख्या और प्रशासनिक दृष्टिकोण सृजन का मापदंड होता है। इसका आकलन किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें: Jharkhand की सलीमा टेटे, संगीता और ब्यूटी महिला जूनियर वर्ल्ड कप के लिए भारतीय टीम के साथ साउथ अफ्रीका रवाना

Related posts

राष्ट्रीय लोक अदालत में12000 वादों का हुआ निपटारा, राष्ट्रीय लोक अदालत को सफल बनाने के लिए 52 बेंच गठित 

Manoj Singh

Indian Railways: अब किसी भी स्टेशन से ट्रेन पकड़ने पर नहीं लगेगा जुर्माना!  IRCTC ने दी यह सुविधा 

Manoj Singh

Jharkhand CM Hemant Soren: झारखंड CM Hemant Soren का क्या होगा? राज्यपाल के ऐलान पर टिकीं सबकी नजरें

Sumeet Roy