समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

New Motor Vehicle Act: अब बच्चों को बाइक पर ले जाने से पहले हो जाएं सावधान, सरकार लेकर आ रही ये नए नियम!

New Motor Vehicle Act: अब बच्चों को बाइक पर ले जाने से पहले हो जाएं सावधान

न्यूज़ डेस्क/ समाचार प्लस झारखंड- बिहार

New Motor Vehicle Act: सड़क पर बच्चों की सुरक्षा को देखते हुए केंद्र सरकार कुछ कड़े नियम बनाने जा रही है. कार में बच्चों की सेफ्टी के लिए जहां पहले से कई नियम हैं, वहीं अब 2-व्हीलर्स के लिए भी इन्हें लाया जा रहा है. सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने मोटरसाइकिल पर बच्चों को बिठाने को लेकर नए नियमों का ड्राफ्ट जारी किया है. सुरक्षा प्रावधानों से जुड़े इन नियमों के मुताबिक बाइक पर 4 साल से कम उम्र के बच्चों के यात्रा करने को लेकर नए नियम आ रहे हैं.

गडकरी ने ट्वीट कर दी जानकारी

मंत्रालय की ओर से जारी इस ड्राफ्ट की जानकारी देते हुए केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने ट्वीट कर बताया कि मंत्रालय ने चार साल से कम उम्र के बच्चों को मोटरसाइकिल पर ले जाने को लेकर नई सुरक्षा गाइडलाइन्स को जारी किया है. गडकरी ने बाइक के चालक के साथ बच्चे को अटैच करने के लिए सुरक्षा उपकरण का उपयोग करने की बात कही है. साथ ही बच्चों द्वारा अनिवार्य तौर पर क्रैश हेलमेट पहनने के नियमों के अलावा यह भी बताया कि 4 साल के बच्चे को बिठाकर चलने वाले मोटरसाइकिल की स्पीड 40 किलोमीटर प्रति घंटे से अधिक नहीं होनी चाहिए.

ये हैं सिफारिशें

सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय की ओर से जारी नए ड्राफ्ट रूल में कई सिफारिशें की गई हैं. इन सिफारिशों के अनुसार, चार साल से कम आयु के बच्चों को मोटरसाइकिल ड्राइवर के साथ अटैच करने के लिए सुरक्षा उपकरण का उपयोग किया जाएगा. ड्राइवर यह सुनिश्चित करेगा कि उसके पीछे बैठे 9 महीने से 4 वर्ष तक की उम्र का बच्चा अपना क्रैश हेलमेट पहना हो जो उसके सिर पर फिट बैठता हो. साथ ही हेलमेट ISI अधिनियम 2016 के तहत निर्धारित मापदंडों के मुताबिक बना हो.

सेफ्टी जैकेट का इस्तेमाल करना होगा 

ड्राफ्ट में कहा गया है कि मोटरसाइकिल ड्राइवर यह सुनिश्चित करेगा कि चार साल से कम उम्र के बच्चों को अपने साथ बांधे रखने के लिए ‘सेफ्टी हार्नेस’ का इस्तेमाल किया जाए. सेफ्टी हार्नेस बच्चे द्वारा पहना जाने वाला एक ऐसा जैकेट होता है, जिसके आकार में फेरबदल किया जा सकता है. उस सुरक्षा जैकेट से जुड़े फीते इस तरह लगे होते हैं कि उसे वाहन चालक भी अपने कंधों से जोड़ सके.

कितनी होनी चाहिए बाइक की स्पीड?

नए मसौदा नियम में सिफारिश करते हुए यह भी कहा गया है कि चार साल तक की उम्र के बच्चे को ले जाने वाली मोटरसाइकिल की स्पीड 40 किलोमीटर प्रति घंटे से ज्यादा नहीं होनी चाहिए. सरकार की ओर से मोटर व्हीकल एक्ट की धारा 129 को मोटर व्हीकल (संशोधन) अधिनियम 2019 के द्वारा पहले ही संशोधित किया जा चुका है.

बच्चों की सुरक्षा को लेकर नए ड्राफ्ट रूल जारी किए गए 

एक्ट की इस धारा में दूसरा प्रावधान यह है कि केन्द्र सरकार नियमों द्वारा मोटरसाइकिल पर सवारी करने वाले या ले जाये जा रहे चार साल से कम उम्र के बच्चों की सुरक्षा के उपाय उपलब्ध करा सकती है. इसी प्रावधान का सहारा लेते हुए सरकार ने बच्चों की सुरक्षा को लेकर इस नए ड्राफ्ट रूल जारी किए हैं, हालांकि यह अभी सिर्फ ड्राफ्ट है और नियम बनना अभी बाकी है.
ये भी पढ़ें : फिर बढ़ने लगा Corona? इस जिले में लगा 3 दिन का Lockdown

 

Related posts

66 साल के अरुणलाल के जीवन में आयी 38 साल की ‘बुलबुल’, बीवी की रजामंदी से बनायेंगे बीवी

Pramod Kumar

Big Breaking: झारखण्ड कैबिनेट की बैठक में सरकार ने बढ़ाया आंगनबाड़ी सेविकाओं का मानदेय

Pramod Kumar

Himachal Pradesh में प्रकृति का कहर : बादल फटने से आयी बाढ़, पानी के बहाव से बह गयी कारें

Sumeet Roy