समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड शिक्षा

Jharkhand Education: झारखंड में लागू होगी नयी शिक्षा नीति, दसवीं में पढ़ाया जायेगा नवमी का पाठ

Jharkhand Education

Jharkhand Education: कोरोना के संक्रमण में कमी आने के बाद शिक्षा-व्‍यवस्‍था को एक बार फिर पटरी पर लाने की कोशिश शुरू हो गयी है। झारखंड के सरकारी स्कूलों में नया तरीका अपनाया जा रहा है। इसके तहत सरकारी स्कूलों में कक्षा नौवीं से बारहवीं तक शुरू हुई ऑफलाइन कक्षाओं में पहले दो घंटे पिछली कक्षा की छूटी हुई पढ़ाई पूरी कराई जाएगी। शेष दो घंटे उस कक्षा की पढ़ाई होगी, जिसमें विद्यार्थी नामांकित हैं। नये सत्र में दसवीं में दाखिला लेने वाले छात्रों को पहले नौवीं का कोर्स पूरा करना होगा। इससे पहले शिक्षक स्कूलों के लगभग एक साल बंद रहने के कारण विद्यार्थियों के शिक्षण में हुई गिरावट का बेसलाइन मूल्यांकन करेंगे।उसी के अनुरूप विद्यार्थियों की छूटी हुई पढ़ाई की भरपाई कराई जाएगी।
9वीं से 12वीं तक के छात्रों की छूटी हुई पढ़ाई की होगी भरपाई
स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग के सचिव राजेश शर्मा के निर्देश पर राज्य परियोजना निदेशक शैलेश कुमार चौरसिया ने विस्तृत दिशा-निर्देश जारी करते हुए सभी क्षेत्रीय शिक्षा उपनिदेशकों तथा जिला शिक्षा पदाधिकारियों को लागू कराने को है। उन्होंने कहा है कि कक्षा नौवीं से बारहवीं के विद्यार्थियों का विषयवार बेसलाइन मूल्यांकन करने तथा उनकी छूटी हुई पढ़ाई पूरी करने के लिए संबंधित शिक्षक जिम्मेदार होंगे। उन्होंने बेसलाइन सर्वे से संबंधित आंकड़ों को स्कूलों में सुरक्षित रखने को कहा है।
प्रत्येक माह राज्य स्तर पर विद्यार्थियों का मूल्यांकन
सभी विषयवार शिक्षक प्रत्येक पंद्रह दिनों पर अपने-अपने विषयों के लिए मूल्यांकन कार्यक्रम आयोजित करेंगे। इसके तहत शिक्षकों द्वारा ब्लैकबोर्ड पर प्रश्न अंकित किए जाएंगे तथा सभी विद्यार्थी अपनी-अपनी कापी में उत्तर लिखते हुए शिक्षकों को जमा करेंगे। सभी शिक्षक अपने-अपने विषयों की कापी की जांच कर एक सप्ताह के भीतर बच्चों को लौटाएंगे। इस मूल्यांकन में अधिकतम 50 अंक निर्धारित होंगे। अधिकतम दस प्रश्नों में पांच प्रश्न वस्तुनिष्ठ तथा पांच लघु तथा दीर्घ उत्तरीय होंगे। विषयों का चयन चक्रानुक्रम किया जाएगा तथा प्रत्येक 15 दिन पर कम से कम दो विषयों को अनिवार्य रूप से शामिल किया जाएगा। जारी निर्देश के अनुसार, प्रत्येक माह के अंत में राज्य-स्तर से विद्यार्थियों का मूल्यांकन किया जाएगा। इसके लिए जेसीईआरटी द्वारा प्रश्नपत्र ऑनलाइन माध्यम से शिक्षकों को उपलब्ध कराए जाएंगे। विद्यालय स्तर पर होनेवाले मूल्यांकन के लिए भी प्रश्नपत्र जेसीईआरटी द्वारा तैयार किए जाएंगे। विद्यार्थियों के प्राप्तांकों को ई विद्यावाहिनी पोर्टल पर अपलोड किया जाएगा जिसके लिए मॉड्यूल का निर्माण किया जा रहा है।

इसे भी पढ़े:Olympic में गयी झारखंड की महिला हॉकी खिलाड़ियों को सरकार देगी 50-50 लाख

Related posts

झारखंड में भारी बारिश के आसार, येलो अलर्ट जारी

Manoj Singh

Dhanbad: पूर्व मेयर चंद्रशेखर अग्रवाल समेत तीन पूर्व नगर आयुक्त मुश्किल में, प्राक्कलन घोटाला खंगालेगी एसीबी

Pramod Kumar

लातेहार : नक्सलियों के साथ मुठभेड़ में असिस्टेंट कमांडेंट शहीद

Manoj Singh

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.