समाचार प्लस
Breaking टोक्यो ओलंपिक(Tokyo Olympic) फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

Tokyo Olympics : Neeraj Chopra के भाले से निकला Gold, Athletics में पदक जितने वाले पहले भारतीय

neeraj chopra 3

स्टार जैवलिन थ्रोअर नीरज चोपड़ा ने भारत को पहला गोल्ड दिला दिया। ओलंपिक खेलों के जेवलिन थ्रो में आज भारत के नीरज सूरज की तरह चमके। नीरज ने शनिवार को जेवलिन थ्रो स्पर्द्धा में 87.58 मीटर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए भारत को गोल्ड मेडल दिलाया। ओलंपिक के इतिहास में भारत का एथलेटिक्स मुकाबलों का पहला गोल्ड मेडल है। इसके पहले 1900 में भारत ने दोड़ स्पर्द्धाओं का दो सिल्वर पदक जीता था।

नीरज चोपड़ा ने अपने पहले प्रयास में 87.03 मीटर भाला फेंका था। दूसरे प्रयास में उन्होंने अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया और भाला 87.58 मीटर दूर तक पहुंचा दिया। नीरज का तीसरा प्रयास कमजोर रहा। उसमें वह 76.99 मीटर ही भाला फेंक सके। इसके बाद के उनके प्रयास हालांकि बेकार गये।

neeraj chopra gold
neeraj chopra gold

ओलंपिक मेडल जीतने वाले पहले भारतीय एथलीट हैं नीरज चोपड़ा

एथलीट नीरज चोपड़ा ने भारत को जेवलिन थ्रो का गोल्ड मेडल दिला दिया है। भारत के अब तक के ओलंपिक प्रदर्शन पर गौर करें तो ओलंपिक के एथलेटिक्स खेलों का तीसरा पदक है। इससे पहले 1900 पेरिस ओलंपिक में नार्मन प्रिचर्ड ने भारत को एथलेटिक्स के दो सिल्वर मेडल दिलाये थे। नॉर्मन मूलतः भारतीय नहीं थे। अंग्रेजी राज होने के कारण ब्रिटिश राज की ओर से उन्हें ओलंपिक में भाग लेने के लिए भेजा गया था। इस लिहाज से आजाद भारत ही नहीं, ओलंपिक खेलों में एथलेटिक्स का पहला पदक दिलाने वाले नीरज चोपड़ा पहले भारतीय हैं।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने नीरज के प्रदर्शन को बताया अद्भुत

PM मोदी ने भी नीरज को गोल्ड जितने पर दी बधाई

केंद्रीय खेल मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा – नीरज ने इतिहास रच दिया

झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने भी नीरज चोपड़ा को Gold Medal जितने पर दी बधाई, कहा – देश को आपके ऊपर गर्व है

भारत का ओलंपिक सफर 1900 में शुरू हुआ। देश पर उस समय अंग्रेजी हूकुमत का राज था। चूंकि अंग्रेजी सेना भारतीयों को हेय दृष्टि से देखती थी, इस वजह से उन्होंने ब्रिटेन के नॉर्मन गिलबर्ट प्रिचर्ड को 1900 के पेरिस ओलंपिक के लिए चुना। नॉर्मन भारत की ओर से हिस्सा लेने वाले इकलौते खिलाड़ी थे। 1900 के पेरिस ओलिंपिक में हिस्सा लेने वाले पहले एशियन थे और उन्होंने पांच इवेंट में हिस्सा लिया था। इन पांच में से दो में वह मेडल जीतने में कायमाब रहे थे।

नॉरमैन ने 200 मीटर और 200 मीटर हर्डल्स में सिल्वर मेडल हासिल किया था। 200 मीटर में अमेरिका के वॉल्टर टीक्यबेरी ने उन्हें पीछे छोड़ा वहीं 200 हर्डल्स में वह  अमेरिका के दिग्गज खिलाड़ी एलविन से हारे। इसके बाद वह 110 मीटर हर्डल्स के फाइनल में भी पहुंचे, लेकिन उनके हाथ मेडल नहीं आया। वहीं 60 और 100 मीटर में वह फाइनल के लिए क्वालिफाई करने में नाकाम रहे। वह पहले खिलाड़ी थे जिन्होंने बतौर एशियन इन खेलों में हिस्सा लिया।

इसे भी पढ़ें : Tokyo Olympics: भारत के स्टार पहलवान बजरंग पूनिया ने जीता कांस्य, भारत की झोली में अब छह पदक

Related posts

भगवन शिव क्यों कहलाते है आशुतोष, जानिए यहां कैसे पूरी होगी आपकी सारी मनोकाम

Nidhi Sinha

Reliance Retail ने Just Dial में हिस्सा खरीदा, इतने में हुई डील

Manoj Singh

नवादा : कृषि विज्ञान केंद्र में पोषण वाटिका का शुभारंभ, किसानों के बीच बांटे गए बीज के पैकेट

Manoj Singh

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.