समाचार प्लस
Breaking अपराध झारखण्ड पश्चिमी सिंहभूम

हाथ आया 1 करोड़ का इनामी नक्सली किशन दा, चांडिल-कांड्रा के बीच एक घर से पत्नी सहित गिरफ्तार

kishan Da

न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

एक करोड़ के इनामी नक्सली नेता प्रशांत बोस उर्फ किशन दा को गिरफ्तार करने में पुलिस कामयाबी हुई है। किशन दा झारखंड, बिहार, पश्चिम बंगाल, ओडिशा, छत्तीसगढ़, आंध्रप्रदेश एवं महाराष्ट्र में कई नक्सली वारदातों को अंजाम दे चुका है। किशन दा के पीछे झारखंड, छत्तीसगढ़, ओडिशा सहित कई राज्यों की पुलिस के साथ केंद्रीय एजेंसियां चार दशकों से लगी हुई थीं। अब जाकर उसकी गिरफ्तारी हुई है। हालांकि अभी तक उसकी गिरफ्तारी की आधिकारिक पुष्टि नहीं की गयी है।

बता दें, किशन दा भाकपा माओवादी के पोलित ब्यूरो का सदस्य है। किशन दा पिछले कई दशकों से पुलिस को चकमा दे रहा है। वह स्थान बदल-बदल कर पुलिस की आंखों में बार-बार धूल झोंकने में सफल होता रहा है। कभी पारसनाथ की पहाड़ियों, कभी हजारीबाग-बोकारो के झुमरा पहाड़, कभी सारंडा, तो कभी बूढ़ा पहाड़ पर उसके होने की सूचनाएं मिलती रही थीं। लेकिन ये सूचनाएं या तो गलत साबित होती रही हैं तो कभी वह पुलिस की घेराबंदी से बच निकलने में कामयाब होता रहा है। जाहिर है, ऐसे में उसकी गिरफ्तारी बड़ी सफलता मानी जा रही है। किशन दा के साथ उसकी पत्नी शीला को भी पुलिस ने गिरफ्तार किया है।

इनामी किशन दा ऐसे आया गिरफ्त में

जानकारी के अनुसार, पश्चिम बंगाल का 24 परगना का जादवपुर निवासी प्रशांत किशन दा अपनी पत्नी के साथ गुरुवार रात एक घर में ठहरा हुआ था। इसकी भनक पुलिस को लग गयी। गुप्त सूचना के बाद पुलिस ने चांडिल व कांड्रा के बीच स्थित इस घर से दोनों को गिरफ्तार किया। किशन दा अब काफी बुजुर्ग हो चुका है। 80 साल के प्रशांत बोस को ढाई साल पहले पक्षाघात का अटैक हुआ था। वह चलने-फिरने में बिल्कुल असमर्थ है। इस लिहाज से वर्षों खाक छानने के बाद पुलिस को मिली इस सफलता को कितनी बड़ी सफलता माना जाये।

यह भी पढ़ें: PM Narendra Modi ने देश को दीं RBI की दो बड़ी Schemes, निवेश करना पहले से आसान और सुरक्षित

Related posts

Raipur पहुंचे झारखंड के CM हेमंत सोरेन, कहा- नक्सलियों के खिलाफ छत्तीसगढ़ के साथ मिलकर काम करते रहेंगे

Manoj Singh

बंटवारा कैडर का, तो लाभ दो राज्यों में नहीं, झारखंड हाईकोर्ट का फैसला सुप्रीम कोर्ट में खारिज

Pramod Kumar

Tokyo Paralympics: भारत के पास दो और गोल्ड जीतने का सुनहरा मौका, सुहास व प्रमोद बैडमिंटन के फाइनल में

Pramod Kumar

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.