समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

नवरात्रि: प्रथम दिन मां शैलपुत्री की पूजा

Navratri

प्रथम शैलपुत्री

वन्दे वंछितलाभाय चन्द्रार्धकृतशेखराम् |   वृषारूढाम् शूलधरां शैलपुत्रीं यशस्विनीम् ||

मां शैलपुत्री दुर्गा के नौ रूपों में पहला रूप हैं जिनकी भक्तगण नवरात्रि पर्व में पूजा-अर्चना करते हैं। नवरात्र के नौ दिन दुर्गा मां के नौ रूपों को समर्पित होते हैं और इस पावन पर्व के प्रथम दिन मां शैलपुत्री की पूजा होती है।

वृषभ-स्थिता इन माताजी के दाहिने हाथ में त्रिशूल और बाएँ हाथ में कमल-पुष्प सुशोभित है। अपने पूर्व जन्म में ये प्रजापति दक्ष की कन्या के रूप में उत्पन्न हुई थीं तब इनका नाम ‘सती’ था। इनका विवाह भगवान शंकरजी से हुआ था।

शैलपुत्री का संस्कृत में अर्थ होता है ‘पर्वत की बेटी’। पौराणिक कथा के अनुसार मां शैलपुत्री अपने पिछले जन्म में भगवान शिव की अर्धांगिनी (सती) और दक्ष की पुत्री थीं। एक बार जब दक्ष ने महायज्ञ का आयोजन कराया तो इसमें सारे देवताओं को निमंत्रित किया गया, परंतु भगवान शंकर को नहीं। उधर सती यज्ञ में जाने के लिए व्याकुल हो रही थीं। शिवजी ने उनसे कहा कि सारे देवताओं को निमंत्रित किया गया है लेकिन उन्हें नहीं; ऐसे में वहाँ जाना उचित नहीं है। सती का प्रबल आग्रह देखकर भगवान भोलेनाथ ने उन्हें यज्ञ में जाने की अनुमति दे दी।

सती जब घर पहुंचीं तो वहां उन्होंने भगवान शिव के प्रति तिरस्कार का भाव देखा। दक्ष ने भी उनके प्रति अपमानजनक शब्द कहे। इससे सती के मन में बहुत पीड़ा हुई। वे अपने पति का अपमान सह न सकीं और योगाग्नि द्वारा स्वयं को जलाकर भस्म कर लिया। इस दारुण दु:ख से व्यथित होकर शंकर भगवान ने उस यज्ञ को विध्वंस कर दिया। फिर यही सती अगले जन्म में शैलराज हिमालय की पुत्री के रूप में जन्मीं और शैलपुत्री कहलाईं।

यह भी पढ़ें: चैत्र नवरात्रि में शुभ मुहूर्त में करें कलश स्थापना, विधि-विधान से करें पूजा, प्रसन्न होंगी मां
https://samacharplusjhbr.com/establish-kalash-in-auspicious-time-in-chaitra-navratri-worship-with-rituals/

Related posts

Bhopal Gas Tragedy: जब 1-1 सांस के लिए मोहताज हो गए थे भोपालवासी, आज भी इन बीमारियों से परेशान हैं लोग

Sumeet Roy

दिवंगत रुपेश पांडेय के माता पिता ने CM हेमंत सोरेन से की मुलाकात, हत्याकांड की CBI जांच कराने का किया अनुरोध

Sumeet Roy

Bhagalpur: 6 नकाबपोश अपराधियों ने कॉपरेटिव बैंक में डाला डाका, 29 लाख लूटकर हुए फरार

Pramod Kumar