समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर सराइकेला खरसावाँ

Murder: सरायकेला में युवक की हत्या, पहले गोली मारी फिर सिर को पत्थर से कुचला

Murder: सरायकेला में युवक की हत्या, पहले गोली मारी फिर सिर को पत्थर से कुचला

सरायकेला- खरसावां से सुदेश कुमार की रिपोर्ट

सरायकेला- खरसावां जिला के कुदरसाई गांव स्थित खेत से 30 वर्षीय युवक का शव मिलने से सनसनी फैल गई. युवक का नाम आशीष तिउ है. वह ईंट, गिट्टी और बालू सप्लाई का धंधा करता था. मृतक के शरीर में तीन जगहों पर गोलियों के निशान मिले हैं, वहीं घटनास्थल से पांच सौ मीटर की दूरी से युवक का मोटरसाइकिल और एक खोखा मिला है. घटना की जानकारी मिलते ही सरायकेला थाना पुलिस मौके पर पहुंची और शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है. संभावना जताई जा रही है कि मृतक की पहले गोली मारकर हत्या की गई है, उसके बाद पत्थर से उसके सर को कुचल दिया गया. पुलिस ने घटनास्थल से एक बोल्डर भी बरामद किया है.

रिटायर्ड पुलिसकर्मी हैं मृतक के पिता

मृतक के पिता राजेन्द्र तिउ रिटायर्ड पुलिसकर्मी हैं और उनकी चाईबासा- सरायकेला मार्ग में ईंट , गिट्टी और सीमेंट की दुकान है. मृतक की बहन सुकमति बानसिंह ने बताया कि आशीष का खुद का ट्रैक्टर था और उसे चलाता भी था. सोमवार को गांव के ही महेंद्र रावतिया के साथ उसकी झड़प हुई थी. उन्होंने बताया कि जब सोमवार की देर शाम उसका भाई घर नहीं लौटा तो परिजनों ने काफी खोजबीन की. मंगलवार की सुबह खेत में क्षत- विक्षत अवस्था में उसका शव मिला. शव के बगल में ही बोल्डर भी मिला है. ग्रामीणों के अनुसार रात में गोली चलने की भी आवाज सुनाई दी.

सभी बिंदुओं पर जांच कर रही है पुलिस 

फिलहाल पुलिस सभी बिंदुओं पर जांच कर रही है. शव के आसपास की स्थिति देखकर ऐसे कयास लगाए जा रहे हैं कि इस घटना को कई युवकों ने मिलकर अंजाम दिया है. मृतक ने बीच-बचाव का भी काफी प्रयास किया है. वैसे सूत्र बताते हैं कि बालू के वर्चस्व को लेकर उक्त हत्याकांड को अंजाम दिया गया है.फिलहाल पुलिस ने शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है, और हत्यारों की तलाश में छापेमारी भी शुरू कर दी है.

ये भी पढ़ें : 6th JPSC मामला : डबल बेंच में दायर अपील याचिका पर 5 अक्टूबर को होगी सुनवाई

 

Related posts

Pornography में हाथ आजमा रहे Shilpa Shetty के पति के WhatsApp Chat ने खोला ‘राज’

Sumeet Roy

World Elephant Day: नहीं बन सकते ‘हाथी मेरे साथी’, झारखंड में हाथियों और इंसानों के बीच लगातार बढ़ रहा द्वंद्व

Nidhi Sinha

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.