समाचार प्लस
Breaking अंतरराष्ट्रीय फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर मनोरंजन

Movie Review : जानिए कैसी है ‘No Time To Die’, आखिरी बार James Bond बने Daniel Craig ने कमाल ही कर दिया

Movie Review : जानिए कैसी है 'No Time To Die',

न्यूज़ डेस्क/ समाचार प्लस झारखंड – बिहार
ब्रिटि‍श खुफिया एजेंट जेम्स बॉन्ड अब रिटायर हो चुका है। वह अब अकेले एक बैरागी की तरह जिंदगी जी रहा है। लेकिन इसी बीच वह खुद को प्रोजेक्ट हेराक्लीज़ के रहस्य में उलझा हुआ पाता है। वह इसे सुलझाने की जितनी कोश‍िश करता है, यह उतना उलझता जाता है। कई बार उसे यह लगने लगता है कि वह हार रहा है। लेकिन क्या वह इस मिशन को पूरा पाएगा? क्‍या प्रोजेक्‍ट हेराक्‍लीज का रहस्‍य सुलझेगा? फिल्‍म ‘नो टाइम टू डाई’ इसी की बानगी है।

रिव्‍यू
जेम्‍स बॉन्‍ड फ्रेंचाइजी फिल्‍मों के फैन्‍स के लिए ‘नो टाइम टू डाई’ खास है। ऐसा इसलिए कि यह बतौर जेम्‍स बॉन्‍ड एक्‍टर डेनियल क्रेग (Daniel Craig)की आख‍िरी फिल्‍म है। शुरुआत में वह यह फिल्‍म करने को भी तैयार नहीं थे, लेकिन आख‍िरकार उन्‍हें मना लिया गया। फिल्‍म की रिलीज में भी कोरोना महामारी के कारण देरी हुई है। जाहिर है ऐसे में ‘नो टाइम टू डाई’ के लिए दर्शकों का उत्‍साह पहले से कहीं अध‍िक है। अच्‍छी बात यह है कि फिल्‍म आपको निराश भी नहीं करती। बल्‍क‍ि कई मायनों में उम्‍मीद से बेहतर एंटरटेनमेंट दे जाती है।

2 घंटे 43 मिनट लंबी है फिल्‍म 

फिल्‍म की शुरुआत यानी इंट्रो सीन से ही यह तय हो जाता है कि यह एक्‍शन के साथ-साथ रोमांस का भी तड़का लगाएगी। इसमें धमाके होंगे और यह धोखा देने की भी कहानी होगी। फिल्‍म कह कहानी आपको पहले ही सीन से बांधती है और कुर्सी पर बिठाए रखती है। खास बात यह भी है कि यह फिल्‍म 2 घंटे 43 मिनट लंबी है। यह किसी भी पिछली बॉन्‍ड फिल्‍म के मुकाबले लंबी है। लेकिन बावजूद इसके रोमांच ऐसा है कि आप अंत में कुछ और की चाहत रखते हैं।

पुरानी 007 फिल्मों के लिए भी एक श्रद्धांजलि है

इस फिल्‍म की कहानी में वह सब कुछ है जो एक बॉन्ड के रूप में आप डेनियल क्रेग से उम्मीद करते हैं। साथ ही यह पुरानी 007 फिल्मों के लिए भी एक श्रद्धांजलि है, जिनमें रोजर मूर और सीन कॉनरी ने एक्‍ट किया था। जेम्‍स बॉन्‍ड फ्रेंचाइजी फिल्मों की तरह इस फिल्‍म में शानदार गाड़‍ियां है, जिनमें नए और आधुनिक हथ‍ियार लैस हैं। फैंसी गजेट्स हैं। साइंटिफिक फिक्‍शन का ट्विस्‍ट है। खतरनाक ऐक्शन सीक्वेंस हैं और एक ऐसा विलन है, जो कभी नहीं हारता। जेम्‍स बांड एक बार फिर दुनिया को बचाने के लिए निकला है और यह सब आपके अंदर रोमांच जगाता है।

ये भी पढ़ें : Gandhi Jayanti: फुटबॉल के साथ रंगभेद के खिलाफ महात्मा गांधी का ‘सत्य का प्रयोग’

 

Related posts

दक्षिण भारत में आयी आसमान से आफत, बारिश के कहर में डूबीं 28 जिंदगियां, देखिये बारिश का कहर

Pramod Kumar

डोरंडा की मंजू और भोजपुर के अमित को रोशनी देगी दिवंगत सुजाता की आंखें

Manoj Singh

सरकार ने वाहन पंजीकरण के लिए पेश किया नया BH मार्क, ये हैं इसके फायदे

Manoj Singh

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.