समाचार प्लस
Breaking Uncategories देश

टीवी डिबेट में होता है सबसे ज्यादा प्रदूषण- सुप्रीम कोर्ट

देश की राजधानी दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण को लेकर बुधवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई. सुनवाई के दौरान कोर्ट ने कहा, “हम किसानों को पराली को लेकर सजा नहीं देना चाहते. किसान मशीनों का इस्तेमाल क्यों नहीं कर रहे हैं, उनकी क्या दिक्कत है? फाइव स्टार होटल में बैठकर लोग आंकड़ें बता रहे हैं. किसानों से जाकर उनसे बात करके यह पता लगाइए कि उनके पास पैसे हैं या नहीं”.

एनवी रमना ने की टिप्पणी

भारत के मुख्य न्यायाधीश एनवी रमना की बेंच ने प्रदूषण को लेकर सुनवाई के दौरान कई अहम टिप्पणियां की हैं. न्यूज़ चैनलों पर हो रही डिबेट पर अपनी नाराज़गी जताते हुए चीफ जस्टिस ने कहा, “टीवी न्यूज़ चैनलों के डिबेट सबसे अधिक प्रदूषण फैला रहे हैं’’. वहीं दूसरी ओर सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कोर्ट की सुनवाई की शुरुआत में कहा, “मेरे बारे में मीडिया को कहा गया है कि मैंने पराली जलाने को लेकर जानकारी दी, मैं इस पर स्पष्टीकरण देना चाहता हूं.’’ इस पर सीजेआई ने कहा कि इसे भूल जाइए. पब्लिक ऑफिस में ऐसी आलोचना होती रहती है.

कोर्ट ने दिल्ली और हरियाणा सरकारों से पूछा प्रदूषण का कारण

सुनवाई के दौरान कोर्ट ने दिल्ली और हरियाणा सरकार से पूछा कि प्रदूषण का क्या कारण है और इसे कम करने के लिए क्या कदम उठाये जा रहे हैं. दिल्ली सरकार के वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने जवाब देते हुए कहा, “दो महीनों में पराली जलाने की घटनाएं चरम पर हैं. पराली जलाना प्रदूषण का कारण है. इसके साथ ही हरियाणा सरकार ने इस पर जवाब देते हुए कहा कि उसने किसानों से पराली ना जलाने को कहा है.

यह भी पढ़ें:  गोस्सनर कॉलेज के 50वें स्वर्ण जयंती समारोह में मुख्य अतिथि बने सीएम, दिल खोलकर की सराहना

 

Related posts

Time magazine: 100 प्रभावशाली लोगों की सूची में पीएम मोदी, ममता बनर्जी और अदार पूनावाला

Pramod Kumar

Jharkhand Cabinet: झारखंड स्थापना दिवस पर राज्यकर्मियों को हेमंत सरकार देगी तोहफा

Pramod Kumar

Bhagalpur: 6 नकाबपोश अपराधियों ने कॉपरेटिव बैंक में डाला डाका, 29 लाख लूटकर हुए फरार

Pramod Kumar

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.