समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

Money Laundering Act: ED पर ‘सुप्रीम’ फैसला, गिरफ्तारी, तलाशी और समन समेत ED के सभी अधिकार बरकरार

image source : social media

Money Laundering Act: प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉड्रिंग एक्ट (PMLA) के तहत प्रवर्तन निदेशालय द्वारा की गई गिरफ्तारी, जब्ती और जांच की प्रक्रिया को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुनाया है। सुप्रीम कोर्ट ने प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट (PMLA) के तहत गिरफ्तारी के ED के अधिकार को बरकरार रखा है। पीएमएलए (prevention of Money Laundering Act) कानून के विभिन्न प्रावधानों को चुनौती देने वाली याचिकाओं को खारिज कर दिया गया है। कोर्ट ने कहा है कि 2018 में कानून में किए गए संशोधन सही हैं। इसके साथ ही शीर्ष अदालत ने प्रवर्तन निदेशालय(ED) के सभी अधिकारों को बरकरार रखा है।हालांकि, कोर्ट ने कानून में फाइनेंस बिल के जरिए किए गए बदलाव के मामले को 7 जजों की बेंच में भेज दिया है.

ECIR की कॉपी देना ज़रूरी नहीं

कोर्ट ने कहा कि सभी मामलों में ECIR की कॉपी देना ज़रूरी नहीं है। सुप्रीम कोर्ट का मानना ​​है कि गिरफ्तारी के आधार के बारे में एक आरोपी को सूचित करना पर्याप्त है। गिरफ्तारी के दौरान कारणों का खुलासा करना ही काफी है। कोर्ट ने कहा है कि ईडी के सामने दिया गया बयान ही सबूत है। ट्रायल कोर्ट इस पहलू पर और फैसला दे सकता है।

सभी अधिकारों को सही ठहराया

सुप्रीम कोर्ट ने गिरफ्तारी, रेड, समन, बयान समेत PMLA एक्ट में ED को दिए गए सभी अधिकारों को सही ठहराया है। दरअसल, सुप्रीम कोर्ट में पीएमएलए के कई प्रावधानों की संवैधानिकता को चुनौती देते हुए 100 से ज्यादा याचिकाएं दायर की गई थीं। इसमें ईडी की शक्तियों, गिरफ्तारी के अधिकार, गवाहों को समन व संपत्ति जब्त करने के तरीके और जमानत प्रक्रिया को चुनौती दी गई थी। याचिकाएं कांग्रेस नेता कार्ति चिदंबरम, एनसीपी नेता अनिल देशमुख व अन्य की ओर से दायर की गई थीं।

‘सीआरपीसी का पालन करने के लिए बाध्य हो एजेंसी’

याचिकाओं में कहा गया था कि पीएमएलए कानून के तहत गिरफ्तारी, जमानत, संपत्ति की जब्ती का अधिकार सीआरपीसी के दायरे से बाहर हैं। इस कानून के कई प्रावधान असैंवधानिक हैं, क्योंकि संज्ञेय अपराध की जांच और ट्रायल के बारे में दी गई प्रक्रिया का पालन नहीं किया जाता है। याचिकाओं में कहा गया कि जांच एजेंसी को जांच करते समय सीआरपीसी का पालन करने के लिए बाध्य होना चाहिए। इस मामले में वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल और अभिषेक मनु सिंघवी समेत कई वकीलों ने अपना पक्ष रखा था।

ये भी पढ़ें : रेलवे भर्ती घोटाला: CBI ने RJD नेता भोला यादव को किया गिरफ्तार, चार ठिकानों पर CBI की छापेमारी

Related posts

Jharkhand: ‘भारत बंद’ के एक Fake वायरल मैसेज से सुलगी आग रांची भी पहुंची, उपद्रवियों ने मेन रोड में मचाया उत्पात

Pramod Kumar

देवघर उपायुक्त मंजूनाथ भंजत्री के निर्देश पर एसडीओ ने की छापेमारी,चार वाहन से 110 बोरा मिलावटी खोवा जब्त

Sumeet Roy

Omicron in India: तो क्या भारत में आ गयी है कोरोना की तीसरी लहर? Omicron से सावधानी ही है बचाव, रहें सावधान

Sumeet Roy