समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर स्वास्थ्य

Milk Tea: क्या आप दूध वाली चाय पीने के शौकीन हैं? जान लीजिए इसके फायदे और साइड इफेक्ट्स

image source : social media

Milk Tea: भारत जैसे देश में दूध की चाय काफी लोकप्रिय है, चाय पीना हमारे दिमाग को आराम देता है. देखा जाए तो चाय का टाइम ऐसा होता है जिसमे हम कम से कम 5 मिनट सभी तरह की समस्या से बचते हुए कुछ पल गुजारते हैं. चाय दिमाग को आराम देने के साथ साथ ये उसे एक्टिव बनाए रखने में मदद करती है. लेकिन फायदों के साथ इसके नुकसान भी है। अगर आप भी दूध वाली चाय पीने के शौकीन हैं तो आपको इस चाय (Milk Tea) के फायदे (Benefits Of Milk Tea) और नुकसानों के बारे में जानें.

हड्डियों से संबंधित समस्याओं को दूर करता है 

दूध की चाय पूरी तरह से खराब नहीं है.यह अवशोषित कैल्शियम का एक समृद्ध स्रोत है जो हड्डियों के फ्रैक्चर की संभावना को कम कर सकता है. दूध में विटामिन डी भी होता है, जो शरीर के कैल्शियम का बेहतर अवशोषण करता है, जो हड्डियों से संबंधित समस्याओं जैसे आर्थराइटिस, ऑस्टियोपोरोसिस को रोकने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है.

याददाश्त बढ़ाती है चाय 

दूध में प्रोटीन होता है जो आपकी याददाश्त को बढ़ाने और आपके मूड को बढ़ाने के लिए जाना जाता है. दूध में मौजूद विटामिन डी सेरोटोनिन के उत्पादन को बढ़ा सकता है, एक हार्मोन जो हमारे मूड को स्थिर करता है.

त्वचा की पोषक है चाय 

दूध की चाय में मौजूद आवश्यक वसा आपकी त्वचा को पोषण और एक स्वस्थ चमक दे सकती है. दूध की चाय में अच्छी मात्रा में एंटीऑक्सिडेंट और पॉलीफेनोल भी होते हैं जो आपकी त्वचा को मुक्त कणों से होने वाली क्षति से बचाते हैं और बढ़ती उम्र के संकेतों जैसे झुर्रियों, महीन रेखाओं आदि को बनने से रोकते हैं.

image source : social media

साइड इफेक्ट्स 

अधिक मात्रा में दूध वाली चाय का सेवन करने से कई स्वास्थ्य जटिलताएं हो सकती हैं, जो लाभ को प्रभावित करती हैं. चाय में टेनिन नाम का यौगिक पाया जाता है. यह शरीर में आयरन को अवशोषित करने की क्षमता को कम कर सकता है. यही कारण है कि भोजन करने के तुरंत बाद चाय पीने से मना किया जाता है.

मस्तिष्क संबंधी रोगों का खतरा 

चाय में कैफीन होता है और कैफीन के अधिक सेवन से मस्तिष्क संबंधी रोगों का भी सामना करना पड़ सकता है. अत्यधिक मात्रा में चाय का सेवन चिंता, तनाव और बेचैनी को बढ़ा सकती है.

गैस्ट्रिक प्रॉब्लम

दूध की चाय डेयरी के साथ बनाई जाती है जिससे पेट की समस्याएं जैसे अपच, गैस, ब्लोटिंग आदि हो सकती हैं. चाय में मौजूद कैफीन आपके शरीर को डिहाइड्रेट कर सकता है और कब्ज पैदा कर सकती है.

नींद न आने की समस्या 

कैफीन आधारित किसी भी पेय के साथ, दूध की चाय अधिक मात्रा में होने पर आपको नींद नहीं आने देती. इस पेय में मौजूद दूध और चीनी इस स्थिति को और खराब कर सकते हैं.

चिंता, अवसाद और घबराहट 

दूध की चाय के ओवरडोज से मस्तिष्क में रासायनिक असंतुलन हो सकता है और चिंता, अवसाद और घबराहट के दौरे पड़ सकते हैं.

वजन बढ़ा सकती है

दूध की चाय में महत्वपूर्ण मात्रा में वसा और चीनी होती है जो आपको वजन बढ़ा सकती है.

मुंहासे

दूध में मौजूद प्रोटीन और वसा मुंहासों और फुंसियों के कारण शरीर में हार्मोनल उत्पादन को गति प्रदान कर सकते हैं.दूध वाली चाय पीने के अन्य संभावित दुष्प्रभाव भी हैं, जैसे पेट में जलन, पेट की गैस, जी मिचलाना, उल्टी,  भूख में कमी, सिर चकराना, बेचैनी, सिर दर्द, गर्भावस्था में जटिलताएं, पोषक तत्वों की कमी इत्यादि.

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें।

ये भी पढ़ें : Lottery जीतने के मैसेज को नहीं लिया सीरियसली, पर 82 लाख रु जीतकर बना अमीर

 

Related posts

Ankita Murder Case: झारखंड हाईकोर्ट ने अंकिता मौत मामले में लिया संज्ञान, DGP तलब

Manoj Singh

मुल्ला बरादर का पत्ता कटा! मुल्ला हसन अखुंद को तालिबान सरकार की मिलेगी कमान

Manoj Singh

Jharkhand: रांची पहुंची राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू, उलिहातू में भगवान बिरसा को करेंगी नमन

Pramod Kumar