समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

MBBS in Hindi: अब मातृभाषा में होगी MBBS की पढ़ाई, अमित शाह ने पुस्तक का किया विमोचन

image source : social media

MBBS in Hindi: अबतक MBBS  की पढ़ाई अंग्रेजी में होती थी, लेकिन अब इसकी पढ़ाई हिंदी में भी होगी। मध्यप्रदेश के भोपाल में अमित शाह (Amit Shah) ने एमबीबीएस हिंदी कोर्स(MBBS Hindi Course) की बुक लॉन्च की। इस तरीके से मध्यप्रदेश देश का पहला ऐसा राज्य बन गया जहां एमबीबीएस के छात्र हिंदी भाषा में पढ़ाई कर सकेंगे। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के साथ सीएम शिवराज सिंह चौहान भी मौजूद रहे। भोपाल के लाल परेड ग्राउंड में हिंदी किताब विमोचन का कार्यक्रम आयोजित हुआ।

मेडिकल की पढ़ाई कराने वाला पहला राज्य बना मध्यप्रदेश

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने उन्‍होंने एमबीबीएस प्रथम वर्ष की तीन पुस्तकों का विमोचन करते हुए हिंदी माध्यम से मेडिकल पाठ्यक्रम की पढ़ाई का शुभारंभ किया। लाल परेड मैदान में आयोजित कार्यक्रम हिदी में “ज्ञान का प्रकाश” में करीब 30 हजार विद्यार्थियों के अलावा चिकित्सा और हिंदी क्षेत्र के जानकार शामिल हैं। मालूम हो कि देशभर में अभी तक किसी भी मेडिकल कॉलेज में मेडिकल की पढ़ाई हिंदी में नहीं कराई जाती है। यह प्रयास पहली बार मध्यप्रदेश में हुआ है।

एमपी सरकार ने पहल की थी

दरअसल, कुछ सालों पहले देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि मेडिकल और तकनीकी शिक्षा की पढ़ाई मातृभाषा में होगी। इसके बाद एमपी सरकार ने पहल की थी। एमपी सरकार ने पिछले ही साल हिंदी में एमबीबीएस की पढ़ाई की घोषणा की थी। इसके बाद पाठ्यक्रम तैयार किया जा रहा था। डॉक्टरों की एक टीम तैयार की गई थी। सीमित समय के अंदर ही टीम ने प्रथम वर्ष के लिए तीन किताबों को हिंदी में ट्रांसलेट कर दिया है। वहीं, जिन अंग्रेजी शब्दों के हिंदी नाम नहीं हैं, उन्हें देवनागरी में लिखा गया है।

प्रधानमंत्री के संकल्प की दिशा में यह एक महत्वपूर्ण पड़ाव : अमित शाह

कार्यक्रम में बोलते हुए केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने कहा कि भारतीय शिक्षा क्षेत्र के लिए ऐतिहासिक दिन है। उन्‍होंने भोपाल आगमन से पूर्व ट्वीट करते हुए कहा कि आज भारतीय शिक्षा क्षेत्र के लिए ऐतिहासिक दिन है जब मध्य प्रदेश के भोपाल में मेडिकल की पढ़ाई को हिंदी में शुरू किया जा रहा है। भारतीय भाषाओं के सशक्‍तीकरण के प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी जी के संकल्प की दिशा में यह एक महत्वपूर्ण पड़ाव है, जिससे बच्चे अपनी भाषा में पढ़ाई कर पाएंगे।

NEET पास करने के बाद छात्रों को नहीं होगी दिक्कत

मेडिकल की पढ़ाई करने वाले कई छात्र हिंदी मीडियम स्कूलों से आते हैं। बारहवीं कक्षा के आधार और कोचिंग में मेहनत के बाद वह नीट की ऑल इंडिया परीक्षा तो पास कर लेते हैं, लेकिन एमबीबीएस की पढ़ाई में उन्हें काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता था। एमबीबीएस का पूरा कोर्स अंग्रेजी में होने के कारण वह मेडिकल की बारिकियों को स्पष्ट रूप से नहीं समझ पाते थे। अब हिंदी में कोर्स संचालित होने के बाद छात्रों की यह समस्या दूर हो जाएगी।

तमिल में भी पढ़ाया जाएगा MBBS

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, भारतीय भाषाओं के प्रचार के लिए उच्चाधिकार प्राप्त समिति ने क्षेत्रीय भाषाओं पर आधारित मेडिकल एजुकेशन के लिए कोर्सेज तैयार करने के लिए एनएमसी, राज्य के मेडिकल कॉलेजों, मेडिकल यूनिवर्सिटीज और कॉलेजों के साथ चर्चा शुरू की है. रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस समिति के अध्यक्ष चामू कृष्ण शास्त्री ने यह भी कहा है कि तमिलनाडु में डॉ एमजीआर मेडिकल यूनिवर्सिटी के कुलपति ने तमिल में एमबीबीएस शुरू करने के लिए शब्दावली शर्तें और परिभाषाएं तैयार करना शुरू कर दिया है.

ये भी पढ़ें : बॉलीवुड पर Baba Ramdev का निशाना ‘सलमान खान ड्रग्स लेता है, आमिर का पता नहीं’

 

Related posts

CM Nitish के जनता दरबार में पहुंचा Corona, 6 लोग कोरोना पॉजिटव, अधिकारियों में मचा हड़कंप

Sumeet Roy

बचपन का प्यार वाले Sahdev Dirdo का नया Video आया सामने, नोरा फतेही के गाने पर मचाया धमाल

Manoj Singh

IIFA Awards 2022: शेरशाह बेस्ट फिल्म, विक्की कौशल बेस्ट एक्टर, देखें पूरी लिस्ट

Manoj Singh