समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

देश में बढ़ा 190% नकली नोटों का धंधा, महाराष्ट्र सबसे ऊपर, झारखंड में कोई ‘काला कारोबार’ नहीं

न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

देश में जाली नोटों का कारोबार हमेशा से फलता-फूलता रहा है। लेकिन आंकड़े बता रहे हैं कि 2020 में देश में नकली नोटों के कारोबार में 190.5% की वृद्धि हुई है। 2020 में देश में 92.17 करोड़ मूल्य के नकली नोट पकड़े गये थे जबकि एक  साल पहले यानी 2019 में देश में नकली नोटों का 25,39,09,130 रुपये का कारोबार उजागर हुआ था।

राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (NCRB) हर साल नकली नोटों के धंधे के आंकड़े जारी करता है। NCRB के अनुसार, भारत में 2020 में 92,17,80,480 रुपये कीमत के कुल 8,34,947 नोट जब्त किये गये हैं। इनमें से 17,00,300 रुपये कीमत के 6,106 नोट केंद्र शासित प्रदेशों में मिले हैं। इस अवधि में देशभर में पुलिस ने नकली नोट के कारोबार के संबंध में कुल 385 मामले दर्ज किये और कुल 633 आरोपियों को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की।

इसी साल लोकसभा सत्र में भी केन्द्र सरकार ने 2018 और 2019 में दो साल में विभिन्न मूल्यवर्ग की करीब 5.44 लाख प्रतियां जब्त करने की बात स्वीकार की थी। इस समयावधि में 2047 लोगों के खिलाफ कानूनी कार्रवाइयां हुई हैं। गृह मंत्रालय की ओर से बताया गया था कि वर्ष 2018 में 2.57 लाख से ज्यादा जाली नोट पकड़े गए, जिनकी वैल्यू 17.95 करोड़ से भी ज्यादा (17,95,36,992) है। वहीं वर्ष 2019 में 25.39 करोड़ वैल्यू के 2.87 लाख से ज्यादा जाली नोट पकड़े गये।

महाराष्ट्र में नकली नोट कारोबार के सबसे अधिक मामले

NCRB के डाटा के अनुसार, भारत में पिछले साल पकड़े गए कुल नकली नोटों में 90.7 प्रतिशत की हिस्सेदारी अकेले महाराष्ट्र की है। 83,61,24,400 रुपये कीमत के कुल 6,99,495 नोट अकेले महाराष्ट्र में मिले हैं। पुलिस की 42 कार्रवाइयों में 97 आरोपियों को गिरफ्तार भी किया गया है। हालांकि, 2019 में महाराष्ट्र में 1,92,18,450 रुपये कीमत के 24,245 नोट की पकड़े गये थे, जो 2018 की तुलना में 460 गुना अधिक हैं।

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में नकली नोटों के कारोबार में कमी

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में 2020 में 4,16,000 रुपये कीमत के कुल 3,476 नकली नोट पकड़े गए हैं। हालांकि, 2019 में यहां 3,01,05,950 कीमत के 60,384 नकली नोट पकड़े गए थे। इस हिसाब से दिल्ली में नकली नोटों में कमी देखने को मिली है।

आंध्र प्रदेश और तमिलनाडु नकली नोट कारोबार में आगे

2020 में आंध्र प्रदेश में 1,44,50,550 रुपये कीमत के 17,705 नकली नोट पकड़े गए थे जबकि 2019 में 3,70,85,600 रुपये कीमत के 40,000 नोट पकड़े गये थे। इसी तरह तमिलनाडु में 2020 में 1,00,37,300 रुपये कीमत के 11,005 नकली नोट पकड़े गए थे, लेकिन साल 2019 में यह आंकड़ा 94,59,860 रुपये कीमत के 12,699 नोटों का था। 2020 में पश्चिम बंगाल में 2,46,27,250 रुपये कीमत के 24,227 नकली नोट पकड़े थे, लेकिन 2019 में यहां 3,17,43,450 रुपये कीमत के 24,037 नोट पकड़े गए थे।

अन्य राज्यों में भी नकली नोट के कारोबार पर नकेल

2020 में पंजाब 95,80,200 रुपये कीमत के कुल 14,444, गुजरात में 87,96,490 कीमत के 20,360, उत्तर प्रदेश में 38,79,260 रुपये कीमत के 17,078, राजस्थान में 27,34,950 रुपये कीमत के 6,190, केरल में 26,96,750 रुपये कीमत के 2,951 नोट, छत्तीसगढ़ में 23,27,560 रुपये कीमत के 5,334, कर्नाटक में 22,67,150 रुपये कीमत के 3,306, हरियाणा में 15,81,500 कीमत के 2,818 और जम्मू-कश्मीर में 12,83,300 रुपये के कुल 2,628 नोट पकड़े गये हैं।

झारखंड समेत कुछ राज्यों में नकली नोट कारोबार का कोई मामला नहीं

NCRB के डाटा की मानें तो 2020 में अरुणाचल प्रदेश, गोवा, हिमाचल प्रदेश, झारखंड, मणिपुर, मिजोरम, नगालैंड, ओडिशा, सिक्किम, तेलंगाना, उत्तराखंड, चंडीगढ़, दादर नागर हवले, लद्दाख, लक्षद्वीप और पुडुचेरी में नकली नोट का कोई भी मामला सामने नहीं आया है।

यह भी पढ़ें: इस कलाकारी के क्या कहने, बॉलीवुड एक्टर अर्जुन रामपाल भी हो गये मुरीद, फौरन शेयर की तस्वीर

Related posts

Jharcraft राज्य की पहचान है, इसे प्रॉफेशनल तरीके से चलाने की जरूरत है – CM

Sumeet Roy

Jharkhand Corona Update: गिरफ्तार व्यक्तियों के लिए थानों में बना Isolation Ward, एसएसपी ने जारी की गाइडलाइन

Manoj Singh

Covid-19 Protocol अवधि 30 सितंबर तक बढ़ी, गृह मंत्रालय ने जारी किया दिशानिर्देश

Pramod Kumar