समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

1 नवंबर से केन्द्र सरकार बदल रही ये नियम, एलपीजी और बैंक खातों पर भी पड़ेगा असर

Change from 1 November

न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

केन्द्र सरकार 1 नवंबर से कई नियमों को बदल रही है। इसका सीधा असर आपकी रोजमर्रा की जिंदगी और जेब पर पड़ने वाला है। इन बदलावों में एलजीपी सिलेंडर या बैंक से जुड़े नियम भी शामिल हैं। आइये जानते हैं, एलपीजी और बैंक खातों समेत कौन से चार बदलाव आपको प्रभावित करने वाले हैं-

एलपीजी डिलिवरी

अगर गैस एजेंसी का वेंडर एलपीजी की होम डिलिवरी करता है तो अब से नया नियम यह होगा कि आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एक ओटीपी आएगा। वह ओटीपी गैस वेंडर को बताना होगा। तभी एलपीजी सिलेंडर की आपके घर डिलिवरी हो पायेगी। नया बदलाव ‘डिलिवरी ऑथेंटिकेशन कोड’ नाम से जाना जायेगा। यह पहल सिलेंडर की डिलिवरी सही ग्राहकों तक हो, कालाबाजारी रोकी जा सके, इसके लिए की गयी है।

रेलवे टाइम टेबल

ट्रेनों का टाइम टेबल भी 1 नवंबर से बदलेगा। नए बदलाव में पैसेंजर ट्रेनों के साथ मालगाड़ियों को भी शामिल किया गया है। देश में दौड़ने वाली लगभग 30 राजधानी ट्रेनों के समय में भी फेरबदल हो सकता है। कोरोना लॉकडाउन खत्म होने के बाद रेलवे अपनी ट्रेनों की संख्या बढ़ा रहा है, लेकिन संचालन अभी रेगुलर नहीं है।

एलपीजी के दाम

कच्चे तेल की बढ़ती कीमतों के कारण गैस के दाम भी बढ़ रहे हैं। उसे देखते हुए पूरी संभावना है कि 1 नवंबर को एलपीजी सिलेंडर की कीमतें भी बढ़ जाएं। तेल बेचने वाली कंपनियां हर महीने की पहली तारीख को एलपीजी  के दाम को रिवाइज करती हैं। इसलिए एलपीजी की कीमतों में इजाफा हो सकता है।

बैंक नियम

बैंक ऑफ बड़ौदा ने रकम जमा करने और रकम निकासी के नियम बदले हैं। बैंक ऑफ बड़ौदा एक खास लिमिट के बाद नकदी निकासी या नकदी जमा पर लगने वाले शुल्क को बदलने जा रहा है। यह नया नियम सेविंग और सैलरीड अकाउंट दोनों पर लागू होंगे। आगे बैंक ऑफ इंडिया, पीएनबी, एक्सिस बैंक और सेंट्रल बैंक भी ऐसा कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें: T20 WC: पाकिस्तान ने इतिहास पलटा, अब भारत की बारी, जीते तो बहार, हारे तो बाहर

 

Related posts

आज JDU को मिल सकता है नया अध्यक्ष, दिल्ली में होगी राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक

Manoj Singh

Gumla : दशहरा मेला देखकर घर लौट रही दो नाबालिग बहनें, 10 युवकों ने किया सामूहिक दुष्कर्म

Manoj Singh

Ravan Dahan in Ranchi: दूसरी बार नहीं जलेगा रावण, 72 साल पुरानी है रांची में रावण दहन परम्परा

Pramod Kumar