समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

Lata Mangeshkar Passes Away: लता मंगेशकर नहीं ‘स्वर कोकिला’ का ये था असली नाम, जानें सरनेम में क्यों लिखती थीं Mangeshkar

Lata Mangeshkar

Lata Mangeshkar: सुरों की कोकिला लता मंगेशकर म्यूजिक की दुनिया का एक पूजनीय नाम हैं. लता मंगेशकर ने जब भी कोई गाना गाया अपनी आवाज से जादू चलाया. उनकी आवाज में न जाने कैसी कशिश थी, जो सुनने वाला सुनता रह जाता था. पिछले कई सालों से वो म्यूजिक इंडस्ट्री पर राज कर रही थीं. पर आज भी उनसे जुड़ी कई बातें हैं, जो लोगों को पता नहीं है. जैसे कि उनके नाम की हकीकत ही ले लीजिये.

लता मंगेशकर का असली नाम क्या था?

लता मंगेशकर के लाखों-करोड़ों चाहने वाले हैं. पर आप में से बहुत कम लोग ऐसे होंगे, जिन्हें उनके नाम से जुड़ी असली कहानी पता होगी. असल में गायिका के नाम का किस्सा भी उनकी तरह दिलचस्प था. लता का असली नाम कुमारी लता दीनानाथ मंगेशकर था. लता मंगेशकर के पिता का नाम पंडित दीनानाथ मंगेशकर था. उनके पिता मराठी थियेटर के मशहूर एक्टर और नाट्य संगीत म्युजिशियन थे.

इसलिये संगीत की कला उन्हें विरासत में मिली थी. कहते हैं कि लता जी के पिता को अपने पिता से पक्ष से ज्यादा माता पक्ष से लगाव था. दीनानाथ की मां येसूबाई देवदासी थीं. वो गोवा के ‘मंगेशी’ गांव में रहती थीं. वो भी मंदिरों में भजन-कीर्तन कर जिंदगी का गुजारा करती थीं. बस यहीं से दीनानाथ को ‘मंगेशकर’ नाम का टाइटल मिला. जन्म के समय लता जी का नाम हेमा रखा गया था. पर एक बार उनके पिता दीनानाथ ने ‘भावबंधन’ नाटक में काम किया. जिसमें एक फीमेल कैरेक्टर का नाम ‘लतिका’ था.

लता जी के पिता को ये नाम इतना पसंद आया कि उन्होंने जल्दी से अपनी बेटी ‘हेमा’ का नाम बदलकर ‘लता’ रख दिया. ये वही छोटी ‘हेमा’ है, जिसे पूरी दुनिया आज ‘लता मंगेशकर’ के नाम से जानती है.

ये भी पढ़ें – BREAKING: स्वर कोकिला लता मंगेशकर का निधन, लंबे समय से खराब थी तबीयत

ये भी पढ़ें- Tribute To Lata Mangeshkar: सुर साम्राज्ञी Lata Mangeshkar के जीवन से जुड़े अनछुए पहलू , दिल छू लेगी संघर्ष की कहानी

ये भी पढ़ें- मजबूरी में गायिका बनीं थीं Lata Mangeshkar, ऐसे तय किया स्वर कोकिला बनने का सफर

Lata Mangeshkar

 

Related posts

Commonwealth Games 2022: छठे दिन भारत की झोली में आए 5 मेडल, इन खिलाड़ियों ने दिलाया पदक

Manoj Singh

India GDP Growth News: इकोनॉमी पर ओमिक्रॉन का असर, वित्त वर्ष 2021-22 में 8.7% रही भारत की GDP

Manoj Singh

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू के सचिव की नियुक्ति, IAS राजेश वर्मा संभालेंगे जिम्मा

Sumeet Roy