समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर बिहार राँची

Lalu Yadav को डोरंडा केस में मिली जमानत, झारखंड हाईकोर्ट ने की CBI की दलील खारिज

Lalu Yadav

लालू यादव (Lalu Yadav) को झारखंड उच्च न्यायालय से बड़ी राहत मिली है. लालू प्रसाद यादव (Lalu Yadav) को चारा घोटाले से जुड़े डोरंडा ट्रेजरी मामले में जमानत मिल गई है. यह मामला डोरंडा कोषागार से 139 करोड़ रुपये की निकासी का है. 1990 से 1995 के बीच डोरंडा कोषागार से 139 करोड़ रुपये की निकासी की गई थी. करीब 27 साल बाद कोर्ट ने इसी साल फरवरी में इस घोटाले पर फैसला सुनाया था, जिसमें लालू यादव को दोषी पाया गया था. इस मामले में लालू यादव को पांच साल की सजा हुई है.

सीबीआई की दलील खारिज
इससे पहले अदालत में शपथ पत्र दायर कर सीबीआई की ओर से कहा गया था कि डोरंडा कोषागार से अवैध निकासी से जुड़े मामले में लालू प्रसाद की आधी सजा अब तक पूरी नहीं हुई हैं, वैसी स्थिति में उन्हें जमानत दिया जाना उचित नहीं होगा। लालू प्रसाद की जमानत याचिका को सुनवाई के लिए हाई कोर्ट के जस्टिस अपरेश कुमार सिंह की अदालत में सूचीबद्ध की गई थी। सुनवाई के बाद सीबीआई की दलील को खारिज कर दिया गया।

53 मामलों में से डोरंडा कोषागार का मामला था सबसे बड़ा 

बता दें कि सीबीआई ने 1996 में अलग-अलग कोषागारों से गलत ढंग से अलग-अलग राशियों की निकासी को लेकर 53 मुकदमे दर्ज किए थे. ये रुपयों को संदिग्‍ध रूप से पशुओं और उनके चारे पर खर्च होना बताया गया था. 53 मामलों में से डोरंडा कोषागार का मामला सबसे बड़ा था. जिसमें सर्वाधिक 170 आरोपी शामिल हैं. इसमें से 55 आरोपियों की मौत हो चुकी है.

दूसरे मामलों में भी हो चुकी है सजा

चारा घोटाले से जुड़े 4 मामलों में लालू यादव को पहले सजा मिल चुकी है. चाईबासा कोषागार से 37.7 करोड़ के अवैध निकासी में लालू जमानत पर हैं. इसमें उन्हें 5 साल की सज़ा हुई थी. देवघर कोषागार से 79 लाख के अवैध निकासी के घोटले के दूसरे मामले में भी वे जमानत पर हैं. इस मामले में उन्हे साढ़े 3 साल की सज़ा सुनाई गई थी. लालू यादव को 33.13 करोड़ के चाईबासा कोषागार से अवैध निकासी के तीसरे मामले में भी जमानत मिली थी. इस मामले में उन्हें 5 साल की सज़ा हुई थी. दुमका कोषागार से 3.13 करोड़ की अवैध निकासी के चौथे मामले में उन्हें दो अलग-अलग धाराओं में 7-7 साल की सज़ा सुनाई गई थी, लेकिन उसमें भी वे जमानत पर हैं.

ये भी पढ़ें : पेयजल स्वच्छता मंत्री मिथिलेश ठाकुर के खिलाफ शिकायत, अपनी ही कंपनी को ठेका दिलाने का आरोप

Related posts

सरकार ने Ban किया Free Fire!  Google Play Store और App Store से गायब हुए कई ऐप्स

Sumeet Roy

ईचागढ़ के पूर्व विधायक साधु चरण महतो का निधन, सीएम हेमंत सोरेन ने जताया दुख

Manoj Singh

Jharkhand Education: झारखंड में लागू होगी नयी शिक्षा नीति, दसवीं में पढ़ाया जायेगा नवमी का पाठ

Sumeet Roy