समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

KCC: CM Hemant का Plan किसानों के लिए वरदान, कम ब्याज पर ऋण से खेती हुई आसान

Kisan Credit Card

न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने किसानों को केसीसी (Kisan Credit Card) से जोड़कर खेती की उनकी राह आसान बना दी है। अक्टूबर 2021 के पहले सप्ताह तक राज्य के 20,1687 केसीसी के लाभुकों के ऋण के लिए 68,516 लाख रुपए की स्वीकृत दी गयी थी। केसीसी योजना के तहत कृषि के साथ मत्स्य पालन और दुग्ध उत्पादन के लिए भी ऋण उपलब्ध कराये जा रहे हैं। किसान क्रेडिट कार्ड (केसीसी) राज्य के किसानों के लिए वरदान साबित हुआ है। केसीसी के माध्यम से किसानों को खेती के लिए आसान दर पर ऋण उपलब्ध कराया जा रहा है। इस ऋण का उपयोग कर किसान खेती के लिए बीज, खाद व जरूरी उपकरण खरीद रहे हैं। इससे जहां किसानों को खेती में सहायता मिल रही है, वहीं उन्हें साहूकारों के चंगुल से भी मुक्ति मिल रही है। आसानी से मिला ऋण, सब्जियों की खेती कर मुनाफा कमाया

पॉली हाउस में सब्जी की खेती करने का फायदा

अनु उरांव कांके के पिठौरिया स्थित कुम्हरिया गांव के निवासी हैं। इनका कहना हैं कि किसानों की बड़ी समस्या खेती के लिए पूंजी जुटाना होता है, क्योंकि पूंजी नहीं होने से वे समय पर खाद, बीज आदि नहीं खरीद पाते हैं। अनु उरांव ने बताया कि प्रखंड कार्यालय में जाने से उन्हें केसीसी के बारे में जानकारी मिली। जिसके बाद केसीसी के लिए आवेदन दिया। केसीसी के जरिए मिले ऋण का उपयोग उन्होंने ड्रीप एरिगेशन व खेती से जुड़े अन्य़ कार्यों के लिए किया। ढाई एकड़ में खीरा, टमाटर, पत्तागोभी की फसल लगायी थी। अनु बताते हैं पॉली हाउस में सब्जी की खेती करने का भी फायदा मिला। वे अब अगले सीजन के लिए तरबूज की खेती के लिए तैयारी कर रहे हैं। अनु बताते हैं कि सब्जियों की खेती में प्रति एकड़ 80 से 90 हजार रुपये तक की लागत आती है। सब्जियों की साल भर में तीन फसल ले पाते हैं। सारे खर्च को निकालने के बाद तकरीबन डेढ़ लाख रुपये तक की बचत हो जाती है।अनु उरांव कुम्हरिया एग्रो कांके फॉमर्स कंपनी लिमिटेड से भी जुड़े हैं। स्थानीय किसानों के इस संगठन में कुम्हरिया और आसपास के गांवों के 150 किसान जुड़े हैं। लगभग 50 किसान तो कुम्हरिया गांव से ही है।

केसीसी से मिले ऋण से गेहूं और सरसों की खेती

प्रकाश भगत गुमला जिले के घाघरा प्रखंड स्थित चुन्दरी नवांटोली गांव के निवासी है। उन्हें पंचाय़त के मुखिया से किसान क्रेडिट कार्ड (केसीसी) से होनेवाले फायदे के बारे में जानकारी मिली। उन्होंने कहा कि पहले तो साहूकारों से कृषि कार्य के लिए ऋण लेना पड़ता था, पर केसीसी से यह फायदा हुआ कि साहूकारों के चंगुल से मुक्ति मिली है। उन्होंने कहा कि उनके पास सात एकड़ कृषि भूमि है। जिसमें से आधे हिस्से पर वे धान की खेती करते हैं और आधे में गेहूं की। केसीसी से उन्होंने 46,000 रुपये का ऋण लिया था। इसका उपयोग उन्होंने गेंहू और सरसों की खेती में लगाया। खेती के नये तरीके अपनाने और मेहनत करने की वजह से अच्छी फसल हुई। प्रकाश बताते हैं कि सारे खर्च निकालने के बाद उन्हें 40,000 रुपय़े का लाभ हुआ। वे अपना केसीसी का ऋण चुका चुके हैं और अब गेंहू की खेती के लिए तैयारी कर रहे हैं।

आलू और गेहूं की खेती कर रहे खूंटी के नरेश महतो

खूंटी के मान्हो सिलादोन गांव के निवासी नरेश महतो को एक महीने पहले ही किसान क्रेडिट कार्ड (केसीसी) के बारे में जानकारी मिली। योजना के बारे में जानकर उन्होंने ऋण के लिए जरूरी प्रक्रिया पूरा कर आवेदन किया। नरेश महतो को 50,000 रुपये का ऋण मिला। नरेश के पास कृषि के लिए लगभग पांच एकड़ भूमि है। हालांकि इसमें से कुछ भूमि पर खेती नहीं हो पाती। नरेश ने 40 डिसमिल भूमि पर आलू की खेती की है। इसके अलावा वे एक एकड़ भूमि पर गेंहू की फसल लगाने की तैयारी कर रहे हैं। नरेश महतो ने कहा कि केसीसी काफी अच्छी योजना है। इससे किसानों को खेती कार्य के लिए खाद, बीज व जुताई आदि करने में काफी सहूलियत हो रही है।

निशा उरांव, निदेशक, कृषि पशुपालन एवं सहकारिता विभाग
माननीय मुख्यमंत्री के आदेश पर युद्ध स्तर पर किसानों  को केसीसी मुहैया कराया जा रहा है । कृषक मित्र,  एटीएम, बीटीएम  एवं वीएलडब्लू टोला-टोला घूम कर किसानों से केसीसी फॉर्म भरवा रहे हैं। फलस्वरूप इस वर्ष अप्रत्याशित रूप से सबसे अधिक केसीसी आवेदन भरवाए गए हैं। यदि किसी त्रुटि के कारण बैंक कुछ आवेदनों को अस्वीकार करते हैं, तो कृषि विभाग के कर्मचारी इन आवेदनों को शुद्ध कर पुनः बैंक में जमा भी करा रहे हैं।

यह भी पढ़ें: Godda : CM हेमन्त सोरेन मंदिर के प्राण- प्रतिष्ठा कार्यक्रम में शामिल हुए, कहा – मंदिर मस्जिद -गुरुद्वारा -चर्च किसी एक मजहब और तबके का नहीं

Related posts

Good news : Jharkhand में सरकारी नौकरी पाने का बड़ा मौका, 2.44 लाख पदों पर जल्द होगी सीधी नियुक्ति

Manoj Singh

JioPhone Next खरीदने के लिए इंतजार खत्म! इस तरह 1,999 रुपये में घर ले जाएं दुनिया का सबसे सस्ता 4G फोन, जानिए सबकुछ

Manoj Singh

बिहार के इन दो शिक्षकों ने राज्य को किया गौरवान्वित, 5 सितंबर को राष्ट्रपति करेंगे सम्मानित

Manoj Singh

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.