समाचार प्लस
Breaking देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

Kartavya Path: कर्तव्य पथ से बोले PM मोदी- राजपथ हमेशा के लिए मिट गया

image source : social media

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi)  ने गुरुवार को इंडिया गेट पर स्वतंत्रता सेनानी नेताजी सुभाष चंद्र बोस की प्रतिमा (Statue of Subhas Chandra Bose) का अनावरण और कर्तव्यपथ (Kartavya Path) का उद्घाटन शाम 7 बजे किया.

image source : social media
image source : social media

पीएम मोदी ने कहा कि पिछले आठ वर्षों में हमने एक के बाद एक ऐसे कितने ही निर्णय लिए हैं, जिन पर नेता जी के आदर्शों और सपनों की छाप है. नेताजी सुभाष, अखंड भारत के पहले प्रधान थे जिन्होंने 1947 से भी पहले अंडमान को आजाद कराकर तिरंगा फहराया था.

‘भुला दिया गया महानायक’

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि अगर आजादी के बाद हमारा भारत सुभाष बाबू की राह पर चला होता तो आज देश कितनी ऊंचाइयों पर होता! लेकिन दुर्भाग्य से, आजादी के बाद हमारे इस महानायक को भुला दिया गया. उनके विचारों को, उनसे जुड़े प्रतीकों तक को नजरअंदाज कर दिया गया.

“नेताजी को उपयुक्त श्रद्धांजलि”

नेताजी सुभाष चंद्र बोस की प्रतिमा को उसी स्थान पर स्थापित किया गया है, जहां इस साल की शुरूआत में पराक्रम दिवस (23 जनवरी) पर नेताजी की होलोग्राम प्रतिमा का अनावरण किया गया था. ग्रेनाइट से बनी यह प्रतिमा हमारे स्वतंत्रता संग्राम में नेताजी के अपार योगदान के लिए एक उपयुक्त श्रद्धांजलि है और उनके प्रति देश के ऋणी होने का प्रतीक है.

‘गुजरे हुए कल को छोड़कर, आने वाले कल की तस्वीर में नए रंग भर रहे’

इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि आज के इस ऐतिहासिक कार्यक्रम पर पूरे देश की दृष्टि है. सभी देशवासी इस समय, इस कार्यक्रम से जुड़े हुए हैं. मैं इस ऐतिहासिक क्षण के साक्षी बन रहे सभी देशवासियों का हृदय से स्वागत करता हूं, अभिनंदन करता हूं. पीएम ने कहा कि आजादी के अमृत महोत्सव में, देश को आज एक नई प्रेरणा मिली है, नई ऊर्जा मिली है. आज हम गुजरे हुए कल को छोड़कर, आने वाले कल की तस्वीर में नए रंग भर रहे हैं. आज जो हर तरफ ये नई आभा दिख रही है, वो नए भारत के आत्मविश्वास की आभा है.

image source : social media
image source : social media

राजपथ, आज से इतिहास की बात हो गया

पीएम मोदी ने कहा कि गुलामी का प्रतीक किंग्सवे यानी राजपथ, आज से इतिहास की बात हो गया है, हमेशा के लिए मिट गया है. आज कर्तव्य पथ के रूप में नए इतिहास का सृजन हुआ है. मैं सभी देशवासियों को आजादी के इस अमृतकाल में, गुलामी की एक और पहचान से मुक्ति के लिए बहुत-बहुत बधाई देता हूं.

ये न शुरुआत है, न अंत है

पीएम मोदी ने कहा कि नेता जी कल्पना की थी कि लाल किले पर तिरंगा फहराने की क्या अनुभूति होगी. इस अनुभूति का साक्षात्कार मैंने स्वयं किया, जब मुझे आजाद हिंद सरकार के 75 वर्ष होने पर लाल किले पर तिरंगा फहराने का सौभाग्य मिला. पीएम ने कहा कि आज अगर राजपथ का अस्तित्व समाप्त होकर कर्तव्यपथ बना है, आज अगर जॉर्ज पंचम की मूर्ति के निशान को हटाकर नेताजी की मूर्ति लगी है तो ये गुलामी की मानसिकता के परित्याग का पहला उदाहरण नहीं है. ये न शुरुआत है, न अंत है.

गणतंत्र दिवस परेड में सभी को आमंत्रित करेंगे

इससे पहले पीएम मोदी ने श्रमजीवियों से मुलाकात की. उन्होंने ‘श्रमजीवियों’ से कहा कि वह 26 जनवरी गणतंत्र दिवस परेड के लिए सेंट्रल विस्टा के पुनर्विकास परियोजना पर काम करने वाले सभी लोगों को आमंत्रित करेंगे.

अरुण योगीराज हैं मूर्तिकार 

नेताजी की मूर्ति को अरुण योगीराज ने बनाया है. उनके द्वारा तैयार की गई 28 फीट ऊंची प्रतिमा को एक ग्रेनाइट पत्थर से उकेरा गया है और इसका वजन करीब 65 मीट्रिक टन है.

ये भी पढ़ें : मणिमहेश कैलाश पर्वत की चोटी पर चढ़ने का झारखंड के युवक का दावा, कितना सच, कितना झूठ?

 

Related posts

पश्चिम बंगाल: दुर्गापुर एयरपोर्ट पर लैंडिंग के वक्त तूफान में फंसी SpiceJet की फ्लाइट, 40 यात्री घायल

Manoj Singh

Rahul Gandhi Detained: ‘जंजीर बढ़ाकर साध मुझे हां हां.. दुर्योधन’, सोनिया-राहुल पर कार्रवाई से कांग्रेस में उबाल 

Manoj Singh

Rahul Gandhi ने फिर अलापा ‘हिंदुत्ववादी’ का राग, गांधी जी की पुण्यतिथि पर किया ये ट्वीट

Manoj Singh