समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर राँची

JPSC Preliminary Exam Result Controversy: Babulal Marandi ने की CBI जांच की मांग, कही ये बड़ी बात

JPSC Preliminary Exam Result Controversy

न्यूज़ डेस्क/ समाचार प्लस झारखंड – बिहार
JPSC Preliminary Exam Result Controversy: झारखंड (Jharkhand) लोक सेवा आयोग की सिविल सर्विस परीक्षा परिणाम का विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा. अभ्यर्थियों की तरफ से परीक्षा परिणाम पर उठाई गई आपत्तियों को लेकर अब झारखंड के राज्यपाल रमेश बैस (Ramesh Bais) ने आयोग के सचिव से जवाब मांगा है. इस बीच भाजपा ने मामले को लेकर सीबीआई जांच की मांग की है.

दाल में जरूर कुछ काला है

झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा नेता बाबूलाल मरांडी (Babulal Marandi) ने ट्वीट कर कहा है कि, ‘झारखंड में जेपीएससी के काले कारनामे जिस हिसाब से लगातार सामने आ रहे हैं उसे देखकर साफ प्रतीत होता है कि दाल में जरूर कुछ काला है. भाजपा @BJP4Jharkhand जेपीएससी में हुई गड़बड़ियों की सीबीआई जांच की मांग करती है ताकि छात्रों को न्याय मिल सके.’

 राज्यपाल ने आयोग के सचिव से रिपोर्ट मांगी है

बता दें कि, बीते 24 नवंबर को राज्यपाल ने आयोग के चेयरमैन अमिताभ चौधरी (Amitabh Choudhary) को राजभवन तलब कर परीक्षा परिणाम में गड़बड़ी के आरोपों पर उनसे जवाब मांगा था. राज्यपाल से मुलाकात के बाद जेपीएससी ने अपनी वेबसाइट पर उम्मीदवारों की आपत्तियों का जवाब दिया था, लेकिन आंदोलित अभ्यर्थियों ने जेपीएससी के जवाबों को नकार दिया और बीते शुक्रवार को राज्यपाल से मुलाकात कर उन्हें कथित गड़बड़ियों को लेकर कई साक्ष्य सौंपे. इसके बाद राज्यपाल ने अभ्यर्थियों की तरफ से उठाई गई आपत्तियों पर एक बार फिर आयोग के सचिव से रिपोर्ट मांगी है.

आपत्तियां ठोस साक्ष्यों पर आधारित हैं

गौरतलब है कि आयोग ने परीक्षा में पहले सफल घोषित किए गए 57 उम्मीदवारों को अब असफल घोषित कर दिया है. आयोग का कहना है कि इनमें से 49 उम्मीदवारों की ओएमआर शीट नहीं मिल रही है. इसके अलावा 8 उम्मीदवारों को अन्य कारणों से असफल घोषित किया गया है. आंदोलित अभ्यर्थियों का कहना है कि आयोग परीक्षा में गड़बड़ियों की बात को शुरू से नकार रहा था, लेकिन 57 उम्मीदवारों के पहले पास और उसके बाद फेल करार देने से ये साफ हो गया है कि परीक्षा के आयोजन से लेकर रिजल्ट तक में बड़े पैमाने पर गड़बड़ियां हुई हैं. इधर, भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष दीपक प्रकाश ने आंदोलित अभ्यर्थियों का समर्थन करते हुए कहा है कि रिजल्ट पर उठाई गई आपत्तियां ठोस साक्ष्यों पर आधारित हैं. उन्होंने गड़बड़ियों के लिए सीधे आयोग के अध्यक्ष अमिताभ चौधरी को जिम्मेदार ठहराते हुए उन्हें बर्खास्त करने की मांग की है.

ये भी पढ़ें :duping people in name of Hajj: Hajj का सपना दिखा नौशाद कर चुका है करोड़ों की ठगी, ऐसे करता था गुमराह

 

Related posts

Global Hunger Index: भारत नागरिकों को भोजन उपलब्ध कराने में पाकिस्तान, बांग्लादेश से भी पीछे

Pramod Kumar

Jamtara: शराबी पति ने घर से निकाला,न्याय के लिए दुधमुंहे बच्चे संग भटक रही दुखियारी मां, महिला थाने से न्याय की आस

Pramod Kumar

UN में इमरान ने कश्मीर पर मुंह खोला तो भारत ने ‘आतंकिस्तान’ की उड़ायीं धज्जियां

Pramod Kumar