समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर राँची

Jharkhand: देश को गोल्ड मेडल दिलाकर भी आज लाचार हैं मारिया खलखो, खाने, दवाओं के पैसे भी नहीं

Maria Khalkho, who got the gold medal for the country, is helpless today

 न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

सरकारें खेल और खिलाड़ियों के विकास के दावे तो खूब करती हैं, लेकिन हकीकत तो उससे अलग ही नजर आती है। एक खिलाड़ी एक तरह से अपना जीवन राज्य और देश को समर्पित कर देता है, ताकि उसकी प्रतिष्ठा बनी रहे, यह उसकी अपनी जन्मभूमि के प्रति उसका समर्पण है। तो क्या उनका सर्वस्व लेकर सरकारों को कृतघ्न हो जाना चाहिए? कम से कम झारखंड की राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भाला फेंक में पदक दिलाने वाली मारिया खलखो की हालत देखकर तो ऐसा ही कहा जा सकता है। मारिया खलखो का आज आर्थिक स्थिति ऐसी हो गयी है कि वह अपने लिए भोजन और अपनी बीमारी के लिए दवाएं भी नहीं खरीद सकतीं।

मारिया गोरोती खलखो, यह वह नाम है जिसने 70 के दशक में भालाफेंक की राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में अपने प्रतिभागियों को बेदम कर स्वर्ण पदक जीते थे, आज वही मारिया खलखो अपने फेफड़े की बीमारी से बेदम हैं। उनकी मदद करने वाला कोई नहीं है। रांची के नामकुम में अपनी बहन के घर पर बिस्तर पर पड़ी मदद के लिए खेल संगठनों, सामाजिक संगठनों, यहां तक कि सरकार से मदद की आस लगाये हुए हैं। उनसे अपने इलाज और दवाइयों तक के लिए पैसे तक नहीं जुट पा रहे हैं। खबर है कि झारखंड सरकार के खेल निदेशालय ने यह पता चलने पर 25 हजार रुपये का चेक उन्हें उपलब्ध कराया है। मारिया ने अपने राज्य और अपने देश को जो दिया है, उसके आगे यह मदद काफी छोटी है।

मारिया खलखो की उपलब्धियां
  • 1974 में नेशनल लेवल के जेवलिन मीट में गोल्ड मेडल।
  • ऑल इंडिया रूरल समिट में जेवलिन थ्रो में गोल्ड मेडल।
  • 1975 में मणिपुर में आयोजित नेशनल स्कूल कंपीटिशन में गोल्ड मेडल हासिल किया।
  • 1975 -76 में जालंधर में अंतर्राष्ट्रीय जेवलिन मीट में गोल्ड मेडल।
  • 1976-77 में कई नेशनल-रिजनल प्रतियोगिताओं में कई मेडल जीते।

मारिया में खेल का ऐसा जुनून था कि इसके लिए उन्होंने शादी तक नहीं की। 1988 से 2018 तक उन्होंने झारखंड के लातेहार जिले के महुआडांड़ के सरकारी ट्रेनिंग सेंटर में दूसरी एथलीटों के साथ याशिका कुजूर, एंब्रेसिया कुजूर, प्रतिमा खलखो, रीमा लकड़ा जैसी एथलीट को भाला फेंक के गुर सिखाए। आगे चल कर इन एथलीटों ने भाला फेंक में काफी नाम कमाये।

यह भी पढ़ें: बच्चों को दोपहिया पर ले जाने का बदल गया नियम, पूरी सुरक्षा के साथ ही ले जा पायेंगे बच्चों को

Related posts

बिहार : 5 लाख की योजना गटक गए मुखिया जी, अब शराब और पैसों का प्रलोभन देकर मांग रहे वोट, आक्रोशित ग्रामीणों ने खदेड़ा

Manoj Singh

पेरवा जलप्रपात में बही गरिमा का शव मिला, सीएम ने जताया शोक

Manoj Singh

पब्लिक स्कूलों पर चलेगा प्रशासन का डंडा, अधिक फीस लेने वाले स्कूलों पर होगी सख्त कार्रवाई 

Sumeet Roy