समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

Jharkhand: सरयू राय ने कहा- लिफाफा तो कब का खुल चुका, पहले दिन से सीएम को है सब पता!

Jharkhand: Saryu Rai said- When has the envelope been opened, CM knows everything!

न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन झारखंड के राज्यपाल को चुनाव आयोग से मिले लिफाफे को लेकर चिंतित हैं, प्रेस कॉन्फ्रेंस करके और जनसभाओं में राज्यपाल, चुनाव आयोग और भाजपा को कोस रहे हैं, लेकिन जमशेदपुर के विधायक सरयू राय का कुछ और ही कहना है। सरयू राय तो कह रहे हैं कि राज्यपाल के पास आया लिफाफा तो पहले ही खुल चुका है। लिफाफा में क्या लिखा है वह भी सीएम हेमंत सोरेन को पता है।

बता दें, खान लीज मामले में चुनाव आयोग में सीएम हेमंत सोरेन के खिलाफ सुनवाई कब की हो चुकी है। सुनवाई के बाद चुनाव आयोग ने अपनी अनुशंसा या सिफारिश राज्यपाल रमेश बैस के पास भेज दी है। लिफाफे में जो लेटर है उसमें क्या लिखा है, उसको जानने की हर किसी की जिज्ञासा है, लेकिन न तो चुनाव आयोग की ओर से कुछ कहा गया और न ही राज्यपाल की ओर से कोई बयान जारी हुआ है। इस लिफाफे को लेकर झारखंड में जारी राजनीति के बीच एक बार राज्यपाल रमेश बैस ने मजाकिया अंदाज में जरूर कहा- चुनाव आयोग का भेजा लिफाफा ऐसा चिपका है कि खुल ही नहीं रहा। उनके इस बयान पर लोगों की हंसी छूट गई और लोगों ने कहा कि उन्हें ऐसा बयान नहीं देना चाहिए था।

झामुमो में भी इस लेटर को लेकर बेचैनी है, वह भी बार-बार कह रहा है  कि राज्यपाल को चुनाव आयोग की सिफारिश सार्वजनिक करने में अब देर नहीं करनी चाहिए, क्योंकि इससे एक भ्रम की स्थिति बनी हुई है। इतना ही नहीं मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन बार-बार एक नहीं कई मंचों पर, विधानसभा में, प्रेस कॉन्फ्रेंस में, जनसभाओं में राज्यपाल रमेश बैस, चुनाव आयोग और भाजपा पर हमले करते रहे हैं। मुख्यमंत्री हेमंत ने तो यहां तक कह दिया कि अगर वह अपराधी हैं तो उन्हें सजा क्यों नहीं दी जा रही।अगर वह दोषी हैं तो सजा बताई जाए।

‘राज’ राज नहीं है – सरयू राय

राज्य सरकार के पूर्व मंत्री और जमशेदपुर पूर्व के विधायक सरयू राय ने एक ट्वीट किया है जिसमें उन्होंने स्पष्ट लिखा है कि राजभवन में रखा लिफाफा बंद नहीं है, वह तो कब का खुल चुका है. ऐसा नहीं कि पत्र के मजमून से मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन अनभिज्ञ हैं. उनकी फोनटेपिया (फोन टेप करने वाली) मशीनरी के पास प्रासंगिक वार्तालाप का रिकार्ड पहले दिन से है. दोनों खेमों से आए दिन हो रही बयानबाजी जगे को जगाने की कोशिश जैसी है. यह रहस्य बेपर्द होना चाहिए।

यह भी पढ़ें Dengue झारखंड और बिहार की नयी आफत, बिहार में ज्यादा प्रकोप, झारखंड भी बरत रहा सावधानियां

Related posts

ईचागढ़ के पूर्व विधायक साधु चरण महतो का निधन, सीएम हेमंत सोरेन ने जताया दुख

Manoj Singh

IBPS Clerk recruitment 2021: बैंक क्लर्क भर्ती के लिए बढ़ गई पदों की संख्या, शीघ्र करें आवेदन

Manoj Singh

पीएम मोदी 28 अक्टूबर को राज्यों के गृह मंत्रियों के चिंतन शिविर में होंगे शामिल, आंतरिक सुरक्षा पर मंथन

Pramod Kumar