समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

Jharkhand: कोरोना को लेकर बन्ना गुप्ता ने हाई लेवल मीटिंग के बाद कहा- एडवांड प्लानिंग के साथ हम तैयार

Jharkhand: Regarding Corona, Banna Gupta said - We are ready with advance planning

न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

कोरोना के बढ़ते खतरे से निबटने के लिए झारखंड ने भी कमर कस ली है। 27 दिसम्बर को देशभर के सरकारी अस्पतालों में होने वाली मॉक ड्रिल से पहले मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के साथ हाई लेवल मीटिंग की। इस मीटिंग के बाद बन्ना गुप्ता ने और बताया कि झारखंड कोरोना के किसी भी खतरे से निबटने के लिए हर तरह के तैयार हैं। अगर कोरोना का खतरा राज्य पर मंडराता है तो पूरी प्लानिंग और एडवांस तरीके से हम उससे निबट लेंगे। बैठक के बाद बन्ना गुप्ता ने पत्रकारों को आश्वस्त किया कि एडवांस प्लानिगं के साथ कोरोना से लड़ने की हमारी तैयारी है। लोग परेशान या भयभीत न हों, बस, सावधानी बरतें। बैठक में स्वास्थ्य सचिव, मुख्य सचिव, रिम्स निदेशक समेत स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी मीटिंग में शामिल थे।

बन्ना गुप्ता ने यह भी कहा कि मुख्यमंत्री ने कोरोना के सभी बिन्दुओं पर गौर किया और राज्य के अस्पतालों में आरटीपीसीआर, ऑक्सीजन प्लांट, बेड की स्थिति तथा अन्य स्वास्थ्य सम्बंधी बातों की जानकारी ली। कोरोना के सम्भावित खतरे से कैसे निबटा जा सके इसके लिए आयुष समेत अन्य स्वास्थ्य इकाइयों के अधिकारियों के साथ चर्चा की। सारे इन्तजामात के साथ मैन पावर की उपलब्धता को भी मुख्यमंत्री ने सुनिश्चित किया।

कोविड-19 जाँच की स्थिति :
  • राज्य में कोविड-19 की RT-PCR तथा RAT kits के माध्यम से सरकारी तथा निजी प्रयोगशाला में जाँच की व्यवस्था सुनिश्चित की गयी है।
  • राज्य में 297 True Nat मशीन सभी जिलों के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र तक उपलब्धता सुनिश्चित की गयी है।
  • जाँच हेतु पर्याप्त संख्या में जिलों में रैपिड एंटीजन किट तथा भी०टी०एम० किट्स उपलब्ध है। कुल 10,68,877 लाख रैपिड एंटीजन किट तथा 3,59,933 वी.टी.एम. किट्स उपलब्ध है ।
  • राज्य में पहले से 8 आरटीपीसीआर लैब कियाशील है ( रिम्स, एम०जी०एम०, पीएमसीएच, फूलो झानो मेडिकल कॉलेज दुमका, मेदनीनगर मेडिकल कॉलेज पलामू, शहीद निर्मल महतो मेडिकल कॉलेज, धनबाद, शेख भिखारी मेडिकल कॉलेज हजारीबाग, ईटकी, जिला वायरॉलोजी लैब साहेबगंज)
  • ECRP-II अन्तर्गत 12 जिलों (गढ़वा, लातेहार, कोडरमा, गिरिडीह, खूँटी, सिमडेगा, लोहरदगा, चतरा, पाकुड़, जामताड़ा, रामगढ़ तथा सरायकेला-खरसावा) में RT-PCR लैब की अधिष्ठापित की गयी है, जिसे ICMR प्रमाणीकरण के उपरांत क्रियाशील कर ली जाएगी।
  • राज्य सरकार द्वारा प्रेझा फाउण्डेशन के माध्यम से अन्य 7 जिलों (राँची, जमशेदपुर, चाईबासा, बोकारो, देवघर गुमला एवं गोड्डा) में भी RT-PCR लैब की स्थापना का कार्य पूर्ण किया गया है। ICMR प्रमाणीकरण के उपरान्त क्रियाशील कर ली जाएगी।
    इस प्रकार कुल 8 कियाशील है तथा 19 ICMR प्रमाणीकरण के उपरान्त क्रियाशील कर ली जाएगी।
  • ओमीक्रोन के नये सब लिनेंज (Sub Lineage) वेरियेंट BF-7 की पुष्टि देश के कुछ राज्यों में की गयी है। राज्य में कोविड- 19 के नये किस्म के वायरस के पहचान हेतु रिम्स, राँची में जिनोम सिक्वेसिंग मशीन अधिष्ठापन माह जुलाई 2022 में की गयी, तदुपरांत डिपार्टमेंट ऑफ जिनेटिक्स एवं जिनोमिक्स (Department of Genetics & Genomics), रिम्स राँची में अगस्त माह में सरकारी तथा निजी कोविड-19 प्रयोगशाला से प्राप्त Stored RT-PCR नमूनों का जिनोम सिक्वेंसिंग (Genome Squencing) का कार्य किया गया है। रिम्स राँची अंतर्गत इस मशीन में 384 नमूनों की Sequencing (अनुक्रमित रूप से लगाने की क्षमता है। एक बार में कम-से-कम 96 नमूनों (12×8) का वेल स्किवेंसर मशीन (Well Squencer Machine) में संधारित रहता है। 96 नमूनों को Sequence करने के लिए एक Chip की लागत लगभग 6.00 लाख रुपये होती है। स्केिवेंशींग करने के कुल चार चरण के अन्तर्गत जिनोम के Library preparation ( जिनोम का संग्रहण), Extraction (आरएनएम एक्सट्रक्सन), Sequencing (अनुक्रमण में लगाना) तथा डाटा को विश्लेषण करने, ( Meta data analysis) में कुल नये वेरियेंट की पहचान हेतु 6 से 7 दिन का समय लगता है। स्किवेंशींग हेतु हेतु मशीन 48 घंटा तक रन की जाती है। अभी वर्तमान में स्किवेंशींग हेतु किट्स उपलब्ध है।
  • रिम्स रांची एवं फूलों झानो चिकित्सा महाविद्यालय दुमका में कोबास (6800) लैब स्थापित की जा चुकी है।
बेड की उपलब्धता
  • राज्य में कोविड- 19 मरीज के इलाज हेतु सरकारी संस्थानों में कुल 19,535 बेड उपलब्ध है जिनकी विवरणी निम्नवत् है:-
    – नॉन-ऑक्सीजन बेड : 5276
    • ऑक्सीजन सपोर्टेट बेड : 11356 –
    • आई०सी०यू० बेड : 1447
    • वेंटिलेटर बेड : 1456
  • पेडयाट्रीक आई०सी०यू० (PICU) (सरकारी) -510
  • पेडयाट्रीक HDU (सरकारी स्वास्थ्य संस्थानों में ) – 455
  • पेडयाट्रीक मामले हेतु ऑक्सीजन बेड – 1180
  • वर्तमान के स्थिति में सक्रिय मामलों की संख्या 01 है। संक्रमित मरीज RIMS के COVID वार्ड में भर्ती हैं, उनके लक्षण सामान्य है।
कोविड-19 ऑक्सीजन उपलब्धता की स्थिति

राज्य में कुल 122 पी०एस०ए० प्लांट अधिष्ठापित किए गये है।

  • पीएम केयर के अन्तर्गत 38 पी०एस०ए० प्लांट स्थापित किये गये।
  • स्टेट रिसोर्स से 39 पी०एस०ए० प्लांट स्थापित किए गए।
  • रेलवे से 4 पी०एस०ए० प्लांट स्थापित किए गए। (d) कोल मिनिस्ट्री से 10 पी0एस0ए0 प्लांट स्थापित किए गए।
  • निजी स्त्रोतों से 31 पी०एस०ए० प्लांट अधिष्ठापित किये गये है।
  • राज्य में पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन उपलब्ध है एवं राज्य के सरकारी (पाँच) तथा निजी अस्पताल (छः) में कुल 11 लिक्वीड मेडिकल ऑक्सीजन (LMO) क्रियाशील किये गये हैं।
    -ECRP-II अन्तर्गत राज्य के 27 चिन्हित स्वास्थ्य संस्थानों (मेडिकल कॉलेज एवं जिला अस्पताल) में LMO Tank 10 KL with MGPS की अधिष्ठापना हेतु निविदा निस्तारण क्रयादेश कॉरपोरेशन के द्वारा निर्गत किया गया। बैठक में मुख्यमंत्री ने तैयारियों से संबंधित कई महत्वपूर्ण बिंदुओं पर अपने सुझाव विभागीय पदाधिकारियों को दिए।

बैठक में स्वास्थ्य, चिकित्सा शिक्षा एवं परिवार कल्याण विभाग के मंत्री बन्ना गुप्ता, मुख्य सचिव सुखदेव सिंह, अपर मुख्य सचिव-सह-स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव अरुण कुमार सिंह, मुख्यमंत्री के सचिव विनय कुमार चौबे, आपदा प्रबंधन विभाग के सचिव अमिताभ कौशल, रिम्स, निदेशक डॉ कामेश्वर प्रसाद सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

यह भी पढ़ें: Jharkhand: नये जमाने का नया प्यार, दो बच्चों की मां नाबालिग लड़की के साथ फरार

Related posts

Uttarakhand Election Results 2022 Live Updates: CM पुष्कर धामी हारे, खटीमा सीट पर कांग्रेस प्रत्याशी ने 6 हजार वोटों से हराया

Sumeet Roy

BREAKING : झारखंड में नहीं रुकेंगे पंचायत चुनाव, सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई कर सुनाया बड़ा फैसला, कहा- नहीं रुक सकते चुनाव

Sumeet Roy

Mahamuqabla: फैन ‘चाचा’ समर्थन तो पाकिस्तान टीम को कर रहे, धौनी को कहा ‘दिल से आई लव यू’

Pramod Kumar