समाचार प्लस
Breaking गुमला झारखण्ड फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

Jharkhand: कप्तानअष्टम के गरीब मां-बाप अब देख सकेंगे मैच, प्रशासन और खेल महकमे की हुई कृपा, घर पर लगा टीवी

Jharkhand: Poor parents of Captain VIII will now be able to watch the match, TV installed at home
फीफा वर्ल्ड कप में आज रात 8 बजे भारत का अमेरिका से है मुकाबला

गुमला से अजित सोनी की रिपोर्ट/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

फीफा अंडर 17 महिला वर्ल्ड कप में आज भारत अपने पहले मुकाबले में अमेरिका से भिड़ने वाला है। यह हर्ष का विषय है कि झारखंड की बेटी अष्टम उरांव भारतीय टीम का नेतृत्व कर रही हैं। लेकिन दुर्भाग्य की बात है कि झारखंड का नाम रोशन करने वाली इस बेटी के घर पर टेलीविजन नहीं था। इसको लेकर अष्टम के माता-पिता और परिवार के लोग दुखी थे कि वे अपनी बेटी की खेलते हुए कैसे देखेंगे। इसकी खबर जैसे ही प्रशासन को लगी। अष्टम के घर पर टीवी लग गया। यही नहीं, अष्टम उरांव के घर तक पहुंच पथ के अभाव की खबर पाकर प्रशासन ने फौरी तौर पर सड़क निर्माण भी आरम्भ करा दिया है। बता दें, ओडिशा के भुवनेश्वर स्थित कलिंग स्टेडियम में आज भारत और अमेरिका के बीच आयोजित होने वाली मैच को लेकर जहां देशभर के खेल प्रेमियों की निगाहें टिकी हुई हैं, वहीं प्रशासन के स्तर से घर वालों को मैच देखने में दिक्कत न हो इसलिए बीडीओ और खेल पदाधिकारी ने अष्टम के घर पर बकायदा टीवी और इन्वर्टर पहुंचा दिया है।

भारी गरीबी और संघर्ष से निकल कर जिस अष्टम ने भारतीय टीम की कप्तानी सम्भाली है उसके अभिभावकों की तंगहाली और गरीबी का आलम यह है कि आज मैच के दिन भी उसके माता-पिता उसी सड़क के निर्माण कार्य में 250 रुपये की दिहाड़ी मजदूरी करते देखे जा सकते हैं, जिस सड़क को प्रशासन उनकी बेटी के नाम से बनवा रहा है। यही नहीं, भारतीय टीम की इस महिला कप्तान के मां-बाप को न्यूनतम मजदूरी तक मयस्सर न होना भी चिंता का विषय है।

अष्टम के पिता हीरा उरांव ने कहते हैं कि मजदूरी नहीं करेंगे तो परिवार का पेट भला कैसे भरेगा जबकि मां तारा देवी को खुशी है कि बेटी भारत की कप्तान बन गई है। वह बताती हैं कि अष्टम शुरू से ही जुझारू रही है, वह जिस काम को ठान लेती है उसे पूरे मन के साथ करती है। मां ने कहा कि अपनी बेटी को गरीबी के कारण पानी भात और बोथा साग खिलाकर बड़ा किया है। जब उनकी बेटी नौकरी करने लगेगी तो वह दिहाड़ी मजदूरी का काम छोड़ देंगे।

जिला खेल पदाधिकारी कुमारी हेमलता गुण तथा प्रखण्ड विकास पदाधिकारी छन्दा भट्टाचार्य ने कहा कि अष्टम के सम्मान में जिला प्रशासन की ओर से उसके घर तक सड़क निर्माण का कार्य कराया जा रहा है। लेकिन उसके माता-पिता उसी सड़क के निर्माण में मजदूरी कर रहे हैं, इस सवाल के जवाब में कहा कि कोई काम छोटा नहीं होता है। साथ ही कहा कि जिला प्रशासन के स्तर पर अष्टम के घर पर टीवी और इनवर्टर लगवा दिया है ताकि उसके घर वाले भी मैच का सजीव प्रसारण देख सकें। प्रशासन के स्तर से आने वाले समय में अष्टम के सम्मान में स्टेडियम भी बनाया जाएगा।

यह भी पढ़ें: अलविदा मुलायम! सैफई का लाल सैफई की धरती पर पंचतत्व में विलीन

Related posts

Independence Day: जरा याद करो कुर्बानी: आजादी के दीवाने 146 गुमनाम शहीदों को याद करेगी भारत सरकार

Sumeet Roy

Giridih में बड़ा हादसा, चार बच्चों की नदी में डूबने से मौत, मातम में बदला छठ का उत्साह

Manoj Singh

World Elephant Day: नहीं बन सकते ‘हाथी मेरे साथी’, झारखंड में हाथियों और इंसानों के बीच लगातार बढ़ रहा द्वंद्व

Sumeet Roy