समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर राजनीति

Jharkhand Politics: Jharkhand में भी होगा ‘खेला’? CM Hemant Soren की कुर्सी पर मंडरा रहा खतरा! तेज हुईं सियासी अटकलें

image source : social media

Jharkhand Politics: झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन (Hemant Soren)को सीएम पद छोड़ना पड़ सकता है। खनन लीज आवंटन मामले(Mining Lease Allotment Cases) में चुनाव आयोग(Election Commission) में सुनवाई पूरी हो चुकी है। सूत्रों की मानें तो 15-से 20 दिनों में आयोग फैसला दे सकता है। यदि हेमंत सोरेन सोरेन को अयोग्य घोषित किया जाता है तो इस स्थिति में उन्हें मुख्यमंत्री का पद छोड़ना पड़ सकता है। अब ऐसे में सियासी अटकलों का दौर शुरू हो गया है और प्रदेश की राजनीति की सरगर्मी बढ़ गई है। उधर बीजेपी ने दावा किया है कि सोरेन की जगह उनकी पत्नी कल्पना को सूबे की बागडोर सौंपी जा सकती है।

image source : social media
image source : social media

कुल 11 विधायक अनुपस्थित रहे

शनिवार को सीएम ने सत्तारूढ़ दलों के विधायकों की बैठक महागठबंधन दल के विधायकों को एकजुट रखने के लिए बुलाई थी। सीएम बैठक के दौरान कुल 11 विधायक अनुपस्थित रहे जिसके बाद से सियासी अटकलें तेज हो गईं। इतना ही नहीं सियासी गलियारे में तो सरकार पर संकट की चर्चा भी चलने लगी है। वहीं कुछ विपक्षी नेताओं का मानना है कि कहीं भाजपा कोई खेल न कर दे, इसलिए सभी एमएलए को झारखंड छोड़ने से मना किया गया है।

image source : social media
image source : social media

निशिकांत दुबे ने ट्वीट कर किया दावा 

हालांकि बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे ने दावा किया है कि झारखंड में भाभी की ताजपोशी कराई जाएगी। उन्होंने ट्वीट कर कहा था कि, ‘झारखंड में भाभी जी के ताजपोशी की तैयारी, परिवारवादी पार्टी का बेहतरीन नुस्खा गरीब के लिए।’ इससे पहले बीजेपी सांसद ने बरहेट और दुमका विधानसभा में उपचुनाव होने का दावा किया था। उन्होंने कहा था, ‘झारखंड मुक्ति मोर्चा औरो कांग्रेस दिल्ली- रांची क्यों दौड़ रहा है रे भाई। हम बोले बरहेट, दुमका विधानसभा में उपचुनाव होगा तो हमको कांके भेज रहे थे? अब तो विधानसभा अध्यक्ष को कनाडा जाने से रोक दिए? इस्तीफे विकल्प है, दैइए दीजिए।’

“बीजेपी की कोई भूमिका नहीं”

वहीँ बीजेपी ने वर्तमान हेमंत सोरेन सरकार को अस्थिर करने की साजिश के सवाल पर साफ़ कहा है कि उनकी सरकार पर संकट उनके परस्पर अंतर्विरोध और पनपे अविश्वास को लेकर खड़ा हुआ है, इसमें बीजेपी की कोई भूमिका नहीं है।

ये भी पढ़ें : Zero tolerance against Corruption: निलंबित अभियंता प्रमुख रास बिहारी सिंह के विरुद्ध दर्ज होगा PE, CM Hemant Soren का अनुमोदन

 

Related posts

बिहार के डाटा ऑपरेटर ने मोदी, शाह, सोनिया, प्रियंका को ‘टीका’ क्या लगा दिया मंगल की पड़ गयी ‘शनि दृष्टि’

Pramod Kumar

Jharkhand: साहिबगंज में मास्क पहन कर निकलें, नहीं तो होगी ‘थोपा-थोपी’, विश्वास नहीं तो देखिये वीडियो

Pramod Kumar

CWC Meeting: परिवारवाद के भंवर में फिर कांग्रेस की नाव, सोनिया ने कमान रखी अपने हाथ, राहुल कर रहे विचार

Pramod Kumar