समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर राजनीति

Jharkhand Politics: झारखंड में पक रही नई खिचड़ी…हो सकती है सियासी उठापटक!

image source : social media

न्यूज़ डेस्क/ समाचार प्लस, झारखंड- बिहार 

Jharkhand Politics: झारखंड (jharkhand) में राष्ट्रपति चुनाव के दौरान कांग्रेस के नौ विधायकों का पार्टी लाइन से हटकर क्रॉस वोटिंग करना यह स्पष्ट संकेत देता है कि कांग्रेस के अंदरखाने सबकुछ सामान्य नहीं है। राष्ट्रपति चुनाव में क्रास वोटिंग के बाद विधायकों से संपर्क का प्रयास तेज कर दिया गया है। आशंका है कि ये कहीं bjp में शामिल ना हो जाएं ।

मुलाकात के कई सियासी मायने ढूंढे जा रहे 

ऑफिस ऑफ प्रॉफिट और शेल कंपनियों में भागीदारी के मामले में परेशान चल रहे  मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन (hemant soren) पिछले दिनों दिल्ली में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह(amit shah) से मुलाकात की थी, जिसके बाद इस मुलाकात के कई सियासी मायने ढूंढे जाने लगे हैं। गौरतलब है कि  झारखंड में पहले भाजपा और झामुमो के गठबंधन की सरकार चल चुकी है। इसलिए कांग्रेस भली- भांति यह जानती है कि मुख्यमंत्री पर अनावश्यक  दबाव दिया गया तो वह नया समीकरण ढूंढ सकते हैं। हालाँकि दोनों दल के नेता इस तरह की बातों से हमेशा से इनकार करते रहे हैं।

image source : social media
image source : social media

  सियासी कडुवाहट कम होती दिख रही 

जून के महीने में सीएम हेमंत सोरेन ने केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की थी,  उस मुलाकात के बाद हेमंत सोरेन के र्रांची लौटने के बाद वह पुरानी सियासी  कटुता नजर नहीं आ रही है। इससे ये संकेत मिल रहे हैं कि बीजेपी और जेएमएम दोनों दल एक दूसरे के काफी करीब आ रहे हैं।वैसे भी राजनीति (Jharkhand Politics) में ना तो कोई किसी का स्थायी दोस्त होता है ना ही कोई स्थायी दुश्मन।

जेएमएम भाजपा गठबंधन की सरकार राज्य में पहले भी बन चुकी है 

जेएमएम और बीजेपी इससे पहले भी 2012 में राष्ट्रपति चुनाव के वक़्त राज्य में गठबंधन की सरकार चला रहे थे। उस दौरान जेएमएम ने बीजेपी समर्थित प्रत्याशी पीए संगमा कि जगह यूपीए प्रत्याशी प्रणव मुख़र्जी को समर्थन दिया था। इसके बाद जेएमएम ने समर्थन वापस ले लिया था और बीजेपी की सरकार को गिरा दिया था और फिर congress के समर्थन से सरकार बनाकर राज्य में सरकार बनाई थी।

अंतर्कलह से भी ग्रसित है जेएमएम

वरिष्ठ जेएमएम नेता और गुरूजी के भक्त माने जाने वाले लोबिन हेंब्रम अक्सर अपनी ही सरकार को घेरे में ले लेते हैं. वहीँ सीता सोरेन भी सरकार पर प्रश्नचिन्ह  खड़े करती रही है. इसके अलावा पार्टी के कई कई दिग्गज विधायक जो पार्टी से असंतुष्ट चल रहे हैं. ना जाने कब ये भी पाला बदल लें इस बात भी सम्भावना बनती दिख रही है।

 ये भी पढ़ें : Cyber ​​Fraud: प्रोफाइल पर लगाया झारखंड हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस का फोटो, फिर अधिकारी से कर ली डेढ़ लाख की ठगी

 

Related posts

Kohbar and Sohrai painting: गौरव का पल, दिल्ली में राजपथ पर दिखेंगी हजारीबाग की सोहराय और कोहबर कलाकृतियां

Manoj Singh

COVID -19 से कई जिंदगियां बर्बाद, बच्चों का जीवन दांव पर लगा देखना हृदय-विदारक: SC

Manoj Singh

राष्ट्रपति Ramnath Kovind ने ग्रुप कैप्टन Abhinandan Vardhman को किया वीर चक्र से सम्मानित, मार गिराया था पाक का एफ-16 फाइटर जेट

Sumeet Roy