समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर राजनीति

Jharkhand Political Crisis: झारखंड के विधायकों को दारू-मुर्गा खिला रहे हैं सीएम बघेल, छत्तीसगढ़ अय्याशी का अड्डा नहीं… पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह ने सीएम पर साधा निशाना

image source social media

झारखंड (Jharkhand) के सत्ताधारी दल के विधायक छत्तीसगढ़ (chattisgadh) पहुंचे हैं. जिन्हें यहां के मेफेयर होटल में ठहराया गया है. बीजेपी नेता रमन सिंह (Raman singh) ने इस पर कड़ी प्रतिक्रिया दी है. राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह ने सीएम भूपेश बघेल(bhupesh baghel) पर निशाना साधते हुए  ट्वीट कर कहा है-भूपेश जी कान खोलकर सुन लीजिए! छत्तीसगढ़ अय्याशी का अड्डा नहीं है, जो छत्तीसगढ़ियों के पैसे से झारखंड के विधायकों को दारू-मुर्गा खिला रहे हैं.

image source:social media
image source:social media

सूत्रों से मिली  जानकारी के अनुसार  मंगलवार को झारखंड में सत्तारूढ़ संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (UPA) के विधायक एक विशेष विमान से छत्तीसगढ़ पहुंचे. राज्य में जारी राजनीतिक संकट के बीच रांची से उन्हें एयरलिफ्ट किया गया,  माना जा रहा है कि यह कदम भारतीय जनता पार्टी (BJP) के कथित खरीद फरोख्त के प्रयासों की आशंकाओं  से बचने के लिए उठाया गया है .

छत्तीसगढ़ आबकारी विभाग की गाड़ी से पहुंची महंगी शराब ! 

आलीशान होटल में ठहराए गए विधायकों की हर सुख सुविधा का पूरा ध्यान रखा जा रहा है. सोरेन सरकार के विधायकों पर आरोप लगा है कि होटल में उनके लिए शराब का इंतजाम किया गया है. दावा ये किया जा रहा है कि छत्तीसगढ़ आबकारी विभाग की एक गाड़ी शराब की पेटियों को लेकर मेफेयर रिसॉर्ट पहुंची है. गाड़ी के जरिए वहां रुके विधायकों के लिए ये महंगी शराब लाई गई है. अभी तक किसी भी विधायक ने दावों पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है, लेकिन छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह ने सरकार और विधायकों को आड़े हाथ लेने का काम किया है.

यह राजनीति में होता है-मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन

81 सदस्यीय विधानसभा में सत्तारूढ़ गठबंधन के 49 विधायक हैं. मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने हवाई अड्डे से बाहर आने के बाद संवाददाताओं से कहा, ‘यह आश्चर्यजनक कदम नहीं है. यह राजनीति में होता है. हम किसी भी स्थिति का सामना करने के लिए तैयार हैं.’

विधायकों की खरीद फरोख्त का खतरा!

झारखंड मुक्ति मोर्चा (JMM) का मानना ​​है कि भाजपा ‘महाराष्ट्र रिपीट की यहां प्रबल संभावना है , उनका मानना है कि JMM और कांग्रेस से विधायकों की खरीद फरोख्त के लिए गंभीर प्रयास हो सकते हैं , इसलिए  विधायकों को सुरक्षित रखने की आवश्यकता है. लाभ के पद के मामले में सोरेन को विधानसभा की सदस्यता से अयोग्य ठहराने की भाजपा की याचिका के बाद, निर्वाचन आयोग ने 25 अगस्त को राज्य के राज्यपाल रमेश बैस को अपना फैसला भेज दिया है. हालांकि, निर्वाचन आयोग के फैसले को अभी आधिकारिक तौर पर जारी नहीं किया गया है, लेकिन चर्चा है कि निर्वाचन आयोग ने मुख्यमंत्री को विधायक के रूप में अयोग्य घोषित करने की सिफारिश की है.

ये भी पढ़ें :Jharkhand: एसिड अटैक में घायल बच्ची को बेहतर इलाज के लिए सरकार एयर लिफ्ट कर दिल्ली करेगी शिफ्ट

 

Related posts

बंगाल की खाड़ी में बना साइक्‍लोनिक सर्कुलेशन, Jharkhand के इन जिलों में 11 सितंबर को होगी भारी बारिश

Manoj Singh

ATM से पैसा निकालने का बदल गया नियम, जान लीजिए वरना अटक जाएगा पैसा

Manoj Singh

मोदी सरकार के ‘आरक्षण बिल की चाल’ में विपक्ष को चित करने की कितनी धार

Pramod Kumar