समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड बोकारो राँची

किसने बढ़ाया झारखंड का राजनीतिक पारा : क्या CM Hemant की सरकार सचमुच खतरे में?

CM Hemant

झारखंड में हेमंत सरकार को अस्थिर करने का मामला आते ही राज्य का राजनीतिक तापमान बढ़ा हुआ है.  बेरमो विधायक अनूप सिंह की शिकायत पर रांची के कोतवाली पुलिस ने 3 लोगों को गिरफ्तार किया है.  गौरतलब है कि शनिवार को झारखंड पुलिस ने हेमंत सोरेन सरकार को गिराने की कथित तौर पर साजिश रचे जाने का खुलासा किया है.  जहां राजधानी रांची के बड़े होटलों पर छापा मारकर तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है.  होटलों से भारी मात्रा में नकदी भी बरामद होने का दावा किया गया है.  वहीं गिरफ्तार हुए लोगों के परिजनों का कहना है कि उन्हें होटल से नहीं, बल्कि उनके घर से गिरफ्तार करके ले जाया गया है, उनपर लगाए गए आरोप झूठे हैं.

फिलहाल, पुलिस आरोपियों से पूछताछ कर रही है.  पुलिस का दावा है कि राज्य के विधायकों की खरीद-फरोख्त कर सरकार गिराने की साजिश रची जा रही थी.  पुलिस के मुताबिक, 22 जुलाई को बेरमो विधायक ने कोतवाली थाने में शिकायत दर्ज कराई थी कि सरकार को अस्थिर करने का प्रयास किया जा रहा है.  इसके बाद जांच और छापेमारी की गई.  इस दौरान तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है, जिन्होंने सरकार के खिलाफ साजिश करना कबूल किया है और कुछ राजनीतिक व्यक्तियों के संपर्क में रहने की बात स्वीकार की है.

झारखंड पुलिस जेएमएम का टूल किट न बने : बाबूलाल मरांडी

साजिश रचे जाने को लेकर विपक्षी दल भी अपने बयान के साथ सामने आ रहे हैं.  तीन लोगों की गिरफ्तारी पर भाजपा ने सरकार पर निशाना साधा है.  वहीं, राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता बाबूलाल मरांडी ने राज्य सरकार पर हमला करते हुए कहा कि झारखंड के हाई कोर्ट के सिटिंग जज की अध्यक्षता में SIT गठित कर मामले की जांच की जाए, जिससे दूध का दूध और पानी का पानी सामने आ सके.

उन्होंने कहा कि पुलिस और प्रशासन जेएमएम का टूल किट ना बने, क्योंकि राज्य में सरकार आती-जाती रहती है, वह सरकार के लिए काम करना बंद करे अन्यथा अंजाम भुगतने को तैयार रहे.  उन्होंने आगे कहा कि हेमंत सरकार कोयला, बालू, दारू, आयरन ओर और पत्थर से पैसे वसूल रही थी और अब पैसा वसूलने का नया क्षेत्र ढूंढ रही है.  वहीं महाराष्ट्र मॉडल को झारखंड मे उतारने की कोशिश कर रही है.  इसके उलट कांग्रेस ने इस मामले में पूरी तरह से चुप्पी साध ली है.  वही जेएमएम पल्ला झाड़ते हुए नज़र आ रही है,उनका कहना है कि मामला विचाराधीन है.  अब जो भी बोला जायेगा वह जांच के बाद पुलिस के द्वारा ही बोला जायेगा.

इसे भी पढ़े: CM Hemant Soren चाहते हैं Deoghar AIIMS में मिले स्थानीय लोगों को रोजगार

Related posts

Earth Day 2022: Google के Doodle में दिखा कैसे बदल रही धरती, पर्यावरण बचाना है तो खुद को बदलना होगा

Pramod Kumar

Supreme Court: जनप्रतिनिधियों पर दर्ज मुकदमे राज्य ले सकते हैं वापस, लेकिन हाई कोर्ट की मंजूरी जरूरी

Pramod Kumar

Jharkhand के राजनीतिक आसमान में ‘तूफान‘ आने से पहले की खामोशी?

Pramod Kumar