समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

Jharkhand: साहिबगंज अवैध खनन में एनजीटी की एंट्री, अंधाधुंध खनन के लिए राज्य सरकार को कोसा, ईडी को जांच का आदेश

Jharkhand: NGT's entry in Sahibganj illegal mining, cursing the state government for indiscriminate mining,

जिम्मेदार अधिकारियों पर आपराधिक मामले दर्ज हों – एनजीटी

न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

लगता है झारखंड भ्रष्टाचार का अभेद्य किला बन गया है। जांच एजेंसियां जहां भी हाथ डाल रही हैं, वहीं भ्रष्टाचार का दलदल निकल आ रहा है। सीबीआई, ईडी की ताबड़तोड़ छापेमारी इसका जीता जागता प्रमाण है। आलम तो यह है कि ‘जल-जंगल-जमीन’ का ब्रह्म वाक्य भी अपने रहनुमाओं के कारण शर्मिंदा हो चुका है। नेशनल ग्रीन ट्रिब्युनल (एनजीटी) अगर यह मान रहा है तो ऐसा कहना सर्वथा गलत न होगा। एनजीटी ने साहेबगंज की विंध्य पहाड़ियों में हो रहे अंधाधुंध अवैध खनन और उससे हो रहे पर्यावरण को नुकसान पर गहरी चिंता जतायी है। एनजीटी ने सिर्फ चिंता ही नहीं जतायी है, बल्कि अवैध खनन के कारण हो रहे पर्यावरण नियमों के खुलेआम उल्लंघन पर  प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) को जांच का आदेश दे दिया है। एनजीटी के अंदेशा है कि यह सारा खेल मनी लॉन्ड्रिंग का है।

एनजीटी चेयरपर्सन जस्टिस आदर्श कुमार गोयल ने झारखंड के मुख्य सचिव को साहिबगंज में हो रहे पर्यावरण नियमों की खुलेआम अनदेखी करने वालों के साथ जिम्मेदार अधिकारियों पर आपराधिक मामले दर्ज करने का आदेश दिया है। एनजीटी ने साथ ही यह भी चिंता जतायी है कि कहा कि साहिबगंज का राजमहल हिल्स खनिज संपदा से भरपूर क्षेत्र है। इससे अमूल्य सम्पदा को भी नुकसान पहुंच सकता है। लेकिन एनजीटी का असल ध्यान मनमाने तरीके से हो रहे खनन को लेकर है जिसमें पर्यावरण नियमों का बिल्कुल भी ख्याल नहीं रखा जाता।

राज्य में जब रघुवर सरकार थी तब भी एनजीटी ने इस क्षेत्र के लिए आदेश जारी किये थे। एनजीटी ने 6 जुलाई 2017 और 17 अप्रैल 2018 को आदेश जारी कर पर्यावरण नियमों का पालन करने का आदेश दिया था। लेकिन स्थिति में कोई सुधार नहीं हुआ। मजे की बात है कि नियमों की बड़े पैमाने पर उल्लंघन के बावजूद कोई कार्रवाई नहीं की गई है। एनजीटी ने जो आंकड़े बताये हैं उसके हिसाब से 2019 में इस इलाके में 407 स्टोन क्रशर और 300 पत्थरों की खानें मौजूद थी। खैर, एनजीटी ने तो अपना काम किया, असल नाकामी तो राज्य सरकार की है जो अवैध खनन पर लगाम लगाने में असफल रही है।

यह भी पढ़ें: Bihar: मंगलवार रात 9.33 पर आया एक ट्वीट और ‘बच गये’ राजद नेता!

Related posts

Deoghar Ropeway Accident: देवघर में फिर शुरू हुआ रेस्क्यू ऑपरेशन, अब भी हवा में लटकी हैं कई जिंदगियां

Sumeet Roy

राज्यपाल ने दुमका और CM ने राजधानी में किया झंडोत्तोलन

Manoj Singh

Court Security PIL: HC ने सरकार से मांगी सुरक्षा के लिए उठाए जा रहे कदमों की जानकारी, DGP ने बताया -सुरक्षा में 1900 से ज्यादा पुलिसकर्मी लगाये गये

Manoj Singh