समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर राँची

Jharkhand News: भगवान बिरसा मुंडा की जन्मस्थली उलिहातू को मिला अंतरराष्ट्रीय पर्यटन स्थल का दर्जा

Jharkhand News: Ulihatu, birthplace of Lord Birsa Munda, got status international tourist destination

न्यूज़ डेस्क/ समाचार प्लस झारखंड- बिहार

Jharkhand News : झारखंड सरकार के पर्यटन कला संस्कृति खेलकूद व युवा कार्य विभाग ने राज्य के 31 नए पर्यटनस्थलों की घोषणा की है। इसमें भगवान बिरसा की जन्मस्थली खूंटी जिले के उलिहातू को अंतरराष्ट्रीय पर्यटन स्थल के रूप में घोषित किया है। इसके अलावा राज्य के नए पर्यटन स्थल की सूची में 9 राष्ट्रीय और 21 राजकीय पर्यटन स्थल हैं।

मंत्रालय ने नए पर्यटन स्थलों को चार श्रेणियों में बांटा है। चौथी श्रेणी स्थानीय टूरिज्म स्पॉट की है। झारखंड के पर्यटन विभाग ने 27 अक्टूबर को इस आशय की अधिसूचना जारी की है, जो जिलों को 6 नवंबर को मिली। सरकार के इस कदम से न केवल पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा, बल्कि रोजगार का भी सृजन होगा।

अंतरराष्ट्रीय पर्यटन स्थल : खूंटी का उलिहातू

राष्ट्रीय पर्यटन स्थल

प. सिंहभूम जिले का बेनीसागर, समीज आश्रम, थालकोबाद सारंडा जंगल, खूंटी का पेरवाघाघ, डोम्बारी बुरू, रिमिक्स फॉल, रामगढ़ का मायाटुंगरी, रांची का ट्राइबल म्यूजियम, राज्य संग्रहालय होटवार

इन्हें मिला राजकीय पर्यटन स्थल का दर्जा 

प. सिंहभूम जिले का महादेवशाल शिव मंदिर, नकटी जलाशय, कंसरा मंदिर, जोजोहातू गांव, रांची का सुतियाम्बेगढ़ पिठौरिया, लोहरदगा का केकरांग फाॅल, कोरांबे विष्णुपद मंदिर, नमोदाग रेलवे के 27 नंबर पुल के पास फॉल, नंदिनी जलाशय भंडरा, पझरी पहाड़, पलामू का मेदिनीनगर किला, गढ़वा का सुखलदरी फॉल, चतुर्भुजी भगवती मंदिर सहित 21 पर्यटन स्थलों की घोषणा की गई है। 31 नए पर्यटन स्थलों में 9 धार्मिक, 3 ऐतिहासिक, 7 झरने और 4 जलाशयों को शामिल किया गया है।

उलिहातू से ही भगवान बिरसा ने दी थी  क्रांति को नई दिशा 

सरकार की ओर से घोषित 31 नए पर्यटन स्थलों में 9 धार्मिक, 3 ऐतिहासिक, 7 झरने और 4 जलाशय शामिल हैं। प. सिंहभूम जिले के बेनीसागर में ऐतिहासिक महत्व की विरासत छिपी है तो भगवान बिरसा ने अपनी जन्मभूमि उलिहातू से क्रांति को नई दिशा दी थी। इसी तरह पलामू किला और देवघर का बुद्ध पहाड़ में भी ऐतिहासिक है।

आस्था के केंद्र हैं ये धार्मिक स्थल 

समीज आश्रम, डोम्बारी बुरू, मायाटुंगरी, महादेवशाल शिव मंदिर, कंसरा मंदिर, कोरांबे विष्णुपद मंदिर, चतुर्भुजी भगवती मंदिर, चित्रेश्वरधाम जैसे धार्मिक स्थल लोगों की आस्था के केंद्र हैं। यहां लोग अपनी मन्नतों को लेकर आते हैं। इनको पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने की मांग वर्षों से होती रही है। अब जाकर झारखंड सरकार पर्यटन कला संस्कृति विभाग ने इनको पर्यटन स्थल के रूप में घोषित किया है।

ये भी पढ़ें : Covid-19: दुनियाभर में कोरोना संक्रमित मामलों की संख्या 25 करोड़ के पार, अमेरिका सर्वाधिक प्रभावित

Related posts

दिल्ली के रोहिणी कोर्ट में शूटआउट: गैंगस्टर गोगी को बदमाशों ने मारा, पुलिस ने हमलावरों को किया ढेर

Pramod Kumar

बाबुल सुप्रियो ने भाजपा का छोड़ा दामन, अभिषेक बनर्जी की मौजूदगी में टीएमसी में हुए शामिल

Manoj Singh

सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की JPSC परीक्षा में उम्र सीमा छूट की मांग, झारखंड हाई कोर्ट का फैसला बरकरार

Manoj Singh

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.