समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर राँची

Jharkhand News : पढ़ाने के अलावा अब मास्टर साहब बेचेंगे मिड डे मील का बोरा! बोली भाजपा- निर्णय वापस ले सरकार

mid day meal ranchi school

न्यूज़ डेस्क /समाचार प्लस झारखंड -बिहार
Jharkhand News : पढ़ाने के अलावा शिक्षकों को कई तरह के कार्य करने पड़ते हैं. चुनाव कार्य, मतगणना, पशु गणना, आर्थिक सर्वे, राशन कार्ड सत्यापन, बीपीएल सर्वे, भवन निर्माण, चावल वितरण, डाटा एंट्री के कार्य में भी लगाया जाता है. शिक्षकों को शिक्षा विभाग समय-समय पर कार्य सौंपता रहता है.इसके बावजूद स्कूली शिक्षा और साक्षरता विभाग ने सभी जिला शिक्षा अधीक्षकों को एक आदेश जारी कर मिड डे मील योजना के तहत उपलब्ध खाद्यान्न के खाली बोरों का वर्षवार पंजी करने का आदेश जारी कर दिया है. यह भी कहा गया है कि खाली बोरों को बेचकर रिपोर्ट झारखंड राज्य मध्याह्न भोजन योजना प्राधिकरण को उपलब्ध करायें

शिक्षकों को दिया गया 15 दिनों का समय

शिक्षा विभाग के निर्देश पर मध्याह्न भोजन योजना प्राधिकरण की ओर से जिला शिक्षा पदाधिकारियों को एक पत्र भेजा गया है. जिसमें कहा गया है कि स्कूलों में एमडीएम से जुड़े खाद्यान्न के खाली बोरे इकट्ठा कर उसे बेचने की व्यवस्था सरकारी स्कूलों के शिक्षक करें. खाली बोरा बेचने के बाद जो राशि मिलेगी उसे सरस्वती वाहिनी संचालन समिति के खाते में जमा करने का आदेश भी जारी किया गया है. इस निर्देश के तहत 15 दिनों के अंदर यह काम करने का लक्ष्य दिया गया है.

बोरों को बेच कर हिसाब लेना दुर्भाग्यपूर्ण -बीजेपी

झारखंड सरकार अब शिक्षकों से बोरा बेचवाने का जो निर्णय ली है वह दुर्भाग्यपूर्ण है।पहले से ही शिक्षकों को चुनाव कार्य में लगाया जाता रहा है और स्कूल भवन का ठेकेदार तक सरकार ने बना दिया है।अब उनसे मिड डे मील के लिए आए अनाज के बोरों को बेच कर हिसाब लेना इस सरकार की सोच को दर्शाता है।

सरकार अविलंब इस निर्णय को वापस ले- भाजपा

झारखंड भाजपा प्रदेश प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव ने कहा है कि जिनके जिम्मे पूरे राज्य के बच्चों में शिक्षा का अलख जगाना है, वो अब बोरों की गिनती और उसकी बिक्री पर ध्यान देते रहेंगे। उन्होंने कहा है कि सरकार अविलंब इस निर्णय को वापस ले।

 

मुख्यमंत्री को कराया जाएगा मामले से अवगत

इस निर्देश के बाद राज्य के निजी स्कूलों के शिक्षकों में भी आक्रोश है. उनकी मानें तो राज्य सरकार पठन-पाठन के अलावा इन शिक्षकों से कई तरह के काम ले रही है. जिससे बच्चों का पठन-पाठन बाधित हो रहा है. इस ओर शिक्षा विभाग का ध्यान नहीं है. यह मामला काफी गंभीर है. वहीं मामले को लेकर शिक्षक गोलबंद होंगे और शिक्षकों से जुड़े संघ मुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री से मुलाकात कर इस पर संज्ञान लेने की अपील करेंगे.

ये भी पढ़ें : राष्ट्रीय कार्यकारिणी में भाजपा की बन गयी रणनीति, विधानसभा चुनाव के अग्रिम मोर्चे पर रहेंगे पीएम मोदी

 

Related posts

मनातू थाना प्रभारी हमला मामले में 10 गिरफ्तार, भेजे गए जेल

Manoj Singh

Engineer’s Day 2021: जानिए,कौन था वो जिसने ट्रेन में बैठते ही बता दिया पटरी टूटी है

Manoj Singh

जम्मू-कश्मीर के पुंछ में आतंकियों से मुठभेड़, JCO समेत सेना के 5 जवान शहीद

Manoj Singh

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.