समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर राँची

Jharkhand: गर्मी आते पानी की चिंता! समीक्षा बैठक कर मिथिलेश ठाकुर ने अधिकारियों को दिये आवश्यक निर्देश

Jharkhand: Mithilesh Thakur gave necessary instructions to the officials on the problem of water

न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

राज्य के पेयजल एवं स्वच्छता मंत्री मिथिलेश ठाकुर ने सभी विभागीय पदाधिकारियों को यह निर्देश दिया है कि गर्मी के मौसम में राज्य के लोगों को पानी की किल्लत का सामना ना करना पड़े इसके लिए व्यापक कार्ययोजना बनाकर कार्य प्रारंभ किया जाए। वह पेयजल एवं स्वच्छता विभाग की समीक्षा बैठक में बोल रहे थे।

विभागीय मंत्री नए पदाधिकारियों को निर्देश दिया के खराब पड़े चापानलों की मरम्मत अभियान मोड में शुरू कराई जाए साथ ही अधूरी पड़ी जलापूर्ति योजनाओं का समय निर्माण पूर्ण हो सके इसके लिए संवेदकों के साथ सामंजस्य स्थापित कर त्वरित गति से काम सुनिश्चित किया जाए। बैठक में मंत्री मिथिलेश ठाकुर ने सभी को निर्देश दिया कि आसन्न गर्मी में पूरे राज्य में कहीं भी पेयजल की समस्या नहीं होनी चाहिए। मंत्री ठाकुर ने अभियन्ताओं को सख्त हिदायत देते हुये कहा कि गर्मी के दिनों में राज्य के किसी भी भाग में पानी की किसी भी प्रकार की समस्या से संबंधित कोई भी शिकायत नहीं आनी चाहिये। यदि काई शिकायत किसी भी माध्यम से मुझे मिलती है तो इसके लिये संबंधित कनीय अभियन्ता, सहायक अभियन्ता, कार्यपालक अभियन्ता एवं अधीक्षण अभियनता जिम्मेवार होंगे एवं दोषी के विरूद्ध अनुशासनात्मक कार्रवाई की जायेगी। मंत्री ने कहा कि युद्ध स्तर पर अभियान चलाकर चापाकल मरम्मति कार्य शुरू कर आपूर्ति सुनिश्चित किया जाय तथा मरम्मति वाहन पर चापाकल मरम्मति वाहन एवं माबाईल नंबर लिखवाने का निर्देश दिया। मंत्री ने अभियन्ताओं को निर्देश दिया कि ग्रामीण क्षेत्रों में अवस्थित चापाकलों की साधारण मरम्मति एवं सड़े राइजर पाइप को बदलकर चापाकलों को दुरुस्त रखें ताकि गर्मी में आमजनों को पेयजल की किल्लत ना हो। मंत्री ने होली के अवसर पर क्षमता से अधिक निर्बाध जलापूर्ति का निर्देश दिया। इसके अलावा मंत्री ने विभाग के सभी अधिकारियों तथा अभियन्ताओं को आपसी समन्वय स्थापित कर कार्याें को ससमय पूरा करने को कहा है।

मंत्री ने समीक्षा बैठक में कहा कि एनओसी के अभाव में कार्य लंबित रहता है, इसलिए समय से पूर्व पथ निर्माण विभाग, वन विभाग, एनएचआई, डीवीसी, रेलवे आदि विभागों से व्यक्तिगत संपर्क कर ससमय एनओसी लेकर निर्धारित अवधि में कार्य संपन्न करायें। मंत्री ने अभियन्ताओं को कहा कि किसी भी योजना को साकार करने में किसी भी प्रकार की बाधा आती है तो वो सीधे उनसे सम्पर्क करें, वे खुद उसका समाधान करेंगे। मंत्री ने बैठक में यह भी कहा कि अभियन्तागण पारदर्शी तरीके से काम करें। उन्होंने कहा कि वर्ष 2024 तक राज्य के 59 लाख 23 हजार हाउस होल्ड तक नल से जल पहुँचाना है। इसलिए तीव्र गति से योजनाओं को संपन्न करायें। संवेदकों से समन्वय बनाकर ससमय कार्य पूर्ण करायें। मंत्री ने वैसे संवेदकों जिनका कार्य अवधि विस्तार के बाद भी संतोषजनक नहीं है, उन्हें अविलम्ब अंतिम स्मार पत्र देकर उन्हें दंडित करने का निर्देश दिया।

मंत्री मिथिलेश ठाकुर ने विभागीय सचिव को धनबाद जिलान्तर्गत निरसा उत्तर और निरसा दक्षिण बहु ग्रामीण जलापूर्ति योजना में हो रहे विलम्ब के कारण संबंधित एजेन्सी को टर्मिनेट कर नये सिरे से कार्य आरम्भ हेतु निविदा प्रकाशित करने का निर्देश दिया। इसके बाद मंत्री मिथिलेश ठाकुर ने सभी अधिकारियों एवं अभियन्ताओं को रंग-गुलाल लगाकर होली की शुभकामनाएं दीं।

यह भी पढ़ें:  Corona की चौथी लहर! केन्द्र सरकार अलर्ट मोड पर! पड़ोसी देशों में बढ़े केस से भारत में बढ़ा खतरा

Related posts

दिल्ली में सजा झारखंडी ग्रामीण महिलाओं के निर्मित उत्पादों का मेला, ‘पलाश’ की धूम

Pramod Kumar

Indian Women Hockey Team के लिए शोर्ड मारिन बने ‘चक दे इंडिया’ के ‘कबीर खान’, फिल्म दिखाकर किया प्रेरित

Sumeet Roy

झारखंड को फिल्म उद्योग से ‘प्रेम’ नहीं, तब क्या करेगा बेचारा ‘रांची रोमियो’, राज्य में रेंग भी नहीं रहा फिल्म उद्योग

Pramod Kumar