समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर राँची

Jharkhand: मांडर उपचुनाव: बंधु तिर्की की बेटी शिल्पी ने मांडर उपचुनाव का भरा पर्चा, नामांकन से पहले लिया गुरुजी का आशीर्वाद

Jharkhand: Mandar by-election: Shilpi, daughter of Bandhu Tirkey, filled the form for Mandar by-election

न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

मांडर विधानसभा उपचुनाव के लिए बंधु तिर्की की बेटी शिल्पी नेहा तिर्की ने नामांकन कर दिया है। शिल्पी ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन, झारखंड कांग्रेस प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडे, झारखंड प्रदेश अध्यक्ष राजेश ठाकुर, वित्तमंत्री रामेश्वर उरांव, मंत्री  आलमगीर आलम, सुबोधकांत सहाय, बादल पत्रलेख  व प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष बंधु तिर्की की उपस्थिति में अपना नामांकन  किया। इस मौके पर मांडर विधानसभा क्षेत्र से बड़ी संख्या में पार्टी कार्यकर्ता भी मौजूद थे। बता दें, कांग्रेस  सीट से लड़ रही शिल्पी नेहा तिर्की महागठबंधन की प्रत्याशी हैं।

कांग्रेस प्रत्याशी शिल्पी नेहा तिर्की नामांकन पहले पहले अपने पिता के साथ शिबू सोरेन के आवास पहुंचीं और उनका आशीर्वाद लिया। इतना ही नहीं, शिल्पी ने कांग्रेस प्रभारी अविनाश पांडे, वित्त मंत्री रामेश्वर उरांव समेत अन्य वरिष्ठ नेताओं का भी आशीर्वाद लिया। मालूम हो कि आय से अधिक सम्पत्ति के मामले में बंधु तिर्की की विधानसभा की सदस्यता चली गयी है, जिससे यह सीट खाली हो गयी थी। मांडर सीट के खाली होने के बाद उपचुनाव की घोषणा हुई है। बंधु तिर्की तीन बार मांडर विस से विधायक रह चुके हैं और अब उन्होंने अपनी विरासत बेटी को सौंप देना चाहते हैं।

मांडर में महागठबंधन की मुकाबले एनडीए का कौन-सा प्रत्याशी खड़ा होगा, यह अभी तय नहीं हुआ है।  देखना है कि भाजपा मांडर चुनाव को कितनी तरजीह दे रही है।

बता दें, शिल्पी तिर्की बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन में ग्रेजुएशन करने के बाद संत जेवियर्स कॉलेज मुंबई से डिप्लोमा इन मार्केटिंग कम्युनिकेशन में पोस्ट ग्रेजुएट है। डिग्री हासिल करने के बाद से वह ब्रांड मार्केटिंग मैनेजर के तौर पर काम कर रही थी।

यह भी पढ़ें: सोनिया गांधी कोरोना पॉजिटिव, कई कांग्रेसी भी चपेट में, हेमंत, अविनाश, ठाकुर, आलमगीर, शहजाह आये हैं मिलकर

Related posts

GST Council Meet: जेब को झटका! अब डिब्बा बंद दही-पनीर पर भी लगेगा GST, होटल में रुकने से लेकर खाना तक होगा महंगा

Sumeet Roy

मेकॉन के 1500 अधिकारी-कर्मचारियों की समस्याओं को लेकर केंद्रीय मंत्री से मिले सांसद संजय सेठ और बीडी राम

Pramod Kumar

आखिर सीएम Hemant ने 5 पूर्व मंत्रियों पर क्यों दिए ACB जांच के आदेश, जानिए पूरा मामला

Sumeet Roy