समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड लोहरदग्गा

Jharkhand: पिता की ‘शक की अग्नि’ में जली चार साल की मासूम, पत्नी के चरित्र पर था शक तो बच्ची को जला डाला

Jharkhand: Innocent burnt in father's 'fire of doubt', girl burnt in doubt

80 फीसदी तक जली बच्ची का रिम्स में चल रहा इलाज

न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

दुमका में जलाई जा रही बेटियों का सिलसिला अभी रुका नहीं था कि लोहरदगा में एक सनकी पिता के शक की भेंट उसकी की चार साल की मासूम बेटी चढ़ गयी। इस मासूम की सजा इतनी थी कि वह ऐसी मां की बेटी थी कि जिसके चरित्र पर उसके पिता को शक था। घटना किस्को थाना क्षेत्र स्थित कोचा बरनाग गांव की है जहां एक पिता ने अपनी चार साल की बेटी को जिंदा जला दिया। 80 फीसदी जली इस बच्ची को रिम्स रेफर किया गया है।

पप्पू तुरी नामक के इस शक्की व्यक्ति को अपनी पत्नी का किसी ओर के साथ अवैध संबंध का शक था। शुक्रवार की रात वह नशे की हालत में घर आया। पहले तो उसने अपनी पत्नी से झगड़ा किया और फिर चाकू से उसे मारने की कोशिश भी की। पत्नी तो जान बचा घर छोड़कर भाग गयी। इसके बाद पप्पू तुरी ने चार साल की बेटी को कमरे में बंद कर आग लगा दी। घटना में बच्ची गंभीर रूप से झुलस गई।

घर में आग लगा देख आसपास के लोगों ने किसी तरह बच्ची को बाहर निकाला। पहले तो गंभीर हालत में बच्ची को  लोहरदगा सदर अस्पताल ले जाया गया, वहां से प्राथमिक उपचार के बाद चिकित्सकों ने उसे रांची रिम्स रेफर कर दिया। घटना के बाद से ही आरोपी फरार है। खबर मिलने के बाद पुलिस आरोपी पिता की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी कर रही है। पुलिस ने सदर अस्पताल पहुंचकर बच्ची के परिजनों का बयान दर्ज कर लिया है। पुलिस पूरे मामले की जांच और आगे की कार्रवाई में जुट गई है।

यह भी पढ़ें: Jharkhand: 9 अक्टूबर को मैच देखने जा रहे हैं, पहले जान लें रांची का ट्रैफिक प्लान!

Related posts

तेनुघाट कोर्ट के आदेश को हाईकोर्ट ने किया खारिज, कहा- न्यायसंगत नहीं है डिस्चार्ज पिटीशन खारिज करना

Manoj Singh

बोले CDS – ‘अफगानिस्तान से कोई समस्या आती है, तो उससे वैसे ही निपटेंगे जैसे भारत में आतंकवाद से निपटते हैं’

Manoj Singh

High Court: सीबीआई ने कहा- प्रथम दृष्टया जज उत्तम आनन्द की मौत षड्यंत्र नहीं

Pramod Kumar