समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर बिहार

Jharkhand: लगातार बारिश से किसान मस्त, जनजीवन त्रस्त, अभी नहीं मिलेगी भारी बारिश से राहत

Jharkhand: Farmers are happy due to incessant rains, life is troubled, there will be more rain now

न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

सावन के आखिरी दिनों की बारिश और भादो के पहले पखवाड़े में हो रही लगातार और जोरदार बारिश से किसानों के चेहरे खिल उठे हैं। दूसरी ओर यह भारी बारिश आम जनजीवन के लिए आफत बन गयी है। क्योंकि जगह-जगह जलजमाव तो सरदर्द बना ही हुई है। तेज हवाएं चलने के कारण पेड़ों के टूट कर गिरने की कई घटनाएं राजधानी रांची और राज्य के दूसरे जिलों में हुई है। रांची में रांची विश्वविद्यालय कैंपस का पेड़ टूटकर सड़क पर गिरा है। बरियातू रोड में भी एक पेड़ सड़क पर गिर पड़ा। वहीं धुर्वा में शर्मा रोड में पेड़ गिरने से आवागमन ठप हो गया। मोरहाबादी मैदान में भी कई पेड़ तेज हवा से गिरे हैं। बारिश और तेज हवाओं का असर बिजली सप्लाई पर भी पड़ा है। कोकर, बरियातू, हरमू, हिनू, लालपुर सहित अन्य स्थानों पर बिजली आ-जा रही है। इस बारिश ने सड़क ही नहीं, हवाई यातायात भी रोक रखा है। कोलकाता से रांची आने वाली इंडिगो की फ्लाइट रद्द करनी पड़ी है। राज्य के दूसरे हिस्सों से भी बारिश से जनजीवन त्रस्त होने की खबरें आ रही हैं।

मौसम विभाग ने कहा अभी और होगी बारिश

मौसम विभाग के अनुसार झारखंड के कई जिलों में शनिवार को दोपहर तक भारी बारिश के आसार हैं। बंगाल की खाड़ी के उत्तरी हिस्से में बने निम्न दबाव के कारण उत्तर ओडिशा, बंगाल व झारखंड में बारिश के आसार बने हुए हैं।  निम्न दबाव बालासोर से 200 किमी दूरी पर है, जो बंगाल की खाड़ी होते हुए झारखंड की ओर आगे बढ़ रहा है। इस वजह से झारखंड के कई इलाकों में 20 अगस्त ,21 अगस्त और 22 अगस्त को राज्य के कुछ स्थानों में हल्के से मध्यम दर्जे की बारिश हो सकती है।

बिहार में कैसे हैं मौसम के हालात

बिहार में भी बारिश का असर देखा जा रहा है। मौसम विभाग ने बारिश की सम्भावना के साथ अलर्ट भी जारी किया है। मौसम विभाग ने राज्य के 20 जिलों में बारिश और वज्रपात की घटनाओं की सम्भावना जतायी है। फिर भी बिहार के कई जिलों में भारी बारिश के बाद भी राज्य के कई हिस्सों में सूखे की स्थिति बनी हुई है। इसी का जायजा लेने शुक्रवार को बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार निकले थे, लेकिन खराब मौसम की वजह से उन्हें वापस लौटना पड़ा। हो सकता है वह शनिवार को मुंगेर, लखीसराय और जमुई का हवाई सर्वेक्षण कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें: आबकारी के ‘खेल’ में फंसे मनीष सिसोदिया, सीबीआई ने मारा छापा तो बौखला गयी आप, पर आबकारी नीति पर चुपचाप

Related posts

Tokyo Olympics 2020 : दीपिका और जाधव की भारतीय जोड़ी क्वार्टर फाइनल में, दक्षिण कोरियाई जोड़ी से मुकाबला

Pramod Kumar

क्या आदिवासियों को मिल पाएगा उनका अलग धर्म कोड? जानें क्यों जरूरी है इनकी अपनी अलग पहचान

Manoj Singh

Ranchi: मुख्यमंत्री हेमंत ने सदर में आक्सीजन प्लांट और रिम्स में कोबास मशीन का किया उद्घाटन

Pramod Kumar