समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर राँची

Jharkhand: उत्पाद विभाग को मई 2022 में रिकॉर्ड 188 करोड़ का मिला राजस्व – विनय चौबे

  • राज्य में अब तक 1434 शराब की दुकानें उपलब्ध

  • पांच जिलों में आज से ट्रैक एंड ट्रेस सिस्टम लागू

न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

उत्पाद विभाग की नयी शराब नीति की वजह से राजस्व-संग्रहण में मई, 2022 में 70 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की गयी है जो एक रिकॉर्ड है। नयी नीति लागू होने के पूर्व अप्रैल 2022 में 109 करोड़ रु का राजस्व प्राप्त हुआ था, जबकि मई 2022 में 188 करोड़ रु. की प्राप्ति हुई। एक तरफ राजस्व में बढ़ोतरी हुई है, वहीं दूसरी ओर नीति में चार बिन्दुओं पर हुए बदलाव की वजह से सिस्टम में भी आमूल-चूल परिवर्तन आया है। ये बातें उत्पाद एवं मद्य निषेध विभाग के सचिव विनय कुमार चौबे ने उत्पाद विभाग के कौटिल्य सभागार में पत्रकारों को संबोधित करते हुए कही।

श्री चौबे ने बताया कि राज्य में नयी शराब नीति को लेकर 31 मार्च को संकल्प जारी किया गया था और एक महीने में नई नीतियों को तैयार कर 1 मई 2022 से राज्य में नई शराब नीति को लागू किया गया। एक महीने में सरकार को उत्पाद राजस्व में 188 करोड़ रुपये की प्राप्ति हुई है जो अब तक का रिकॉर्ड है। उन्होंने कहा कि नयी उत्पाद-नीति को राजस्व वृद्धि के अनूकूल बनाया गया है जिसमें तीन बिन्दुओं यथा थोक बिक्रेता, खुदरा बिक्रेता और बार संचालन को लेकर नयी नीतियां बनायी गयी हैं जबकि देसी शराब नीति में संशोधन किया गया है। साथ ही मैन पावर, सुरक्षा गार्ड, ऑडिट, ट्रांसपोर्ट आदि के लिये अलग-अलग एजेंसियों का चयन ऑनलाइन टेंडर के माध्यम से पारदर्शिता के साथ किया गया है। नीति में चेक्स एंड बैलेंस के बीच संतुलन बनाया गया है। पिछली बार सेल्स पर राजस्व का प्रावधान था जबकि इस बार की नीति में उठाव पर राजस्व का प्रावधान किया गया है, साथ ही शराब का जहां उत्पादन हो रहा है, हम नयी नीति के अनुरूप वहीं पर ऑनलाइन होलोग्राम देकर कोड उपलब्ध करा रहे हैं।

उत्पाद सचिव ने जानकारी देते हुए कहा कि वर्ष 2017 के अगस्त में नई उत्पाद नीति जब लागू की गयी थी, उस वक्त लागू होने के अगस्त महीने में सिर्फ 23 करोड़ के राजस्व की प्राप्ति हुई थी जबकि एक मई 2022 को लागू नीति के बाद 188 करोड़ का राजस्व प्राप्त हुआ है तो इस नीति की सफलता की कहानी का दस्तावेज है। उन्होंने कहा कि मई महीने में कंट्री लीकर की समस्या आई थी लेकिन आगामी दस दिनों के अन्दर इस समस्या से निजात मिल जायेगी। नियोजन नीति को लेकर उन्होंने कहा कि जिला स्तर पर कमेटी गठित कर दी गयी है, जो सतत प्रक्रिया के बाद अर्हता पूरी करने वालों का नियोजन करेगी।

उत्पाद आयुक्त अमित कुमार ने जानकारी दी कि वर्तमान में कुल 1434 दुकानें सक्रिय हैं और बीते एक महीने में 49 दुकानों में ट्रैक एंड ट्रेस सिस्टम पायलट प्रोजेक्ट के रूप में रन कर रहा है। उन्होंने बताया कि 1 जून से पांच जिलों रांची, जमशेदपुर, धनबाद, सरायकेला और बोकारो में भी ट्रैक एंड ट्रेस सिस्टम प्रारंभ किया जा रहा है। उक्त व्यवस्था लागू हो जाने से लिकेज की संभावना लगभग खत्म हो जायेगी।

यह भी पढ़ें: Jharkhand: महागठबंधन में ‘आल इज वेल’ या यह थी कोई स्क्रिप्टेड स्टोरी या…

Related posts

CBSE 10th-12th Exam 2022: 10वीं और 12वीं के छात्रों को झटका, SC ने रद्द की ये याचिका

Manoj Singh

Jharkhand News: भगवान बिरसा मुंडा की जन्मस्थली उलिहातू को मिला अंतरराष्ट्रीय पर्यटन स्थल का दर्जा

Manoj Singh

Jharkhand: मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन कल करेंगे झारखण्ड खेल नीति 2022 का विमोचन

Pramod Kumar