समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

Jharkhand: राज्यपाल रमेश बैस से मिलकर सीएम हेमंत ने किया राजनीतिक भ्रम दूर करने का आग्रह

Jharkhand: CM Hemant urges Governor to clear confusion

न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

अपने आप को मजबूत दिखाने की तमाम कोशिशें करने वाले झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के धैर्य का बांध आखिर टूट ही गया और मिलने पहुंच गये झारखंड के महामहिम राज्यपाल रमेश बैस से मिलने। झारखंड में पिछले तीन हफ्तों से कायम सियासी सस्पेंस को दूर करने का राज्यपाल रमेश बैस से आग्रह कर उन्होंने अपनी व्यग्रता आखिर व्यक्त तकर दी। हेमंत सोरेन ने करीब 40 मिनट चली मुलाकात में राज्यपाल से आग्रह किया कि राज्य में घातक अनिश्चितता का वातावरण बना हुआ है। इसलिए वह राज्य के संवैधानिक प्रमुख होने के नाते लोकतंत्र और संविधान की रक्षा के लिए उचित कदम उठायें।

मुख्यमंत्री सोरेन ने राज्यपाल को एक पत्र भी सौंपा  जिसमें उन्होंने कहा कि उनकी विधानसभा सदस्यता को लेकर भारत के निर्वाचन आयोग ने जो मंतव्य दिया है, उसकी कॉपी उन्हें उपलब्ध कराई जाये और इस मामले में जो भी सुनवाई हो, जल्द से जल्द की जाये।

अपने पत्र में हेमंत सोरेन ने राज्य की असामान्य परिस्थितियों का जिक्र करते हुए इसे भाजपा द्वारा रची गयी भूमिका बतायी है। उन्होंने कहा कि भाजपा चाहती है कि पत्थर खदान खनन पट्टा लेने के कारण उन्हें विधानसभा सदस्यता के अयोग्य घोषित कर दिया जाये। उन्होंने कहा कि जबकि सुप्रीम कोर्ट के पूर्व निर्णयों का के आधार पर खनन पट्टा लेने पर जन प्रतिनिधित्व अधिनियम, 1951 की धारा 9 ए के तहत अयोग्यता का मामला नहीं बनता है, लेकिन इसके बावजूद निर्वाचन आयोग ने भाजपा की शिकायत पर सुनवाई की है।

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने राज्यपाल से मुलाकात में पिछले दिनों विधानसभा में विश्वास मत हासिल किये जाने का भी जिक्र किया कि उनकी सरकार को पूर्ण बहुमत प्राप्त है, लेकिन सरकार को अस्थिर करने का प्रयास किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन दिल्ली रवाना

आज मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की रांची में दिनचर्या काफी व्यस्त रही। आज मुख्यमंत्री ने कई बैठकें कीं, कई प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात की, राज्यपाल रमेश बैस से मिले, अपने पिता झामुमो सुप्रीमो शिबू सोरेन से मुलाकात की और फिर वह दिल्ली के लिए उड़ान भी भर ली। खबर है कि दिल्ली में वह राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू से मुलाकात करेंगे और उनसे अनुरोध करेंगे की वह झारखंड के राज्यपाल रमेश बैस को निर्देश दे कि चुनाव आयोग के मंतव्य वाला जो लिफाफा उन्हें मिला है, उसे सार्वजनिक करें।

यह भी पढ़ें: Jharkhand: जिला परिषद अध्यक्षों ने मुख्यमंत्री से की त्रिस्तरीय पंचायती राज व्यवस्था को सुदृढ़ करने की मांग

Related posts

झारखंड समेत दूसरे राज्यों के छठव्रती देव में नहीं मना पायेंगे छठ, औरंगाबाद डीएम का आदेश

Pramod Kumar

World Nature Conservation Day 2021: आज करें ये काम तो बदल जायेगा पीढ़ियों का भविष्य

Sumeet Roy

Ukraine Crisis: भारतीय छात्रों का डर से बुरा हाल, दूतावास शरण के बदले दे रहा सलाह

Pramod Kumar