समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर राँची

Jharkhand: राज्यपाल के अभिभाषण से बजट सत्र आरंभ, विधानसभाध्यक्ष ने पक्ष-विपक्ष से की मर्यादा की उम्मीद

Jharkhand: Budget session begins, Speaker expects dignity from the opposition

न्यूज डेस्क/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

झारखंड विधानसभा का बजट सत्र आज से शुरू हो गया। राज्यपाल रमेश बैस के अभिभाषण के साथ झारखंड का बजट सत्र शुरू हुआ है। बजट सत्र में झारखंड विधानसभाध्यक्ष रवीन्द्रनाथ महतो ने पक्ष और विपक्ष के सभी विधायकों से सदन की मर्यादा का पालन करते हुए सदन की कार्यवाही में हिस्सा लेने का आह्वान किया है।

कोरोना महामारी से उबर रहा राज्य

विधानसभाध्यक्ष ने कहा कि पिछले दो वर्षों के दौरान कोविड मरामारी ने पूरी मानवता के अस्तित्व पर गहरा संकट पैदा कर दिया है। हमारी जीवन पद्धति में आमूल-चूल परिवर्तन इस महामारी के कारण आ गये हैं। परन्तु यह संतोष की बात है कि सरकार की सजगता और  टीकाकरण में लायी गयी तेजी के कारण यह महामारी तत्काल ढलान की ओर है। ऐसे में जनजीवन एवं आर्थिक गतिविधियों के सामान्य होने की भी संभावनाएं बढ़ी हैं।

3 करोड़ जनता को सरकार से अपेक्षाएं

विधानसभाध्यक्ष ने कहा कि राज्य सरकार के इस तीसरे बजट सत्र में हम सबों के साथ राज्य की साढ़े तीन करोड़ की आकांक्षाएं जुड़ी हैं। मुझे पूरी उम्मीद है कि इस बजट सत्र के माध्यम से हम राज्य में विकास की गति को और तेज कर पायेंगे और राज्य की साढ़े तीन करोड़ जनता के जीवन को और खुशहाल बना सकेंगे।

यूक्रेन संकट एक नया संकट

विधानसभाध्यक्ष ने कहा कि कोरोना महामारी के संभावित पटाक्षेप के बीच अंतरराष्ट्रीय परिदृश्य में रूस और यूक्रेन के बीच गहराते संघर्ष की छाया का विकास की हमारी आकांक्षाओं पर पड़ने की संभावना से भी इनकार नहीं किया जा सकता है। ऐसे में अंतरराष्ट्रीय बाजार के प्रभावित होने से लोगों के जन-जीवन पर जो प्रभाव संभावित हैं उसके निराकरण की जिम्मेवारी भी हम सब पर है।

सदन में सत्ता और विपक्ष की सार्थक और मर्यादित भूमिका जरूरी

विधानसभाध्यक्ष ने कहा कि सत्ता और विपक्ष की अपनी-अपनी सार्थक भूमिका है, जो प्रजातंत्र रूपी सरिता में निरंतर प्रवाहमान रहते हैं। सदन में जनप्रतिनिधि होने के नाते सभी मिलकर राज्य के विषय में चिंतन-मंथन करते हैं। सदन प्रजातंत्र का आधार स्तंभ है, जिसके द्वारा जनता विधानसभा में होने वाली कार्यवाहियों के माध्यम से सदन में अपने द्व्रारा चुने गये जनप्रतिनिधियों के आचरण और कार्यवाही में भागीदारी का आलकन करती है। हम सभी का यह दायित्व है कि अपने आचरण और व्यवहार को मर्यादित रूप में प्रस्तुत कर सदन के समय का सदुपयोग करने में अपनी सार्थक भूमिका निभायें जिससे जनपयोगी, जन सरोकार से संबंधित विभिन्न प्रश्नों को उठाने का अवसर मिल सके। मुझे पूर्ण विश्वास है, आप सभी का सकारात्मक सहयोग राज्य हित में निश्चित रूप से प्राप्त होगा।

बजट सत्र में 17 बैठकें निर्धारित

विधानसभाध्यक्ष ने कहा कि विधानसभा के इस बजट सत्र में कुल 17 बैठकें निर्धारित हैं, जिनमें सरकार द्वारा वित्तीय वर्ष 2021-22 के तृतीय अनुपूरक व्यय विवरणी तथा वित्तीय वर्ष 2022-23 का आय-व्ययक का उपस्थापन किया जायेगा। आप सभी माननीय सदस्यों को सदन में उपस्थापित होने वाले बजट की अनुदान मांगों पर कटौती प्रस्ताव के माध्यम से सरकार की योजनओं की समीक्षा एवं राज्यपाल के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा के दौरान सार्थक बहस के अवसर प्राप्त होंगे। बजट प्रस्ताव, अनुदान की मांगों और कटौती प्रस्ताव पर चर्चा के दौरान माननीय सदस्यों के कई जनोपयोगी और सार्थक सुझाव आते हैं, जिसे आने वाले वित्तीय वर्ष के बजट या चालू वित्तीय वर्ष के अनुपूरक बजट में समाविष्ट किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें: Ukraine Crisis: भारतीय छात्रों का डर से बुरा हाल, दूतावास शरण के बदले दे रहा सलाह

Related posts

Deoghar Ropeway Accident: तीसरे दिन भी फंसे लोगों को निकाल रहे एयरफोर्स के जवान

Pramod Kumar

चारा घोटाला मामले में सजायाफ्ता पूर्व सांसद डॉ. आर के राणा का निधन

Manoj Singh

Prashant Kishor फिलहाल नहीं बनाएंगे पार्टी, 2 अक्टूबर को शुरू करेंगे 3 हजार किलोमीटर की पदयात्रा

Manoj Singh