समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर राँची

RTI से खुलासा: मात्र 1 रुपये के अंतर से मिला था आरके कंस्ट्रक्शन को झारखंड भवन का करोड़ों का टेंडर!

jharkhand bhawan, picture-social media

Jharkhand Bhawan: रघुवर सरकार के कार्यकाल में रामकृपाल कंस्ट्रक्शन के माध्यम से बनाए गये सरकारी भवनों की गुणवत्ता और अनियमितता को लेकर लगातार सवाल खड़े हो रहे हैं. वर्ष 2016 में दिल्ली के कनॉट प्लेस में झारखंड भवन का निर्माण कार्य का शिलान्यास किया गया था. इस झारखंड भवन (Jharkhand Bhawan) के निर्माण कार्य में बरती गई टेंडर प्रक्रिया में अनिमियतता को लेकर अधिवक्ता सत्य प्रकाश ने RTI दाखिल किया था. जिसके माध्यम से उन्होंने कई जानकारियां जुटाईं. इस RTI में जो जानकारियां सामने आयी वह हैरत में डालने वाली हैं.

मुख्यमंत्री को लिखा पत्र

RTI दाखिल करने वाले अधिवक्ता सत्य प्रकाश के मुताबिक भवन निर्माण विभाग झारखंड सरकार के द्वारा उक्त कार्य के लिए जो BOQ की राशि निर्धारित की गई थी, वह 71 करोड़ 4 लाख 92 हज़ार 173 रुपये थी. कार्य के आवंटन के लिए जो बोली (L2) निर्धारित की गई थी. वह 63 करोड़ 94 लाख 42 हज़ार 955 रुपये थी. जो BOQ (बिल ऑफ़ क़्वान्टिटी) से 10 प्रतिशत कम थी. लेकिन जिस राम कृपाल सिंह कंस्ट्रक्शन प्राइवेट लिमिटेड कंपनी को इस कार्य का टेंडर मिला, उसने 63 करोड़ 94 लाख 42 हज़ार 954 रुपये का टेंडर भरा यानी L2 के लिए निर्धारित की गई राशि से मात्र एक रुपये कम. अब इसे महज संयोग कहा जाये या फिर कुछ और, यह जांच का विषय है.इस पूरे मामले का पर्दाफाश करते हुए मुख्यमंत्री को सभी डाक्यूमेंट्स के साथ पत्र लिखा गया है और इस पूरी निविदा प्रक्रिया की जांच की मांग की गई है.

निर्माण कार्य टेंडर के दो वर्ष के अंदर पूरा किया जाना था

गौरतलब है कि वर्ष 2016 में दिल्ली में झारखंड भवन के निर्माण की नींव रखी गई थी, लेकिन अब तक निर्माण कार्य पूरा नहीं हुआ है. टेंडर के मुताबिक दिल्ली के बंगला साहेब लेन में झारखंड भवन का निर्माण टेंडर के दो वर्ष के अंदर पूरा किया जाना था. लेकिन टेंडर होने के करीब 4 वर्ष बीत जाने के बाद भी अब तक सिर्फ लगभग 20 प्रतिशत काम ही पूरा हो पाया है. काम में हुई इस देरी से निर्माण में खर्च बढ़ जाने की संभावना जताई जा रही है.

 अब तक काम अधूरा है

वर्ष 2016 में ही दिल्ली में नये झारखंड भवन का शिलान्यास किया गया था. अत्याधुनिक तकनीक वाले निर्माण को पूरा करने के लिए दो साल का समय निर्धारित किया गया था, लेकिन पांच वर्ष बाद भी अब तक काम अधूरा है. हालांकि झारखंड के भवन निर्माण विभाग ने दावा किया था कि दिल्ली के कनॉट प्लेस में बन रहा नया झारखंड भवन इस वर्ष के अंत तक बनकर तैयार हो जायेगा.

ये भी पढ़ें : केंद्र सरकार के खिलाफ JMM का प्रदर्शन, कार्यकर्ताओं ने जमकर की नारेबाजी

Related posts

झारखंड में कोरोना का ब्रेक फेल, 482 नये मरीज मिलने से हड़कंप, 246 नये केस ने की रांची की हालत पतली

Pramod Kumar

पहली बार सुप्रीम कोर्ट के नौ जजों ने ली एक साथ शपथ, 3 महिला जज भी शामिल

Manoj Singh

National Press Day: सशक्त लोकतंत्र के निर्माण में मीडिया निभा रही अहम भूमिका

Annu Mahli