समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड देश फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

Jharkhand : पशु प्रेमियों के लिए Attractive Scheme, 5 लाख में हाथी, 3 लाख रुपये में बाघ, शेर और घड़ियाल ऐसे लें गोद

Jharkhand: Attractive scheme for animal lovers

न्यूज़ डेस्क/ समाचार प्लस झारखंड- बिहार

Jharkhand : ओरमांझी (ormanjhi) स्थित भगवान बिरसा मुंडा जैविक उद्यान प्रबंधन ने पशु प्रेमियों के लिए आकर्षक योजना पेश की है.अब आप 5 लाख रुपये में हाथी, 3 लाख रुपये में टाइगर, लायन और घड़ियाल, एक लाख रुपये में भालू और 25 हजार खर्च कर मोर को ‘अपना’ बना सकते हैं.लोग एक निश्चित राशि चुकाकर जैविक उद्यान (Biological Park) के जानवरों को गोद ले सकते हैं और इसके एवज में इनकम टैक्स पर छूट भी पा सकते हैं. कुछ साल पहले मशहूर सिने अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा (Priyanka Chopra) ने इस जैविक उद्यान में अनुष्का और दुर्गा नाम की बाघिन और सुंदरी नामक शेरनी को गोद लिया था.

गोद लेने वालों का नाम डिस्प्ले किया जाएगा

पशु प्रेमी एक निश्चित राशि चुकाकर यहां रह रहे किसी भी जानवर को साल भर के लिए गोद ले सकते हैं. इस राशि से जानवरों की बेहतरीन परवरिश तो होगी ही, इस योगदान के एवज में आयकर की धारा 80 जी के तहत छूट का भी प्रावधान उपलब्ध नहीं है. इतना ही नहीं, उद्यान परिसर में जानवरों को गोद लेने वालों का नाम डिस्प्ले किया जाएगा और डोनर्स एवं उनके परिवार के लोगों को पूरे साल नि: शुल्क प्रवेश दिया जाएगा.

जानवरों की देखरेख, इलाज और प्रशिक्षण में खर्च होंगे पैसे

जैविक उद्यान में हाथी, बाघ, शेर, दरियाई घोड़ा, चीता, स्लोथ, हिमालयन भालू, घड़ियाल, भेड़िया, चीतल, लंगूर, एमू, सांप सहित विभिन्न जीव-जंतुओं को गोद लिया जा सकता है. गोद लेने के एवज में चिड़ियाघर प्रबंधन को मिलने वाली राशि जानवरों की देखरेख, इलाज और प्रशिक्षण पर खर्च की जाती है.

परिवार में जिराफ और जेब्रा भी होंगे शामिल

लगभग 83 हेक्टेयर में फैले इस उद्यान में अभी 4 शेर, 10 बाघ और 8 तेंदुआ समेत कुल वन्य प्राणियों की संख्या 1498 है. इस उद्यान परिवार में जिराफ और जेब्रा भी शामिल होने वाले हैं. जिराफ कोलकाता के जूलोजिकल गार्डेन और जेब्रा द अफ्रीका से आएगा. इसके लिए सारी कागजी प्रक्रिया लगभग पूरी हो चुकी है.

ये भी पढ़ें : बुंडू के सूर्य मंदिर में दूर-दूर से छठव्रती आते हैं भगवान भुवन भास्कर को अर्घ्य अर्पित करने

 

Related posts

Shahadat Divas: झारखंड के राज्यपाल और मुख्यमंत्री ने अल्बर्ट एक्का को दी श्रद्धांजलि

Pramod Kumar

जातिगत जनगणना का फिलहाल प्रस्‍ताव नहीं, राज्‍यसभा में केन्द्रीय मंत्री वीरेंद्र कुमार ने दी जानकारी

Pramod Kumar

झारखंड : क्यों उठ रही है जातिगत जनगणना की मांग, आखिर क्या हैं इसके सियासी मायने? 

Manoj Singh

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.