समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर राँची राजनीति

Jharkhand News: झारखंड में फिर जोर पकड़ रही है विधानसभा की सीटों को बढ़ाने की मांग, सभी दल एकजुट

Jharkhand assembly

न्यूज़ डेस्क / समाचार प्लस झारखण्ड -बिहार

झारखंड (Jharkhand) में विधानसभा की सीटें बढ़ाने को लेकर राजनीतिक दलों की मांग एक बार फिर से जोर पकड़ने लगी है. सभी राजनीतिक दल विधानसभा की सीटें (Assembly Seats) बढ़ाने की मांग वाले मुद्दे पर एकजुट हैं. सियासी दलों का कहना है कि, राज्य में बढ़ी जनसंख्या के आधार पर सीटों को बढ़ाना चाहिए. झारखंड में विधानसभा की सीटों को बढ़ाकर 160 करने के मुद्दे पर सत्तारुढ़ झारखंड मुक्ति मोर्चा और कांग्रेस  को विपक्षी दल भाजपा  और आजसू का भी साथ मिल रहा है. राजनीतिक पार्टियों का कहना है कि, साल 2000 में अस्तित्व में आए झारखंड में पिछले 21 सालों में आबादी और वोटरों की संख्या में इजाफा हुआ है.

नई नहीं है मांग

बता दें कि, झारखंड विधानसभा की सीटें बढ़ाने की मांग नई नहीं है. इसके लिए 15 साल पहले यानी 15 जून 2005 में विधानसभा की कमेटी बनी थी. तत्कालीन भाजपा विधायक कड़िया मुंडा इस कमेटी के संयोजक थे. इस कमेटी ने अपनी रिपोर्ट में विधानसभा की सीटें 81 से बढ़ा कर 150 करने का प्रस्ताव तैयार किया था जिसको सदन का अनुमोदन मिला था और इसके बाद प्रस्ताव केंद्र सरकार को भेजा गया था. हालांकि, इस पर अभी तक कोई निर्णय नहीं हुआ है.

81 से बढ़कर 160 हो जाएगी विधायकों की संख्या !

झारखंड विधानसभा की सीटें 81 से बढ़ाकर 160 करने के लिए सत्तारुढ़ झामुमो और कांग्रेस के साथ-साथ विपक्ष दल भाजपा और आजसू एकजुट हैं. सबका कहना है कि सीटें हर हाल में बढ़नी ही चाहिए. पिछले 21 सालों में राज्य की आबादी और वोटरों की संख्या में इतना इजाफा हुआ है कि अब कोई विकल्प भी नहीं है. साथ बने दो राज्यों छत्तीसगढ़ और उत्तराखंड में भी विधानसभा की सीटें बढ़ायी जा चुकी हैं.

पांच बार राज्य से सर्वदलीय प्रस्ताव केंद्र को भेजा गया

झारखंड विधानसभा की सीटें बढ़ाने के लिए पांच बार राज्य से सर्वदलीय प्रस्ताव केंद्र को भेजा गया है. लेकिन अभी तक इस पर कोई निर्णय नहीं हुआ है. झारखंड विधानसभा ने अब तक पांच बार सीटें बढ़ाने की सिफारिश भेजी है. बहुमत से विधानसभा में यह प्रस्ताव पारित किया गया है. झारखंड विधानसभा के गठन से ही राज्य में सीटें बढ़ाने की बात कही गयी है. इस मुद्दे को लेकर विधानसभा के अंदर कई बार चर्चा हुई. 2002, 2004, 2005, 2007 और 2009 में प्रस्ताव सदन द्वारा भेजा गया. विधानसभा की ओर से सीटें बढ़ाये जाने की मांग होती रही है.

सांसदों ने पार्लियामेंट में भी उठाई है मांग

झारखंड विधानसभा में सीटों की संख्या बढ़ाने की मांग प्रदेश के सांसदों ने संसद में भी की थी. 2018 में कोडरमा के तत्कालीन सांसद रवींद्र कुमार राय ने इसे बढ़ाकर 150 करने की मांग की थी. उनकी इस मांग का सांसद विद्युत वरण महतो, वीडी राम और रामटहल चौधरी ने भी समर्थन किया था. झारखंड में विधान परिषद के गठन की भी मांग होती रही है. प्रदेश में ही कुछ दल विधानसभा की सीटें बढ़ाने के साथ-साथ विधान परिषद के गठन पर भी विचार की मांग कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें : Jharkhand Corona Update: गिरफ्तार व्यक्तियों के लिए थानों में बना Isolation Ward, एसएसपी ने जारी की गाइडलाइन

Related posts

गरीबी आज भी आंखों में, गांव के लिए कुछ कर गुजरना चाहती हैं अंतरराष्ट्रीय हॉकी प्लेयर संगीता कुमारी

Pramod Kumar

सीनियर भारतीय महिला हॉकी राष्ट्रीय कैंप के लिए निक्की, सलीमा समेत झारखंड की 6 खिलाड़ी चयनित

Pramod Kumar

लो मैं आ गया… 900 लोगों की नौकरी खाने में इस बंदे को नहीं लगे 9 मिनट, ऐसी है इसकी लग्जरियस लाइफ

Manoj Singh