समाचार प्लस
Breaking झारखण्ड देवघर फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

साइबर क्राइम में जामताड़ा पुराना नाम, देवघर के ‘साइबर बाबा’ क्राइम की गंगा में डूबे

Deoghar Cyber Crime

झारखंड से देवघर ब्यूरो शैलेन्द्र मिश्रा की रिपोर्ट/ समाचार प्लस – झारखंड-बिहार

साइबर अपराध के मामले में देश-विदेश के लोग अब तक जामताड़ा को जानते थे, लेकिन अब जामताड़ा पीछे छूट गया है और देवघर साइबर क्राइम में काफी आगे निकल गया है। जनवरी 2021 से 31 दिसम्बर 2021 तक साइबर क्राइम के 121 मामलों में 754 अपराधियों की यहां गिरफ्तारी हुई है। वही 12 लाख 16 हजार 400 रुपये नगद बरामद भी किये गये हैं।

देवघर की पहचान विश्व प्रसिद्ध द्वादश ज्योतिर्लिंगों में से एक बाबा वैद्यनाथ से है। लेकिन आजकल साइबर क्राइम का कुकर्म भी यहां खूब हो रहा है। साइबर क्राइम की जड़ इतनी गहरी हैं कि पुलिस हर दो-तीन दिनों में दर्जनों की संख्या में साइबर अपराधियों को गिरफ्तार करती है, फिर भी साइबर क्राइम है कि कम नहीं हो रहा है। देवघर पुलिस ने जनवरी 2021 से 31 दिसंबर 2021 तक 121 साइबर के मामलों में 754 साइबर अपराधियों की गिरफ्तारी किया है। वहीं 1272 मोबाइल, 1953 सिम, 493 एटीएम, 375 पासबुक, 1 1 आधार कार्ड, 1 पेन कार्ड, 92 चेकबुक, 20 लेपटॉप, 39 मोटरसाइकिल, 13 चारपहिया वाहन, 4 स्वाइप मशीन, 4 रोटर, 6 पॉश मशीनें, 12 लाख 16 हजार 400 रुपये नगद बरामद किये गये हैं।

‘इजी मनी’ कमाने के चक्कर में साइबर अपराधी बन रहे युवा – सुमीत प्रसाद

साइबर डीएसपी सुमित प्रसाद का कहना है कि ‘इजी मनी’ कमाने के चक्कर में युवा साइबर क्राइम की और भाग रहे हैं और अपनी लाइफ को बर्बाद कर रहे हैं। पुलिस साइबर अपराधियों के खिलाफ लगातार अभियान चला रही है। परन्तु एक न एक दिन तो ये पुलिस की गिरफ्त में जरूर आएंगे।

ठगी की कई तकनीकें अपनाते हैं साइबर अपराधी

पूरे एक साल में साइबर ठगी की कई तरह की तकनीक सामने आई हैं जिनमें प्रमुख हैं बैंक अधिकारी बन कर एटीएम बंद होने के नाम पर कस्टमर से ठगी करना। केवाईसी अपडेट के नाम पर, फोन पे, गूगल पे पर गिफ्ट देने, फंसे हुए पैसे रिफंड कराने, गूगल पर एड देकर बड़ी-बड़ी कंपनियों के फर्जी कस्टमर केयर नम्बर के सहारे भी ये ठगी करते हैं। फर्जी कंपनियों के कस्टमर केयर नंबर ये गूगल में डाल देते हैं। जब कोई कस्टमर गूगल पर कस्टमर केयर का नंबर सर्च करता है तो साइबर अपराधी का नंबर पहले दिखता है। जब वह कस्टमर उस नंबर पर कॉल करता है तो साइबर अपराधी मदद करने के नाम पर उसके एकाउंट से पैसे उड़ा लेते हैं। इसके अलावा रिमोट कंट्रोल एक्सेस ऐप माध्यम से भी ठगी की जाती है। साइबर क्राइम के मामले में बड़ी संख्या में सीएसपी संचालकों की भी गिरफ्तारी हुई है। वे लोग भी कमीशन लेकर छोटे-छोटे अकाउंट में साइबर का पैसा निकालने का काम करते हैं। सीएसपी संचालक के साथ लेपटॉप, स्वाइप मशीन, पॉश मशीन और राऊटर की बरामदगी भी हुई है। जिस प्रकार से देवघर में साइबर क्राइम बढ़ा है, यह देवघर पुलिस के लिए बहुत बड़ी चुनौती है।

यह भी पढ़ें: चीन अरुणाचल प्रदेश को मानता है अपनी संपत्ति, बदल दिये हैं 15 स्थानों के नाम, भारत को मंजूर नहीं

Related posts

तेजस्वी ने केंद्र सरकार और नीतीश पर साधा निशाना, बोले- कुंभकर्णी नींद में है डबल इंजन की सरकार

Manoj Singh

T-20 World Cup 2021: अब पाकिस्तान की टीम पहनेगी ‘INDIA’ की जर्सी, 24 अक्तूबर को है भारत से महामुकाबला

Pramod Kumar

JEE Advanced 2021: जेईई एडवांस परीक्षा कल, यहां पढ़ें जरूरी दिशा-निर्देश

Manoj Singh