समाचार प्लस
Breaking जामताड़ा फीचर्ड न्यूज़ स्लाइडर

झारखंड के जामताड़ा के बराकर नदी में नाव पलटने से 25 डूबे, 17 लोग लापता, रेस्क्यू ऑपेरशन जारी

जामताड़ा से अजय सिंह की रिपोर्ट

Jamtara News: जामताड़ा ज़िले के बराकर नदी पर बरबिंदिया- श्यामपुर- वीरगांव नदी घाट पर देर शाम नाव हादसे में 17 लोगों के लापता होने की खबरें आ रही हैं. इसी नदी पर मैथन डैम निर्मित है. ग्रामीणों का कहना है कि जहां नाव पलटी है उस जगह 40 फीट से ज्यादा गहरा पानी है.

मिली जानकारी के अनुसार बराकर नदी में शाम 5:30 बजे यात्रियों से लदी नाव बरबिंदिया घाट से श्यामपुर वीरगांव घाट आ रही थी. इसी बीच नाव के बराकर नदी के बीच में पहुंचते ही अचानक तेज आंधी और तूफान शुरू हो गया.जिसकी चपेट में नाव में सभी सवार लोग आ गए और नाव पलट गई.

बताया जा रहा है कि नाव में 30 से ज्यादा लोग सवार थे. जिसमें 17 लोगों के लापता होने की खबरें आ रही हैं. जिसमें कुछ छोटे बच्चे भी बताए जा रहे हैं. बताया जा रहा है कि सभी लोग धनबाद जिले के निरसा से लौट रहे थे. इसमें कुछ यात्री और दैनिक मजदूर तथा साइकिल से कोयला ढोने वाले लोग भी थे.

घटना की सूचना मिलते ही आसपास के ग्रामीणों का हुजूम नदी के तट पर लग गया है. ग्रामीण अपने स्तर से राहत कार्य शुरू किया है.रात हो जाने की वजह से राहत कार्य चलाने वाले ग्रामीणों को परेशानी हो रही है. समाचार लिखे जाने तक सरकारी स्तर से कोई राहत कार्य शुरू नहीं हो पाया था. जानकारी के अनुसार देवघर से एनडीआरएफ की टीम आ रही है उसके बाद ही राहत कार्य शुरू हो पाएगा.हालांकि मौके पर जामताड़ा थाना पुलिस मौजूद है.

पूरे मामले को लेकर कोई भी कुछ बोलने के लिए तैयार नहीं है. मौतों की अधिकारिक पुष्टि नहीं हो पाई है.

जिले के उपायुक्त फैज अहमद मुमताज ने घटना की पुष्टि करते हुए बताया कि नाव दुर्घटना हुई है. चार लोगों को रेस्क्यू किया गया है. जिसे इलाज के लिए अस्पताल भेजा गया है.

सीएम हेमंत सोरेन ने घटना पर जताया शोक

इसे भी पढ़ें: महिला का थैला लेकर भाग रहे 12 साल के बच्चे को लोगों ने खंभे से बांध कर पीटा, बचाने की जगह लोग बनाते रहे वीडियो

Related posts

तालिबान के पास अमेरिकी हथियारों का जखीरा, 8.84 लाख हथियार और फौजी साजो-सामान अफगानिस्तान छोड़ आया US

Manoj Singh

Reliance Jio का सर्वर हुआ ठप, यूजर्स नहीं कर पा रहे किसी सर्विस का इस्तेमाल

Manoj Singh

Destruction in Uttarakhand: बादल फटना प्राकृतिक घटना, पर्वतीय क्षेत्रों में तबाही मानव दखल का नतीजा

Pramod Kumar